कोरोना के चलते केरल में 8 मई से 16 मई तक लॉकडाउन का ऐलान

मुख्‍यमंत्री पिनारई विजयन  (Pic- ANI)

मुख्‍यमंत्री पिनारई विजयन (Pic- ANI)

केरल में कोविड-19 के 41,953 नए मामले आए जो एक दिन में सर्वाधिक है. मुख्यमंत्री ने स्थिति को गंभीर करार देते हुए कहा कि संक्रमण को रोकने के लिए और कड़े कदम उठाए जाएंगे.

  • Share this:

तिरुवनंतपुरम. केरल (Kerala) सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच स्थिति पर प्रबंधन और नियंत्रण के लिए 8 मई से 16 मई तक के लिए लॉकडाउन का ऐलान किया है. केरल के सीएम के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट से कहा गया- 'सीएम द्वारा निर्देश के अनुसार कोरोना वायरस की दूसरी लहर के मद्देनजर 8 मई से 16 मई की सुबह 6 बजे तक पूरे केरल राज्य में लॉकडाउन होगा.' संक्रमण के मामलों में लगातार हो रही बढ़ोतरी को रोकने के लिए केरल में पिनारई विजयन के नेतृत्व वाली सरकार विभिन्न गतिविधियों पर पहले ही पाबंदी लगा चुकी है. केरल में बुधवार को कोरोना वायरस के अब तक के सर्वाधिक 41,953 मामले आए.

केरल में कोविड-19 के मामलों में प्रतिदिन हो रही वृद्धि के बीच राज्य सरकार ने जमीनी हालत से निपटने के लिए मेडिकल की पढ़ाई कर रहे विद्यार्थियों और सरकारी अधिकारियों की तैनाती कर कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ उपायों को मजबूत करने का फैसला किया है. केरल में बुधवार को कोविड-19 के 41,953 नए मामले आए जो एक दिन में सर्वाधिक है. मुख्यमंत्री पिनारई विजयन ने स्थिति को गंभीर करार देते हुए कहा कि संक्रमण को रोकने के लिए और कड़े कदम उठाए जाएंगे.

Youtube Video

वार्ड स्तर की समितियों को मजबूत करने के निर्देश
विजयन ने अधिकारियों के साथ हालात की समीक्षा करने के बाद कहा कि वार्ड स्तर की समितियों को मजबूत करने के निर्देश दिये जा रहे हैं तथा इलाके के मेडिकल छात्रों को त्वरित प्रक्रिया टीम में शामिल किया जाएगा. उन्होंने कहा कि पीठासीन अधिकारियों के साथ-साथ विधानसभा चुनाव की प्रक्रिया में शामिल हुए सभी अधिकारियों को इन समितियों और टीम में शामिल किया जाएगा.

विजयन ने कहा, ‘राज्य बहुत गंभीर स्थिति से गुजर रहा है और कोविड-19 बहुत तेजी से फैल रहा है. सभी आंकड़े बढ़ रहे हैं और जांच में संक्रमण दर भी कम नहीं हो रही है. इन परिस्थितियों में हमें कठोर पाबंदी की जरूरत है.’ मुख्यमंत्री पिनारई विजयन ने कहा कि संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए और कठोर कदम उठाए जाएंगे. बता दें कि राज्य में लॉकडाउन जैसी कठोर पाबंदी पहले से ही लागू है. मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार की एजेंसियों और राजनीतिक दलों के अलावा निजी एजेंसियों को भी राहत कार्य में काम करने की अनुमति दी जाएगी.

केरल में बुधवार को कोविड-19 के 41,953 नए मामले आए जो राज्य में एक दिन में आए मामलों के लिहाज से सर्वाधिक हैं. राज्य सरकार ने बताया कि गत 24 घंटे में 23,106 मरीज ठीक हुए हैं. इसके साथ ही राज्य में अब तक संक्रमित हुए लोगों की कुल संख्या 17,43,932 हो गई है जिनमें से 13.62 लाख संक्रमण मुक्त हो चुके हैं.



कोविड-19 मरीजों की संख्या रोजाना बढ़ रही

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में कोविड-19 मरीजों की संख्या रोजाना बढ़ रही है और इसकी वजह से ऑक्सीजन की मांग भी बढ़ गई है. उन्होंने कहा, ‘ऑक्सीजन का भंडार तेजी से कम हो रही है. इस स्थिति में हमें पर्याप्त ऑक्सीजन भंडार बनाए रखने के लिए केंद्र की मदद की जरूरत हैं. मैंने प्रधानमंत्री से राज्य में आयातित 1000 मीट्रिक टन ऑक्सीजन उपलब्ध कराने का अनुरोध किया है.’ उन्होंने केंद्र से पहली किस्त में 500 मीट्रिक टन ऑक्सीजन मौजूदा आयात कोटा से भेजने की मांग की है.

विजयन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे पत्र में कहा कि राज्य को कोविशील्ड की 50 लाख खुराक और कोवैक्सीन की 25 लाख खुराक आवंटित की जानी चाहिए. राज्य में गत 24 घंटे में 58 और मरीजों की मौत होने के साथ अब तक यहां महामारी में जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 5,565 हो गई है. सरकार के मुताबिक इस समय राज्य में 3,75,658 मरीज उपचाराधीन है और जांच किए जा रहे नमूनों के अनुपात में संक्रमण की दर 25.69 प्रतिशत है.


सरकार के मुताबिक एर्णाकुलम में सबसे अधिक 6,558 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई जबकि कोझिकोड में 5,180, मलाप्पुरम में 4,116, त्रिशूर में 3,731, तिरुवनंतपुरम में 3,727 और कोट्टयम में 3,432 नए मामले आए.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज