Home /News /nation /

COVID-19: क्वारंटाइन नियम में बैकफुट पर ब्रिटेन, एस जयशंकर से हुई बात, 'रोडमैप 2030' की राह हुई आसान

COVID-19: क्वारंटाइन नियम में बैकफुट पर ब्रिटेन, एस जयशंकर से हुई बात, 'रोडमैप 2030' की राह हुई आसान

भारत और ब्रिटेन के विदेश मंत्री ने दोनों देशों के बीच यात्रा सुविधा के लिए अपनी सहमति जाहिर की. (एएनआई)

भारत और ब्रिटेन के विदेश मंत्री ने दोनों देशों के बीच यात्रा सुविधा के लिए अपनी सहमति जाहिर की. (एएनआई)

India Britain Coronavirus Quarantine: ब्रिटेन ने बृहस्पतिवार को घोषणा की थी कि ब्रिटेन जाने वाले ऐसे भारतीय यात्रियों के लिए 11 अक्टूबर से पृथक-वास में रहने की जरूरत नहीं होगी, जिन्हें कोविशील्ड की दोनों खुराक लगी है.

    नई दिल्ली. विदेश मंत्री एस जयशंकर और उनकी ब्रिटिश समकक्ष लिज़ ट्रस ने शुक्रवार को आपस में बातचीत की और दोनों देशों के बीच यात्रा की सुविधा के लिए अपनी सहमति जाहिर की. इन दोनों नेताओं की मुलाकात ऐसे समय में हुई है, जबकि एक दिन पहले ही ब्रिटेन सरकार ने यह घोषणा की थी कि कोरोना-रोधी वैक्सीन के दोनों डोज लगा चुके भारतीय यात्रियों के लिए ब्रिटेन आगमन पर उन्हें किसी क्वारंटाइन की जरूरत नहीं होगी.

    ब्रिटेन ने बृहस्पतिवार को घोषणा की थी कि ब्रिटेन जाने वाले ऐसे भारतीय यात्रियों के लिए 11 अक्टूबर से पृथक-वास में रहने की जरूरत नहीं होगी जिन्हें कोविशील्ड या ब्रिटेन द्वारा अनुमोदित किसी अन्य टीके की दोनों खुराक लगी हैं. जयशंकर ने ट्वीट किया, ‘‘ब्रिटेन की विदेश मंत्री लिज ट्रस से बात करके अच्छा लगा. दोनों देशों के बीच यात्रा को सुविधाजनक बनाने पर सहमत हुए. इससे ‘रोडमैप 2030’ को लागू करने में मदद मिलेगी.’’

    अशांति विपक्ष नहीं बल्कि खुद यूपी सरकार ने फैलाया, जनरल डायर की तरह किसानों को रौंदवाया- कांग्रेस

    ‘‘रोडमैप 2030’’ को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके ब्रिटिश समकक्ष बोरिस जॉनसन के बीच मई में एक डिजिटल शिखर सम्मेलन में स्वीकार किया गया था. इस रोडमैप का उद्देश्य द्विपक्षीय संबंधों को व्यापक रणनीतिक साझेदारी तक बढ़ाना और अगले दशक में व्यापार और अर्थव्यवस्था, रक्षा और सुरक्षा, जलवायु परिवर्तन और लोगों से लोगों के बीच संपर्क के प्रमुख क्षेत्रों में सहयोग का मार्गदर्शन करना है.

    भारतीय मूल की 6 साल की बच्ची को ब्रिटिश पीएम अवॉर्ड

    भारतीय यात्रियों के लिए पृथक-वास संबंधी नियमों को हटाने की घोषणा भारत में ब्रिटिश उच्चायुक्त एलेक्स एलिस ने बृहस्पतिवार शाम को की थी. एलिस ने कहा था, ”ब्रिटेन जाने वाले ऐसे भारतीय यात्रियों को सोमवार से पृथक-वास में रहने की जरूरत नहीं होगी जिन्हें कोविशील्ड या ब्रिटेन द्वारा अनुमोदित किसी अन्य टीके की दोनों खुराक लगी हैं. अब ब्रिटेन जाना आसान होगा. यह एक अच्छी खबर है.’’

    Lakhimpur Case: यूपी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में पेश की स्‍टेटस रिपोर्ट, कहा- कानून के मुताबिक हो रही कार्रवाई

    वहीं, अपने नवीनतम यात्रा दिशा-निर्देशों में ब्रिटेन ने कहा कि ”लाल सूची” सात देशों तक सीमित हो जाएगी और भारत समेत 37 नए देशों तथा क्षेत्रों के टीकाकरण के प्रमाण को सोमवार तड़के चार बजे से मान्यता दी जाएगी. उल्लेखनीय है कि चार अक्टूबर को प्रभावी हुए ब्रिटेन के नए नियमों के अनुसार, कोविशील्ड टीके की दोनों खुराक लगवा चुके भारतीय यात्रियों को 10 दिन के पृथक-वास में रहना अनिवार्य किया गया था.

    इसके बाद, भारत ने एक जवाबी कदम उठाते हुए ब्रिटेन से भारत पहुंचने वाले ब्रिटिश नागरिकों का 10 दिन का पृथक-वास में रहना अनिवार्य कर दिया था, चाहे उनका पूर्ण रूप से कोविड-19 रोधी टीकाकरण हो चुका हो.

    Tags: Britain, Coronavirus, Coronavirus vaccination, India, S Jaishankar

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर