बाबा बर्फानी के दर्शन के लिए करना होगा इंतजार, इस साल नहीं होगी अमरनाथ यात्रा

बाबा बर्फानी के दर्शन के लिए करना होगा इंतजार, इस साल नहीं होगी अमरनाथ यात्रा
अमरनाथ यात्रा को रद्द कर दिया गया है. (फाइल फोटो)

अमरनाथ गुफा (Amarnath Cave) के लिए पहलगाम (Pahalgam) और गांदेरबल (Gandelbal) दोनों ही रास्तों से पहले 42 दिन की प्रस्तावित यात्रा 23 जून को शुरू होने वाली थी, लेकिन कोविड-19 महामारी (Covid-19 Pandemic) के कारण उसमें देरी हो गई थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: July 22, 2020, 12:59 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में जारी वैश्विक महामारी कोरोना वायरस (Coronavirus) के प्रकोप के कारण इस वर्ष साल अमरनाथ तीर्थयात्रा (Amarnath Yatra) आयोजित नहीं की जाएगी. जम्मू-कश्मीर राज भवन की ओर से जारी बयान में कहा गया है, "वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए, श्री अमरनाथजी श्राइन बोर्ड ने तय किया है कि इस साल श्री अमरनाथजी यात्रा को आयोजित और संचालित करना उचित नहीं है और खेदपूर्वक इस यात्रा को रद्द करने का फैसला किया गया है."

दक्षिण कश्मीर (South Kashmir) के हिमालय (Himalaya) में अमरनाथ के 3,880 मीटर ऊंचे पवित्र गुफा मंदिर में 42 दिन तक चलने वाली इस यात्रा के दिनों को पहले कम कर दिया गया था और केवल 15 दिनों के लिए बट्टल मार्ग से आयोजित किया जाना था. अमरनाथ गुफा (Amarnath Cave) के लिए पहलगाम (Pahalgam) और गांदेरबल (Gandelbal) दोनों ही रास्तों से पहले 42 दिन की प्रस्तावित यात्रा 23 जून को शुरू होने वाली थी, लेकिन कोविड-19  महामारी (Covid-19 Pandemic) के कारण उसमें देरी हो गई थी.

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) प्रशासन ने पहले कहा था कि वह बेहद सख्ती के साथ यात्रा शुरू करेगा और एक दिन में सिर्फ 500 श्रद्धालुओं को जम्मू (Jammu) से अमरनाथ रवाना किया जाएगा. लेकिन 15 जुलाई को उच्च न्यायालय (High Court) ने श्री अमरनाथ श्राइन बोर्ड (Amarnath Shrine Board) से कहा था कि लोगों के स्वास्थ्य के अधिकार को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए वह यात्रा पर तत्काल फैसला करे. हाईकोर्ट ने कहा कि बोर्ड के निर्णय में सुरक्षा कर्मियों, स्वास्थ्य कर्मियों,पुजारियों, तीर्थयात्रियों और यात्रा का इंतजाम करने से जुड़े अधिकारियों के अलावा केंद्र शासित प्रदेश के निवासियों की चिंताओं का भी ध्यान रखा जाना चाहिए. पीठ के आदेश में कहा गया है कि यात्रा में उपयोग में लाए जाने वाले घोड़ों आदि जानवरों के कल्याण पर भी विचार करने की जरूरत है.




रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने किये थे पवित्र गुफा के दर्शन
इससे पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने शनिवार को अमरनाथ की पवित्र गुफा के दर्शन किए और वहां पूजा अर्चना की थी. राजनाथ सिंह के साथ प्रमुख रक्षा अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत और थलसेना प्रमुख जनरल एम. एम. नरवणे भी थे. राजनाथ सिंह ने मंदिर परिसर में करीब एक घंटा बिताया. राजनाथ सिंह ने पवित्र गुफा में पूजा करते हुए एक क्लिप के साथ ट्वीट किया, ‘‘जम्मू कश्मीर में श्री अमरनाथजी पवित्र गुफा में पूजा अर्चना करने के बाद बहुत धन्य महसूस कर रहा हूं.’’

अमरनाथ गुफा को हिंदू धर्म के पवित्रतम धर्म स्थलों में से एक माना जाता है और हर साल हजारों श्रद्धालु यहां तीर्थयात्रा पर आते हैं. राजनाथ सिंह ने जम्मू-कश्मीर के दौरे के दूसरे दिन अमरनाथ गुफा के दर्शन किए थे.



पिछले कुछ सप्ताह में केंद्र शासित प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के ज्यादा मामले आए हैं, खास तौर से कश्मीर में. इस कारण प्रशासन को मजबूरन ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर सहित घाटी के कई हिस्सों में लॉकडाउन लागू करना पड़ा है. (भाषा के इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज