Coronavirus In India: बेंगलुरु में कोरोना विस्फोट, कोलकाता में हर दूसरे शख्स की जांच रिपोर्ट पॉजीटिव

भारत में इस समय संक्रमण के सर्वाधिक मामले सामने आ रहे हैं और हर रोज 3 लाख से ज्यादा मामले दर्ज किए जा रहे हैं. फाइल फोटो

भारत में इस समय संक्रमण के सर्वाधिक मामले सामने आ रहे हैं और हर रोज 3 लाख से ज्यादा मामले दर्ज किए जा रहे हैं. फाइल फोटो

Coronavirus In India: कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में दिल्ली और मुबंई से भी ज्यादा कोरोना के एक्टिव केस हैं तो वहीं कोलकाता में संक्रमण दर बहुत तेजी से बढ़ रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 26, 2021, 1:40 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश के दो बड़े शहरों बेंगलुरु (Bengaluru Coronavirus) और कोलकाता (Coronavirus In Kolkata) में कोरोना संक्रमण की स्थिति गंभीर है. एक ओर कोलकाता में जहां संक्रमण दर 45 से 55 फीसदी के बीच पहुंच गया है, वहीं बेंगलुरु में पहली बार एक दिन में 20,000 से ज्यादा मामले आये हैं. नई दिल्ली के बाद बेंगुलुरु पहला भारतीय शहर है जहां एक दिन में 20,000 मामले पाए गए. कर्नाटक में इस समयावधि के दौरान 34,804 मामले पाये गये. राज्य में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर भयावह तरीके से फैल रही है.

अप्रैल महीने के दौरान दिल्ली में अब तक कई बार 25,000 से अधिक कोरोना के मामले पाए गए. 20 अप्रैल को सबसे ज्यादा 28,395 मामले पाए गए. बता दें सिर्फ बेंगलुरु शहरी जिला में इतने मामले पाये जा रहे हैं, जबकि दिल्ली के आंकड़े में इसके 11 जिले शामिल है.

बेंगलुरु में सबसे अधिक एक्टिव केस

कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु में सबसे अधिक एक्टिव केस हैं. मिली जानकारी के अनुसार 1,80,542 मरीज वर्तमान में अस्पतालों में और होम आइसोलेशन में इलाज करा रहे हैं. बेंगलुरु में मामलों के डरावने विस्फोट से विशेषज्ञ भी हैरान हैं.  वे बहुत सख्त उपायों की अपील कर रहे हैं. उनका कहना है कि अगर संक्रमण को और भयावह तरीके से फैलने से रोकना है तो पूर्ण लॉकडाउन लगाना होगा. बेंगलुरु में 15 अप्रैल से इलाज करा रहे रोगियों की संख्या 151.35 % की वृद्धि दर्ज की गई है. आज से 11 दिन पहले एक्टिव केस का आंकड़ा 71,827 था.
कोरोना संक्रमण के ज्यादा मामले पाए जाने की कड़ी ना टूटने की चलते बेंगलुरु,  दिल्ली (93,080 एक्टिव केस)  और मुंबई (75,498)  से आगे है. पिछले कुछ दिनों में बेंगलुरु का एक्टिव केस  एकाएक बढ़ा है और फिलहाल शहर में होने वाली कुल जांच का करीब 27.62% पॉजिटिव पाये जा रहे हैं.

कोलकाता में क्या हैं हालात?

वहीं पश्चिम बंगाल (West Bengal) की राजधानी कोलकाता (Kolkata) और उसके आसपास के इलाकों की बात करें तो यहां दूसरा व्‍यक्ति कोरोना जांच में संक्रमित पाया जा रहा है. इसके साथ ही राज्‍य के अन्‍य हिस्‍सों में हर 4 में 1 व्‍यक्ति आरटी-पीसीआर टेस्‍ट में कोरोना संक्रमित निकल रहा है. कोरोना के मामलों में यह पांच गुना बढ़ोतरी है. शुरुआत में हर 20 में से 1 व्‍यक्ति संक्रमित पाया जा रहा था.



अंग्रेजी अखबार टाइम्‍स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार एक लैब के डॉक्‍टर का कहना है कि कोलकाता और उसके आसपास के इलाकों में कोरोना की पॉजिटिविटी रेट 45 % से 55 % के बीच है. वहीं राज्‍य के अन्‍य हिस्‍सों में पॉजिटिविटी रेट 24 % है. यह महीने की शुरुआत में 5 % था..



रिपोर्ट के अनुसार डॉक्‍टर का कहना है कि वास्‍तविक पॉजिटिविटी दर कहीं अधिक होगी. अधिक संख्‍या में गैर लक्षणी और हल्‍के लक्षणी मरीज भी होंगे, जिन्‍होंने खुद की टेस्टिंग नहीं कराई होगी. हम पर्याप्‍त टेस्टिंग नहीं कर पा रहे हैं. हमें अधिक कोरोना जांच करने से पीछे नहीं हटना चाहिए, ये एक महत्‍वपूर्ण हथियार है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज