• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • कितना जानलेवा है कोरोना वायरस का नया वेरिएंट C.1.2, भारत में कितने हैं केस? यहां जानें सब कुछ

कितना जानलेवा है कोरोना वायरस का नया वेरिएंट C.1.2, भारत में कितने हैं केस? यहां जानें सब कुछ

देश में अभी तक नहीं मिला है कोरोना का सी.1.2 वेरिएंट. (Pic- AP)

देश में अभी तक नहीं मिला है कोरोना का सी.1.2 वेरिएंट. (Pic- AP)

Coronavirus: जानकारी दी गई है कि कोरोना वायरस का सी.1.2 वेरिएंट पहली बार दक्षिण अफ्रीका में मई में मिला था.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्‍ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) को लेकर दुनियाभर में लोगों के बीच डर व्‍याप्‍त है. कोरोना वायरस (Covid 19) के नए-नए वेरिएंट (Corona Variant) सामने आने से इससे खतरा और अधिक बढ़ गया है. अब कोरोना का नया वेरिएंट सी.1.2 (C.1.2 Variant) भी पाया गया है. समाचार एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार सरकार ने साफ किया है कि भारत में अभी इस वेरिएंट का कोई भी मामला सामने नहीं आया है.

    विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के अनुसार कोरोना वायरस का सी.1.2 वेरिएंट दक्षिण अफ्रीका में पाया गया था. इसके बाद अब यह 6 से अधिक देशों में फैल चुका है. डब्‍ल्‍यूएचओ के मुताबिक वो कोरोना वायरस के नए स्‍ट्रेन सी.1.2 पर पिछले काफी दिनों से नजर बनाए हुए हैं. एक शोध में कहा गया है कि यह वेरिएंट अधिक संक्रामक और घातक है. यह भी कहा गया है कि यह वैक्‍सीन की ओर से प्राप्‍त सुरक्षा को भी भेद सकता है.

    जानकारी दी गई है कि कोरोना वायरस का सी.1.2 वेरिएंट पहली बार दक्षिण अफ्रीका में मई में मिला था. लेकिन देश की नेशनल इंस्‍टीट्यूट फॉर कम्‍युनिकेबल डिसीजेस की ओर से सोमवार को ही इसके संबंध में अलर्ट जारी किया गया है. हालांकि अभी भी कोरोना वायरस का डेल्‍टा वेरिएंट दक्षिण अ‍फ्रीका में सबसे अधिक पाया जाने वाला वेरिएंट है.

    कोरोना वायरस के सी.1.2 वेरिएंट के संबंध में जारी रिसर्च पेपर की अभी विस्‍तृत समीक्षा की जानी बाकी है. यह वेरिएंट अफ्रीका, यूरोप और एशिया के 7 देशों में फैल चुका है. डब्ल्यूएचओ के पास कोरोना वायरस के वेरिएंट को वर्गीकृत करने की एक प्रणाली है. इसमें सबसे अधिक महत्‍वपूर्ण ध्‍यान देने योग्‍य बात यह है कि कोरोना वायरस के सी.1.2 वेरिएंट अभी डब्‍ल्‍यूएचओ की ओर से वेरिएंट ऑफ इंटरेस्‍ट या वेरिएंट ऑफ कंसर्न के बीच में से किसी एक में वर्गीकृत करना है.

    दक्षिण अफ्रीकी संस्थान द्वारा अभी भी एक चेतावनी जारी की गई थी क्योंकि सी.1.2 वेरिएंट में कुछ प्रमुख म्यूटेशन होने की बात सामने आई है. यह चिंता को और बढ़ा सकता है. द गार्डियन ने सिडनी में इम्यूनोलॉजी और संक्रामक रोगों में एक वायरोलॉजिस्ट डॉ. मेगन स्टेन के हवाले से कहा, ‘जब भी हम उन विशेष म्‍यूटेशन को देखते हैं, तो हम यह देखना चाहते हैं कि यह क्या करने जा रहा है.’

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज