कहीं नेगेटिव रिपोर्ट जरूरी तो कहीं बॉर्डर सील; जानें कोरोना प्रकोप के कारण बदले नियम

कोरोना प्रकोप के चलते यात्रा के नियम बदल गए हैं (सांकेतिक तस्वीर)

कोरोना प्रकोप के चलते यात्रा के नियम बदल गए हैं (सांकेतिक तस्वीर)

कई राज्यों में कोविड रिपोर्ट को अनिवार्य किया गया है तो कहीं पर कोरोना की जांच की जा रही है. यदि आप एक राज्य से दूसरे राज्यों का सफर कर रहे हैं तो आपको इन गाइडलाइंस का पालन करना बेहद जरूरी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 13, 2021, 12:18 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर (Coronavirus Second Wave) का प्रकोप तेजी से फैल रहा है. इसी के चलते अलग-अलग राज्यों ने विभिन्न राज्यों से आने वाले लोगों के लिए तमाम दिशानिर्देश जारी किए हैं. कई राज्यों में कोविड रिपोर्ट (Covid Report) को अनिवार्य किया गया है तो कहीं पर कोरोना की जांच की जा रही है. यदि आप एक राज्य से दूसरे राज्यों का सफर कर रहे हैं तो आपको इन गाइडलाइंस का पालन करना बेहद जरूरी है. बता दें भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के अब तक के सर्वाधिक 1,68,912  नए मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 1,35,27,717 हो गई है.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सोमवार की सुबह आठ बजे के अद्यतन आंकड़ों में यह जानकारी दी गई है. देश में संक्रमित लोगों के स्वस्थ होने की दर 90 प्रतिशत से भी कम रह गई है. आंकड़ों में बताया गया है कि देश में उपचाराधीन मरीजों की संख्या 12 लाख से अधिक हो गई है तथा 904 और लोगों की मौत होने के बाद संक्रमण से अब तक मारे गए लोगों की कुल संख्या बढ़कर 1,70,179 हो गई है.

ये भी पढ़ें- स्पुतनिक V, कोविशील्ड और कोवैक्सीन से कैसे अलग यहां जानें सबकुछ

Youtube Video

जानें विभिन्न राज्यों में सफर करने वाले लोगों के लिए गाइडलाइंस 

उत्तर प्रदेश में क्वारंटीन जरूरी है

राज्य सरकार के निर्देशों के मुताबिक एयरपोर्ट पर उतरने वाले सभी यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग अनिवार्य रूप से की जा रही है. वहीं केरल और महाराष्ट्र से आ रहे यात्रियों के लिए 72 घंटे के भीतर की आरटी-पीसीआर की नेगेटिव रिपोर्ट देना जरूरी है. वहीं रिपोर्ट न होने की स्थिति में यात्रियों का एंटीजेन टेस्ट किया जाएगा. जांच में संक्रमित पाए गए लोगों को 14 दिन के होम क्वारंटीन में रहना होगा.



मध्य प्रदेश में पड़ोसी राज्यों के बॉर्डर सील

मध्य प्रदेश सरकार ने छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र की सीमा कर दी है. मध्य प्रदेश में दूसरे राज्यों से सिर्फ जरूरी सामान ले जा रही गाड़ियों की आवाजाही की ही अनुमति है. इसके साथ ही इन दोनों राज्यों से आ रही बसों पर भी पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया गया है. इसके साथ ही रेलवे स्टेशनों पर दूसरे राज्यों से आ रहे लोगों के एंटीजन टेस्ट की भी व्यवस्था की गई है.

बिहार में कोविड नेगेटिव रिपोर्ट जरूरी

बिहार में पंजाब और महाराष्ट्र से वापस आ रहे लोगों को कोविड नेगेटिव रिपोर्ट दिखाने के बाद ही घर जाने की इजाजत दी जा रही है. इसके साथ ही रिपोर्ट न लाने वाले यात्रियों का स्टेशन पर ही टेस्ट किया जा रहा है. वहीं एयरपोर्ट पर भी यात्रियों का रैपिड टेस्ट किया जा रहा है.

ये भी पढ़ें- अब 2 घंटे से कम की उड़ान में नहीं मिलेगा खाना, जानें क्‍यों लिया गया ये फैसला

हिमाचल प्रदेश में इन 7 राज्यों से आ रहे लोगों की कोरोना रिपोर्ट जरूरी

हिमाचल प्रदेश सरकार ने 16 अप्रैल से महाराष्ट्र, पंजाब, दिल्ली, कर्नाटक, गुजरात, उत्तर प्रदेश, राजस्थान से आने वाले लोगों के लिए कोविड नेगेटिव रिपोर्ट लाना अनिवार्य कर दिया गया है. यह रिपोर्ट 72 घंटे से पहले की नहीं होनी चाहिए.

ओडिशा ने छत्तीसगढ़ के लिए सील की सीमा

छत्तीसगढ़ में बढ़ते मामलों को देखते हुए ओडिशा ने अंतर्राज्यीय सीमा सील कर दी है और गश्त भी तेज कर दी है. ओडिशा में दाखिल होने वाले लोगों को कोविड नेगेटिव रिपोर्ट देनी होगी.



राजस्थान में भी नेगेटिव रिपोर्ट देनी अनिवार्य

राजस्थान में दूसरे राज्यों से लौट रहे लोगों के लिए 25 मार्च से कोविड नेगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य कर दी गई है. राजस्थान में यह नियम हर राज्य से आ रहे लोगों के लिए लागू किया गया है. रिपोर्ट न होने की स्थिति में 15 दिनों तक क्वारंटीन में रखा जा सका है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज