Assembly Banner 2021

COVID-19 in India: AIIMS डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया ने बताई भारत में कोरोना को हराने की राह

डॉक्टर गुलेरिया

डॉक्टर गुलेरिया

Coronavirus 2nd Wave: एम्स के निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने कहा कि इस बार कोरोना के नए केस में तेजी के पीछे कई वजहें हैं. मसलन लोग नियमों को नहीं मान रहे हैं. इसके अलावा इस बार पहले की तरह कोरोना की टेस्टिंग और ट्रैकिंग भी नहीं हो रही है.

  • Share this:
(मारया शकील)

नई दिल्ली. देशभर में कोरोना (Coronavirus) की दूसरी लहर से हाहाकार मचा है. सोमवार को एक लाख से ज्यादा नए केस सामने आए. इस बीच AIIMS के डायरेक्टर डॉक्टर रणदीप गुलेरिया (Dr.  Randeep Guleria) का कहना है कि भारत कोरोना की इस दूसरी लहर की मार से बच सकता है, बशर्ते कि लोग कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करें और साथ ही कुछ महीनों के लिए भीड़ को कम कर लें. गुलेरिया ने ये भी कहा कि अगर ऐसा हुआ तो भारत में इस महामारी से मौत की दर भी काफी कम हो जाएगी.

सीएनएन न्यूज़ 18 से खास बातचीत करते हुए डॉक्टर गुलेरिया ने कहा कि इस बार कोरोना के नए केस में तेजी के पीछे कई वजहें हैं. मसलन लोग नियमों को नहीं मान रहे हैं. इसके अलावा इस बार पहले की तरह कोरोना की टेस्टिंग और ट्रैकिंग भी नहीं हो रही है. उन्होंने कहा, 'लोग कोरोना से थक चुके हैं. पिछले एक साल से वो अपने कई काम नहीं कर पा रहे हैं. लेकिन लोगों को ये समझना चाहिए कि ये खतनाक है. खास कर बुजुर्गों के लिए ये वायरस जानलेवा है.'



Youtube Video

वैक्सीन की दो डोज के बाद भी कोरोना क्यों?
गुलेरिया से जब पूछा गया कि आखिर क्यों कई लोगों को वैक्सीन की दो डोज लेने के बाद भी कोरोना हो रहा है? इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, 'देखिए वैक्सीन लेने के बाद में लोग कोरोना से संक्रमित हो रहे हैं, लेकिन अगर ऐसे लोग कोरोना की चपेट में आते हैं तो उन पर इस वायरस का असर कम दिखेगा. वो गंभीर रूप से बीमार नहीं होंगे. उनमें हल्के लक्षण हो सकते हैं. उन्हें आईसीयू की जरूरत नहीं पड़ेगी. इसके अलावा ऐसे लोगों की मौत होने की संभावना भी कम है. '

ये भी पढ़ें:- देश में आज ही के दिन हुई थी BJP की स्थापना, इन नेताओं ने पहुंचाया शिखर तक

लॉकडाउन की जरूरत नहीं
डॉक्टर गुलेरिया का कहना है कि देश में इस वक्त लॉकडाउन की जरूरत नहीं है. लेकिन उनके मुताबिक मिनी लॉकडाउन होना चाहिए. उन्होंने कहा, 'जिन इलाकों से ज्यादा केस आ रहे हैं और वो कटेंमेंट ज़ोन है तो फिर वहां पूरी तरह पाबंदिया लगनी चाहिए. मुझे लगता है कि कोरोना के पूराने वेरिएंट पर अब ब्रिटेन का नया वेरिएंट हावी हो रहा है. ये काफी तेज़ी से फैल रहा है.'

80 फीसदी लोगों पर खतरा
डॉक्टर गुलेरिया ने चेतावनी दी है कि कोरोना का संक्रमण और तेज़ी से फैल सकता है. उन्होंने कहा, 'सीरो सर्वे के मुताबिक देशभर में इस वक्त करीब 21 फीसदी लोगों में कोरोना की एंटी बॉडीज बनी है. इसका मतलब ये भी हुआ कि करीब 80 फीसदी लोगों पर कोरोना का खतरा बना हुआ है. कोरोना के नए वेरिएंट तेजी से फैल रहे है. इसलिए हम सबको सावधान रहने की जरूरत है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज