होम /न्यूज /राष्ट्र /COVID-19: मनसुख मंडाविया ने राज्यों और UTs से कहा, कोरोना के खिलाफ लड़ाई में कोई कमी नहीं रहे

COVID-19: मनसुख मंडाविया ने राज्यों और UTs से कहा, कोरोना के खिलाफ लड़ाई में कोई कमी नहीं रहे

मुंबई के रेलवे स्टेशन पर यात्रियों की भीड़. (सांकेतिक तस्वीर)

मुंबई के रेलवे स्टेशन पर यात्रियों की भीड़. (सांकेतिक तस्वीर)

India Coronavirus News: भारत में एक दिन में कोरोना वायरस के 1,79,723 नए मामले आने से संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 3, ...अधिक पढ़ें

नई दिल्ली. देश में कोरोना वायरस के हालात को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने पांच राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ बैठक के दौरान उन्हें यह सुनिश्चित करने की सलाह दी कि सभी प्रकार के ऑक्सीजन बुनियादी ढांचे की जांच इस तरह की जाए कि यह एक कार्यात्मक/परिचालन अवस्था में हो. समाचार एजेंसी एएनआई ने आधिकारिक सूत्रों के हवाले से सोमवार को यह जानकारी दी.

यह बैठक ऐसे समय में हुई है जबकि भारत में एक दिन में कोरोना वायरस के 1,79,723 नए मामले आने से संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 3,57,07,727 पर पहुंच गई है, जिनमें से अभी तक 27 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश से आए ओमिक्रॉन स्वरूप के 4,033 मामले भी शामिल हैं.

‘सुनिश्चित हो कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में कोई कमी नहीं रहे’
मनसुख मंडाविया ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से यह सुनिश्चित करने का आह्वान किया कि कोविड-19 संक्रमण के मामलों में वृद्धि से लड़ने की तैयारी में कोई कमी न हो. मांडविया ने साथ ही महामारी के निर्बाध प्रबंधन के लिए समग्र तालमेल बनाए रखने पर भी जोर दिया. मंडाविया ने साथ ही यह भी दोहराया कि केंद्र कोविड-19 को काबू में करने के लिए राज्यों का सहयोग करने को समर्पित है.

मनसुख मंडाविया ने की कोविड-19 से जुड़ी तैयारियों की समीक्षा
महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, राजस्थान, गुजरात, गोवा, दादरा और नगर हवेली और दमन और दीव के स्वास्थ्य मंत्रियों, शीर्ष अधिकारियों और सूचना आयुक्तों के साथ बातचीत करते हुए मंडाविया ने कहा, “जब हम वैश्विक महामारी में बढ़ोतरी से मुकाबला कर रहे तो हमारी तैयारियों में कोई कमी नहीं रहनी चाहिए.” डिजिटल संवाद के दौरान, उन्होंने इन राज्यों में कोविड-19 को नियंत्रित करने और प्रबंधित करने के साथ-साथ टीकाकरण अभियान की प्रगति के लिए सार्वजनिक स्वास्थ्य तैयारियों की समीक्षा की.

मंडाविया ने दिया टीकाकरण बढ़ाने पर जोर
मंडाविया ने राज्यों को आवश्यक दवाओं के अतिरिक्त भंडार की समीक्षा करने और यह सुनिश्चित करने की भी सलाह दी कि यदि कोई कमी है, तो उसे पूरा किया जाए. केंद्रीय मंत्री ने राज्यों को सलाह दी कि सभी पात्र आबादी, विशेष रूप से कम टीकाकरण वाले क्षेत्रों और जिलों में टीकाकरण बढ़ाएं. उन्होंने कहा, “टीकाकरण से अस्पताल में भर्ती होने की जरुरत कम होती है और स्थिति गंभीर नहीं होती.”

एक दिन में 146 मरीजों की मौत, सक्रिय रोगियों की तादाद 7 लाख से अधिक
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के सुबह आठ बजे तक अपडेट आंकड़ों के अनुसार, उपचाराधीन मरीजों की संख्या बढ़कर 7,23,619 हो गई है जो करीब 204 दिनों में सबसे अधिक संख्या है, जबकि 146 और मरीजों के जान गंवाने से मृतकों की संख्या बढ़कर 4,83,936 हो गई है.

" isDesktop="true" id="3947148" >

आंकड़ों के अनुसार, ओमिक्रॉन के 4,033 मरीजों में से 1,552 स्वस्थ हो गए हैं या देश छोड़कर चले गए हैं. महाराष्ट्र में ओमिक्रॉन के सबसे अधिक 1,216 मामले आए. इसके बाद राजस्थान में 529, दिल्ली में 513, कर्नाटक में 441, केरल में 333 और गुजरात में 236 मामले आए.

(इनपुट भाषा से भी)

Tags: Coronavirus, Mansukh Mandaviya, Omicron

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें