केंद्र ने COVID-19 के रिव्यू के लिए बंगाल में भेजी टीम, ममता बनर्जी ने पूछ लिया ये सवाल

कोलकाता में कोरोना वायरस के 105 मरीज मिले हैं.
कोलकाता में कोरोना वायरस के 105 मरीज मिले हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी से निपटने के लिए 14 अप्रैल तक लॉकडाउन की घोषणा की थी, जिसे बाद में 3 मई तक के लिए बढ़ा दिया गया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 21, 2020, 6:56 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना महामारी (Covid-19 Pandemic) की वजह से देशव्यापी लॉकडाउन का मंगलवार को 28वां दिन है. सोमवार को लॉकडाउन में कुछ शर्तों के साथ सीमित छूट दी है, लेकिन कई जगहों में लॉकडाउन के उल्लंघन के मामले सामने आए हैं. ऐसे में केंद्र सरकार ने मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान और पश्चिम बंगाल में कोविड-19 की स्थिति का आकलन करने के लिए छह इंटर मिनिस्ट्रियल सेंट्रल टीम (IMCTs) का गठन किया है.

इधर, पश्चिम बंगाल और केंद्र सरकार के बीच लॉकडाउन के उल्लंघन, सोशल डिस्टेंसिंग की समीक्षा को लेकर तकरार शुरू हो गई है. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र की 6 सदस्यीय इंटर मिनिस्ट्रियल सेंट्रल टीम (IMCTs) राज्य में भेजे जाने को लेकर सवाल खड़े किए हैं.

गृह मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने कहा, 'आईएमसीटी बंद के नियमों के अनुसार दिशा-निर्देशों के पालन व क्रियान्वयन, जरूरी सामानों की सप्लाई, सोशल डिस्टेंसिंग, स्वास्थ्य संबंधी बुनियादी ढांचे की तैयारी, स्वास्थ्य कर्मियों की सुरक्षा और श्रमिकों-गरीबों के लिए बनाए गए राहत शिविरों में हालात पर गौर करेंगी. जिसके बाद रिपोर्ट गृह मंत्रालय को भेजेगी.



इस पूरे मामले पर ममता बनर्जी ने ट्वीट किया- 'हम कोरोना महामारी के खिलाफ केंद्र सरकार के सहयोग और सुझावों का स्वागत करते हैं. हालांकि, केंद्र ने पश्चिम बंगाल समेत कुछ अन्य राज्यों में आईएमसीटी को भेजने का जो फैसला लिया है, उसका उद्देश्य समझ से परे है.'



बंगाल की सीएम ने नाराजगी जताते हुए कहा- 'मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से राज्य के इन जिलों में केंद्र की टीम को भेजे जाने का आधार पूछती हूं. मुझे यह कहते हुए अफसोस हो रहा है कि बिना किसी साफ वजह के मैं इसकी अनुमति नहीं दे पाऊंगी, क्योंकि यह संघीय ढांचे की भावना के खिलाफ है.'

इन जिलों में होगी समीक्षा
बता दें कि बंगाल में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा के लिए गृह मंत्रालय ने सात जिलों- कोलकाता, हावड़ा मेदिनीपुर ईस्ट, नॉर्थ 24 परगना, दार्जिलिंग, कलिम्पॉन्ग और जलपाईगुड़ी को चुना है. गृह मंत्रालय का कहना है कि इन जिलों में हालात बहुत गंभीर हैं और लॉकडाउन के नियमों का पूरी तरह से पालन नहीं किया जा रहा है.

स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय के मुताबिक, इन सातों जिलों में कुल 224 कोरोना के मामले मिले हैं. इनमें से कोलकाता में 105 मरीज, हावड़ा में 46, नॉर्थ 24 परगना में 37, दार्जिलिंग में 3 केस मिले हैं.

ये भी पढ़ें:  Coronavirus: देश में संक्रमितों के आंकड़ा 18 हजार के करीब, सरकार ने कहा- 80% केसों में नहीं दिख रहे लक्षण

कोरोना संक्रमित डॉक्टर के अंतिम संस्कार में हिंसा, सहकर्मी ने आधी रात अकेले कब्र खोद कर दफनाया
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज