महामारीः लॉकडाउन, त्योहारों पर गाइडलाइंस, क्या कोरोना फिर लाएगा मुसीबत?

इससे पहले मुख्मंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ये घोषणा की थी कि राज्य में पूर्ण लॉकडाउन फिलहाल नहीं लगाया जाएगा. (प्रतीकात्मक फोटो)

इससे पहले मुख्मंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ये घोषणा की थी कि राज्य में पूर्ण लॉकडाउन फिलहाल नहीं लगाया जाएगा. (प्रतीकात्मक फोटो)

Coronavirus in India: स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई अहम मुकाम पर है और देश के कई हिस्सों में पिछले कुछ दिनों से मामलों और मौतों की संख्या में वृद्धि दर्ज की जा रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 24, 2021, 6:07 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में एक बार कोरोना वायरस संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. महाराष्ट्र में हालात चिंताजनक हैं, तो पंजाब, कर्नाटक और मध्य प्रदेश में संक्रमण की स्थिति ने प्रशासन को कड़े फैसलों के लिए मजबूर कर दिया है. हालत ये है कि महाराष्ट्र के दो जिलों में संपूर्ण लॉकडाउन है, तो मध्य प्रदेश में एक दिन का लॉकडाउन है और पंजाब सरकार ने भी कड़ी पाबंदियां लगाई हैं. केंद्र सरकार ने बुधवार को राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेश को आगामी त्योहारों के दौरान सार्वजनिक कार्यक्रमों पर स्थानीय स्तर पर पाबंदी या लोगों के बड़े पैमाने पर जमा होने से रोकने पर विचार करने को कहा है, ताकि महामारी को प्रभावी तरीके से रोका जा सके.

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक महाराष्ट्र और पंजाब की स्थिति बड़ी चिंताजनक है, क्योंकि राज्य में पिछले 24 घंटों में 28 हजार से ज्यादा केस सामने आए हैं, वहीं पंजाब में आबादी के अनुपात में रहे मामलों की संख्या काफी ज्यादा. उन्होंने कहा कि गुजरात और मध्य प्रदेश में भी हालात बदतर हैं. गुजरात में हर रोज 1700 से ज्यादा केस आ रहे हैं, जबकि मध्य प्रदेश में हर रोज 1500 से ज्यादा मामले हैं. उन्होंने कहा कि गुजरात में ज्यादातर मामले सूरत, अहमदाबाद, वड़ोदरा, राजकोट और भावनगर में हैं. वहीं मध्य प्रदेश में भोपाल, इंदौर, जबलपुर, उज्जैन और बैतुल में संक्रमण के मामले ज्यादा हैं.

क्या है केंद्र सरकार की सिफारिश

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई अहम मुकाम पर है और देश के कई हिस्सों में पिछले कुछ दिनों से मामलों और मौतों की संख्या में वृद्धि दर्ज की जा रही है. उन्होंने लिखा, ‘‘ ...होली, सबे बारात, बिहू, ईस्टर और ईद-उल-फितर जैसे आगामी त्योहारों को देखते हुए राज्यों को सलाह दी जाती है कि वे इन त्योहारों के दौरान लोगों के सार्वजनिक रूप से इन्हें मनाने या बड़े पैमाने पर लोगों के जमा होने से रोकने के लिए आपदा प्रबंधन अधिनियम-2005 की धारा-22 के तहत स्थानीय स्तर पर पाबंदी लगाने पर विचार करें.’’
महाराष्ट्र के दो शहरों में लॉकडाउन

कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए शुक्रवार से पाबंदियां और कड़ी कर दी गई हैं. महाराष्ट्र सरकार ने नागपुर और बीड में संपूर्ण लॉकडाउन का ऐलान किया है. साथ ही सभागारों को 31 मार्च तक 50 प्रतिशत क्षमता के साथ ही चलाने का निर्देश दिया है. सरकार ने कहा है कि अगर नियमों का उल्लंघन किया गया तो केंद्र की अधिसूचना तक महामारी खत्म होने तक उन्हें बंद किया जा सकता है. अधिसूचना में स्वास्थ्य एवं आवश्यक सेवा को छोड़ बाकी निजी कार्यालयों को 50 प्रतिशत क्षमता के साथ खोलने का निर्देश दिया गया है.

पंजाब में कड़ी पाबंदियां



पंजाब में कोरोना वायरस के मामले बढ़ने के बीच मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने शनिवार से राज्य में कई पाबंदियां लगाने के आदेश दिये, जिसमें सभी शैक्षणिक संस्थानों को मार्च तक बंद रखना और सिनेमाघरों और मॉल में लोगों की संख्या पर पाबंदियां लगाना शामिल हैं. सबसे ज्यादा प्रभावित 11 जिलों में सभी सामाजिक समारोहों पर पूर्ण प्रतिबंध का आदेश दिया गया है. इनमें अंतिम संस्कार/ विवाह समारोह शामिल नहीं है. हालांकि, इनमें केवल 20 लोग ही शामिल हो सकेंगे. 15 मार्च को राज्य सरकार की ओर से जारी अधिसूचना में सिनेमा हॉल, होटल, रेस्तरां और कार्यालयों को 50 प्रतिशत क्षमता के साथ चलाने को कहा गया था, सिवाय स्वास्थ्य एवं आवश्यक सेवाओं को छोड़कर लेकिन शुक्रवार के आदेश में नाटकशाला और सभागार को भी शामिल हो गया.

मध्य प्रदेश के तीन शहरों में लॉकडाउन

मध्य प्रदेश के तीन शहरों इंदौर, भोपाल एवं जबलपुर में रविवार को लॉकडाउन लगाया जा रहा है. सप्ताह के बाकी दिनों में भोपाल एवं इंदौर में बुधवार से रात 10 बजे से सुबह छह बजे तक रात्रिकालीन कर्फ्यू भी है, जबकि आठ अन्य शहरों जबलपुर, ग्वालियर, उज्जैन रतलाम, छिंदवाड़ा, बुरहानपुर, बैतूल एवं खरगोन में बुधवार रात्रि 10 बजे से सुबह छह बजे तक दुकानें एवं अन्य व्यवसायिक प्रतिष्ठान बंद किये गये हैं. लॉकडाउन के चलते भोपाल में दूध के बूथ, पेट्रोल पंप, किराने की दुकानें एवं सब्जी बाजार भी बंद रहे. वहीं, दवाइयों की दुकानें एवं अस्पताल खुले रहे. बीते रविवार को भोपाल में 196 दिनों बाद पूरा लॉकडाउन लगाया गया.

गुजरात सरकार ने पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र से आने वाले लोगों के लिए निगेटिव आरटी-पीसीआर जांच रिपोर्ट साथ लाना अनिवार्य कर दिया है और यह जांच 72 घंटे से पहले नहीं करायी गयी हो. राज्य सरकार ने कहा कि महाराष्ट्र में कोविड-19 के मामलों में भारी वृद्धि के मद्देनजर यह निर्णय लिया गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज