Assembly Banner 2021

Coronavirus: इन 5 राज्यों में भेजी गई कोरोना की सबसे कारगर दवा रेमडेसिवीर

सांकेतिक तस्वीर

सांकेतिक तस्वीर

Remdesivir का ट्रायल अमेरिका, यूरोप और एशिया के 60 सेंटर्स में 1063 मरीजों पर किया गया था. ट्रायल में दवा ने बेहतर रिकवरी में मदद की.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) का संक्रमण थमने का नाम नहीं ले रहा है. भारत में पिछले कुछ दिनों से हर रोज कोरोना के करीब 15 हजार नए मरीज सामने आ रहे हैं. इस बीच अच्छी खबर ये है कि कोरोना की सबसे कारगर दवा रेमडेसिवीर (Remdesivir)की 20 हजार वियाल तैयार गई है. अब इसे 5 राज्यों में भेज दिया गया है. इस दवा को अमेरिकी कंपनी गिलीड साइंसेस (Gilead Sciences) ने तैयार किया है. जबकि भारत में इसे बनाने का लाइसेंस हेटेरो लैब्स को मिला है.

दवाई की कीमत- 5,400 रुपये प्रति शीशी
हेटेरो हेल्थकेयर ने बुधवार को बयान में कहा कि कंपनी 20,000 के सेट में 10,000 शीशियों की आपूर्ति हैदराबाद, दिल्ली, गुजरात, तमिलनाडु, मुंबई तथा महाराष्ट्र के अन्य हिस्सों में करेगी. शेष 10,000 शीशियों की आपूर्ति कोलकाता, इंदौर, भोपाल, लखनऊ, पटना, भुवनेश्वर, रांची, विजयवाड़ा, कोचिन, त्रिवेंद्रम और गोवा में एक सप्ताह में की जाएगी. कंपनी ने कहा कि उसने इस दवा का अधिकतम खुदरा मूल्य 5,400 रुपये प्रति शीशी तय किया है.

 रेमडेसिवीर का पहला जेनेरिक संस्करण
कोविफोर रेमडेसिवीर का पहला जेनेरिक संस्करण है. कंपनी ने बयान में कहा कि इस दवा का इस्तेमाल बालिगों और बच्चों, अस्पतालों में गंभीर संक्रमण की वजह से भर्ती मरीजों के इलाज में किया जा सकता है। यह दावा 100 एमजी की शीशी (इंजेक्शन लगाने के लिए) में उपलब्ध होगी.



इन देशों में हो रहा है इस्तेमाल
अमेरिका, भारत और दक्षिण कोरिया में संक्रमण के गंभीर मरीजों के इलाज में रेमडेसिवीर के इस्‍तेमाल की अनुमति दे दी गई है. वहीं, जापान में इसके पूरे इस्‍तेमाल की मंजूरी है. हालांकि, सिप्‍ला ने अभी तक ये साफ नहीं किया है कि CIPREMI कब से इलाज के लिए बाजार में उपलब्‍ध हो जाएगी. अमेरिका में अभी तक रेमडेसिवीर की कीमत तय नहीं की जा सकी है. गिलीड ने सोमवार को कहा था कि साल के अंत तक 2 करोड़ से ज्‍यादा कोरोना मरीजों को रेमडेसिवीर उपलब्‍ध करा दी जाएगी. रेमडेसिवीर का ट्रायल अमेरिका, यूरोप और एशिया के 60 सेंटर्स में 1063 मरीजों पर किया गया था. ट्रायल में दवा ने बेहतर रिकवरी में मदद की. रेमडेसिवीर दिए जाने वाले मरीजों में मृत्यु दर 7.1 फीसदी रहा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज