लाइव टीवी

Coronavirus: इस्लामिक विद्वान मौलाना शेख ने की अपील, कहा- मस्जिदों में सामूहिक नमाज ना पढ़ें

भाषा
Updated: March 24, 2020, 3:19 PM IST
Coronavirus: इस्लामिक विद्वान मौलाना शेख ने की अपील, कहा- मस्जिदों में सामूहिक नमाज ना पढ़ें
मौलाना शेख ने कहा, सामाजिक दूरी के सभी नियमों का कड़ाई से पालन करें

मौलाना ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के अधिकृत प्रवक्ता मौलाना शेख ने कहा मुस्लिम अपने परिवार वालों के साथ घर पर ही नमाज पढ़ें.

  • Share this:
अलीगढ़ (उप्र). प्रख्यात इस्लामिक विद्वान मौलाना शेख खली उर रहमान सज्जाद नुमानी ने मंगलवार को मुस्लिम समुदाय के लोगों से अनुरोध किया कि वे कोविड-19 के खिलाफ संघर्ष में मदद करें और जब तक यह महामारी थम नहीं जाती तब तक मस्जिदों में सामूहिक नमाज ना पढ़ें. मौलाना ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के अधिकृत प्रवक्ता भी हैं. उन्होंने कहा कि व्यापक बातचीत के बाद तय किया गया है कि सभी मस्जिदों में अजान जारी रहे जैसा इस्लाम में कहा गया है. लेकिन सामूहिक नमाज केवल तीन से चार लोगों तक ही सीमित रखी जाए और वे भी मस्जिदों में केयरटेकर के रूप में रहने वाले लोग हो.

सभी नियमों का कड़ाई से पालन करें
उन्होंने कहा कि इस्लामिक शिक्षा की भावना के अनुरूप यह एकदम सही है कि मुस्लिम अपने परिवार वालों के साथ घर पर ही नमाज पढ़ें. मौलाना नोमानी ने पीटीआई भाषा से फोन पर कहा कि मुस्लिम समुदाय को आगे आना चाहिए और समूची दुनिया जिस अप्रत्याशित चुनौती का सामना कर रही है, उसमें देश की मदद करने के लिए अपनी भूमिका निभानी चाहिए. मौलाना ने जोर देकर कहा कि सामाजिक दूरी के सभी नियमों का कड़ाई से पालन किया जाना चाहिए.

कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों के बार-बार अपील करने के बावजूद कुछ लोग लॉकडाउन तोड़कर सड़कों पर निकल रहे हैं. जबकि डॉक्टरों का कहना है कि बाहर निकलने और मिलने जुलने से स्थिति बेकाबू हो सकती है, क्योंकि हमारा हेल्थ सिस्टम कोरोना वायरस जैसी महामारी झेलने लायक नहीं है. सवा सौ करोड़ की आबादी पर मात्र 25,778 सरकारी हॉस्पिटल हैं. उनमें सिर्फ 7.13 लाख बेड और महज 11,59,309 एलोपैथिक डॉक्टर हैं. ऐसे में अगर कोरोना वायरस की महामारी फैली तो लोगों को ईलाज कैसे मिलेगा.



ये भी पढ़ें : सोशल डिस्टेंसिंग के नाम पर हो रही है प्रताड़ना! इंडिगो क्रू मेंबर की आपबीती

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 24, 2020, 3:15 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर