लाइव टीवी

कोरोना: MHA का राज्यों को निर्देश- मजदूरों, बेघरों को मुहैया कराएं भोजन, कपड़ा और दवा

भाषा
Updated: March 28, 2020, 5:04 PM IST
कोरोना: MHA का राज्यों को निर्देश- मजदूरों, बेघरों को मुहैया कराएं भोजन, कपड़ा और दवा
Demo Pic.

COVID-19: मंत्रालय (MHA) ने सभी मुख्य सचिवों को भेजे पत्र में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की ओर से घोषित बंद के दौरान प्रवासी मजदूरों को चिकित्सा सेवा एवं कपड़े भी उपलब्ध कराए जा सकते हैं.

  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय गृह मंत्रालय (MHA) ने राज्य आपदा राहत कोष/एसडीआरएफ (SDRF) के तहत दी जाने वाली सहायता के नियमों में शनिवार को बदलाव किया. जिसके तहत 21 दिन के लॉकडाउन (Lock Down) के दौरान प्रवासी मजदूरों के लिए भोजन और ठहरने की अस्थायी व्यवस्था के लिए इस कोष से पैसा दिया जाएगा.

मंत्रालय ने सभी मुख्य सचिवों को भेजे पत्र में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से घोषित बंद के दौरान प्रवासी मजदूरों को चिकित्सा सेवा एवं कपड़े भी उपलब्ध कराए जा सकते हैं. गृह मंत्रालय के एक अधिकारी के मुताबिक एसडीआरएफ के नये नियमों के तहत अस्थायी आवास, भोजन, कपड़े, चिकित्सीय देखभाल आदि का प्रावधान बंद के चलते फंसे प्रवासी मजदूर समेत बेघर लोगों तथा राहत शिविरों या अन्य स्थानों पर रह रहे लोगों पर लागू होगा.





गृहमंत्री ने राज्‍यों को दिए ये निर्देश
देश के गृहमंत्री अमित शाह ने ट्वीट किया, 'प्रधानमंत्री जी के मार्गदर्शन में आज सभी राज्यों को COVID-19 के मद्देनजर SDRF के फंड आवंटन का उपयोग करते हुए सभी बेघर, प्रवासी मज़दूरों और लॉकडाउन के कारण राहत शिविरों में रुके लोगों को अस्थायी आवास, भोजन, कपड़े, चिकित्सा देखभाल आदि प्रदान करने के निर्देश दिए हैं.



मजदूरों के लिए राहत कैंप तैयार हो: MHA
राज्यों के साथ मिलकर गृह मंत्रालय लॉकडाउन को लागू करने को लेकर, आवश्यक वस्तुओं की आवाजाही को लेकर नज़र बनाए हुए है. मंत्रालय ने सभी राज्‍यों से कहा है कि वह मजदूरों के लिए राहत कैंप तैयार करें. साथ ही इन कैंपों की जानकारी मजदूरों, कामगारों तक पहुंचाई जाए.

ऐसी खबरें सामने आई हैं कि देश के विभिन्न हिस्सों से बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर अपना कार्य स्थल छोड़ कर सैकड़ों किलोमीटर पैदल चल कर अपने पैृतक स्थानों पर लौट रहे हैं और रास्ते में मुश्किलों का सामना कर रहे हैं. राष्ट्रव्यापी बंद की घोषणा के बाद सामान्य यातायात सेवाएं बंद हो जाने के कारण प्रवासी मजदूरों के पास पैदल चलकर घर पहुंचने का ही विकल्प बचा है.

ये भी पढ़ें: BJP का बड़ा ऐलान-पार्टी सांसद देंगे एक करोड़, विधायक 1 महीने का वेतन करेंगे दान

ये भी पढ़ें: न्यूयॉर्क में हर 17 मिनट में एक मरीज की मौत, 9 दिन में बर्बाद हो जाएगा हेल्थ सिस्टम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 28, 2020, 4:52 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading