Home /News /nation /

क्या 31 दिसंबर तक पूरी आबादी को वैक्सीनेट कर पाएगी सरकार? जानें राज्यों का हाल

क्या 31 दिसंबर तक पूरी आबादी को वैक्सीनेट कर पाएगी सरकार? जानें राज्यों का हाल

बिहार ने अपनी 12.6% व्यस्क आबादी को टीके की पहली डोज दी है, जबकि 2.5% आबादी को दूसरी डोज मिली है.

बिहार ने अपनी 12.6% व्यस्क आबादी को टीके की पहली डोज दी है, जबकि 2.5% आबादी को दूसरी डोज मिली है.

Covid-19 Vaccination in India: देश की सबसे ज्यादा आबादी वाले पांच राज्य- उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु और मध्य प्रदेश में मौजूदा दैनिक औसत टीकाकरण की रफ्तार बढ़ाने की बड़ी चुनौती है. सरकार ने 31 दिसंबर 2021 तक पूरी आबादी को वैक्सीनेट करने के लिए सरकार को टीकाकरण की औसत दैनिक रफ्तार पांच गुना तक बढ़ानी होगी.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्ली. भारत में कोरोना वायरस (Coronavius Pandemic) को हराने के लिए केंद्र सरकार ने वैक्सीनेशन स्ट्रैटजी (Covid-19 Vaccination in India) में बड़े बदलाव किए हैं. सरकार ने 31 दिसंबर 2021 तक पूरी आबादी को वैक्सीनेट करने के लिए सरकार को टीकाकरण की औसत दैनिक रफ्तार पांच गुना तक बढ़ानी होगी. एक रिपोर्ट में ये जानकारी दी गई है. देश में 16 जनवरी को टीकाकरण अभियान की शुरुआत हुई थी, जो लगातार जारी है. अभी रोजाना एक करोड़ से अधिक लोगों को वैक्सीनेट किया जा रहा है.

    द टाइम्स ऑफ इंडिया (ToI) ने अपनी एक रिपोर्ट में 2021 तक जनसंख्या कार्यालय की अनुमानित वयस्क आबादी का आकलन किया है. इसमें उत्तर प्रदेश के आंकड़ों पर गौर करें, तो वहां 12% से भी कम वयस्क आबादी को वैक्सीन की पहली डोज मिल चुकी है. सिर्फ 2.5% वयस्क आबादी दूसरी डोज भी ले चुकी है. आंकड़ों के मुताबिक, यूपी में हर दिन 1.4 लाख डोज की औसत रफ्तार है. ऐसे में यूपी में दिसंबर तक पूरी आबादी को वैक्सीनेट करने के लिए 13.2 लाख डोज की औसत दैनिक रफ्तार से टीकाकरण अभियान को बढ़ाना होगा. ये अब तक दैनिक लक्ष्य के मुकाबले 9 गुना से भी ज्यादा है.

    COVID-19 Vaccine: देश भर में 21 जून से लगेगा कोरोना का मुफ्त टीका, जानें सारे अहम सवालों के जवाब

    रिपोर्ट के मुताबिक, यूपी में अभी के रोजाना औसत टीकाकरण से 9 गुना, बिहार में 8 गुना, तमिलनाडु, झारखंड और असम को 7 गुना तेज काम करना होगा. वहीं, महाराष्ट्र की बात करें, तो उसे 4.5 गुना औसत रफ्तार बढ़ाने की जरूरत होगी.

    बिहार ने अपनी 12.6% व्यस्क आबादी को टीके की पहली डोज दी है, जबकि 2.5% आबादी को दूसरी डोज मिली है. वहां की वयस्क आबादी के लिहाज से देखें तो शेष समय में बाकी लक्ष्य को हासिल करने के लिए टीकाकरण अभियान की दैनिक रफ्तार 8.4 गुना बढ़ाने की जरूरत है.

    राजस्थान, कर्नाटक, गुजरात और आंध्र प्रदेश को दैनिक औसत टीकाकरण की रफ्तार तीन से चार गुना तक बढ़ानी होगी. इन सभी राज्यों के लिए यह लक्ष्य हासिल करना आसान नहीं है.

    केंद्र के फ्री वैक्सीनेशन अभियान को मायावती ने सराहा, कहा- देर से ही लेकिन फैसला स्वागत योग्य

    इसके साथ ही हिमाचल प्रदेश ने अपनी वयस्क आबादी के 38.1% को पहली डोज और 7.9% को दूसरी डोज दे दी है. इस लिहाज से उसे दैनिक 18,000 डोज का मौजूदा औसत बढ़ाकर 41,000 करना होगा, ताकि दिसंबर तक पूरी वयस्क आबादी को वैक्सीनेट किया जा सके. जबकि, केरल की 31% वयस्क आबादी को पहली डोज लग चुकी है. 8.1% वयस्क आबादी को दोनों डोज दी जा चुकी है.undefined

    Tags: Coronavirus in India, Coronavirus in india news, Covid Vaccination, COVID Vaccination Centres

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर