कोरोना वायरस के मामले बढ़कर हुए 74, अटारी-वाघा बॉर्डर के रिट्रीट समारोह पर लगी रोक

कोरोना वायरस के मामले बढ़कर हुए 74, अटारी-वाघा बॉर्डर के रिट्रीट समारोह पर लगी रोक
वाघा-अटारी बॉर्डर की रिट्रीट सेरेमनी की फाइल फोटो

कोरोना वायरस के चलते अटारी-वाघा सीमा (Attari-Wagha Border) पर मशहूर रिट्रीट समारोह (Beating Retreat Ceremony) निलंबित होने के कारण अमृतसर (Amritsar) में पर्यटकों की आमद कम हो गई है, जिसका भोजनालयों और छोटे कारोबारों पर बुरा असर पड़ा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 12, 2020, 10:12 PM IST
  • Share this:
अमृतसर (पंजाब). भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus) के पॉजिटिव मामलों की संख्या बढ़कर 74 हो गई है. आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) के एक व्यक्ति को कोरोना वायरस से पॉजिटिव पाया गया है. यह व्यक्ति पिछले हफ्ते इटली (Italy) से लौटा था.

कोरोना वायरस के चलते अटारी-वाघा सीमा (Attari-Wagha Border) पर मशहूर रिट्रीट समारोह निलंबित होने के कारण अमृतसर (Amritsar) में पर्यटकों की आमद कम हो गई है, जिसका भोजनालयों और छोटे कारोबारों पर बुरा असर पड़ा है. कोरोना वायरस से अमृतसर के होटल और पर्यटन उद्योग को भी नुकसान हुआ है.

टैक्सी ऑपरेटर्स को हुआ भारी नुकसान
हर दिन लगभग 50 हजार पर्यटक सीमा की यात्रा पर आते थे. इनमें से अधिकतर पर्यटक रिट्रीट समारोह की झलक पाने आते थे, जिसे अगले आदेश तक निलंबित कर दिया गया है.
टैक्सी ऑपरेटर रमन शर्मा ने कहा कि समारोह निलंबित होने से पहले वे रोजाना सैंकड़ों बुकिंग लिया करते थे. वे पर्यटकों को अंतरराष्ट्रीय सीमा (International Border) की यात्रा के लिये छोटे-बड़े वाहन मुहैया कराते हैं.



शर्मा ने गुरुवार को कहा, 'हाल ही में कोरोना वायरस के चलते रिट्रीट समारोह निलंबित होने से मेरी रोजी-रोटी पर बहुत बुरा असर पड़ा है.' उन्होंने कहा कि उन्हें उनके लिये काम करने वाले 20 ड्राइवरों (Drivers) को वेतन देना है, लेकिन अब उनके लिये हालात बहुत मुश्किल हो गए हैं.'

अगले आदेश तक जारी रहेगी पाबंदी
अमृतसर के उपायुक्त शिवदुल्लर सिंह ढिल्लों ने कहा, 'कोरोना वायरस (Coronavirus) के बढ़ते डर के चलते रिट्रीट समारोह रोक दिया गया है. जन स्वास्थ्य को मद्देनजर रखते हुए यह फैसला लिया गया. अगले आदेश तक लोगों के प्रवेश पर पाबंदी जारी रहेगी.'

सीमा की ओर जा रहे 25 किलोमीटर लंबे अमृतसर-अटारी रोड पर स्थित मशहूर होटल-सह-रेस्त्रां 'सरहद' में भी सन्नाटा छाया हुआ है. इसके मालिक अमन जसपाल ने कहा कि रिट्रीट समारोह निलंबित होने के बाद उनके रेस्त्रा (Restaurant) में पर्यटकों की आमद में भारी गिरावट आई है.

उन्होंने कहा, 'मौजूदा हालात में सरकार को होटल उद्योग को सेवा कर से छूट देनी चाहिये क्योंकि कर्मचारियों, बिजली के बिल (Electricity Bill) और अन्य चीजों पर खर्च से बचा नहीं जा सकता. सरकार को कम से कम भारत-पाक सीमा के निकट स्थित होटलों को बचाने के लिये छोटे-छोटे कदम उठाने चाहिये.' (भाषा के इनपुट सहित)

यह भी पढ़ें: ICMR का दावा- कोरोना वायरस का टीका बनाने में लगेगा कम से कम डेढ़-दो साल का समय
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज