• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • CORONAVIRUS PANDEMIC LIKELY TO BE INCREASE IN INDIA DEATH NUMBER TO BE DOUBLE AS REPORT SAYS COVID 19

भारत में और बढ़ेगा कोरोना का कहर! मौतों की संख्‍या दोगुनी होने की आशंका- रिपोर्ट

देश में भयावह हो रहा है कोरोना संक्रमण. (File pic)

Coronavirus in India: कुछ शोध में स्थिति भयावह होने की बात कही जा रही है. भारत में इलाज करा रहे कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 34,87,229 हो गई है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. भारत में रोजाना सामने आ रहे कोरोना वायरस संक्रमण (Covid 19 In India) के नए मामले चौंका रहे हैं. साथ ही दिनोंदिन संक्रमण (Coronavirus) से हो रही मौतों के कारण भी स्थिति चिंताजनक बनी हुई है. वहीं कुछ रिपोर्ट और शोध पर ध्‍यान दें तो इनमें आने वाले दिनों में भारत में कोरोना का कहर और खतरनाक होने की बात कही गई है. साथ ही कोरोना से दोगुनी मौतें (Covid deaths) होने की भी आशंका जताई गई है.

    देश में पिछले 24 घंटे के दौरान सामने आए कोरोना वायरस संक्रमण के 3,82,315 नए मामलों में से 71 प्रतिशत मामले महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश और दिल्ली समेत 10 राज्यों से आए हैं. कोविड-19 महामारी की दूसरी भयावह लहर का सामना कर रहे देश में इलाज करा रहे कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 34,87,229 हो गई है जोकि कुल संक्रमित मामलों का 16.87 फीसद है. देश में एक दिन में कोविड-19 से रिकॉर्ड 3780 लोगों की मौत हुई है.



    बेंगलुरु स्थित इंडियन इंस्‍टीट्यूट ऑफ साइंस ने आशंका जताई है कि अगर देश में कोरोना से मरने वालों रफ्तार मौजूदा की ही तरह रही तो 11 जून तक देश में मौतों का आंकड़ा 4,04,000 से अधिक हो सकता है. वहीं यूनिवर्सिटी ऑफ वॉशिंगटन स्थित इंस्‍टीट्यूट फॉर हेल्थ मीट्रिक्स एंड इवैल्युएशन के मुताबिक जुलाई के आखिर तक कोरोना संक्रमण से मरने वालों की संख्या 10 लाख के पार पहुंच सकती है.

    वहीं ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत जैसे घनी आबादी वाले देशों में कोरोना संक्रमण के मामलों को लेकर भविष्यवाणी करना आसान नहीं है. भारत में कोरोना टेस्टिंग और सोशल डिस्टेंसिंग को बढ़ाने की जरूरत है. अगले कुछ महीनों में भारत कोरोना संक्रमण से मरने वाले लोगों की संख्या के मामले में दुनिया का नंबर एक देश बन सकता है. फिलहाल 5,78,000 लोगों की मौत के साथ अमेरिका पहले नंबर पर है.

    ब्राउन यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ हेल्थ के डीन आशीष झा के अनुसार भारत के लिए अगले 4 से 6 हफ्ते बेहद कठिन रहने वाले हैं. उन्होंने कहा कि हमारे सामने चुनौती यह है कि कैसे भी इस लहर को सीमित किया जाए.