Assembly Banner 2021

कोरोना वायरस को लेकर केंद्र ने चेताया: कहा- बद से बदतर हो रहे हालात, समूचा देश खतरे में

नई दिल्ली में कोरोना से मरे एक व्यक्ति को उसके रिश्तेदार दफनाते हुए. (रॉयटर्स फाइल फोटो)

नई दिल्ली में कोरोना से मरे एक व्यक्ति को उसके रिश्तेदार दफनाते हुए. (रॉयटर्स फाइल फोटो)

Coronavirus in India: नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. वी. के. पॉल ने कहा, ‘‘कोविड-19 संबंधी स्थिति बद से बदतर हो रही है. पिछले कुछ सप्ताहों में, खासकर कुछ राज्यों में, यह एक बड़ी चिंता का विषय है."

  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र ने मंगलवार को कहा कि कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण संबंधी स्थिति ‘‘बद से बदतर हो रही है’’ और यह खास तौर पर कुछ राज्यों के लिए बड़ी चिंता का विषय है. इसने कहा कि पूरा देश जोखिम में है और किसी को भी लापरवाही नहीं करनी चाहिए. इसने कहा कि कोविड-19 से सर्वाधिक प्रभावित 10 जिलों में से आठ महाराष्ट्र से हैं और दिल्ली भी एक जिले के रूप में इस सूची में शामिल है.

स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि जिन दस जिलों में सर्वाधिक उपचाराधीन मामले हैं, उनमें पुणे (59,475), मुंबई (46,248), नागपुर (45,322), ठाणे (35,264), नासिक (26,553), औरंगाबाद (21,282), बेंगलुरु नगरीय (16,259), नांदेड़ (15,171), दिल्ली (8,032) और अहमदनगर (7,952) शामिल हैं. उन्होंने कहा कि तकनीकी रूप से दिल्ली में कई जिले हैं, लेकिन इसे एक जिले के रूप में लिया गया है.

नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. वी. के. पॉल ने कहा, ‘‘कोविड-19 संबंधी स्थिति बद से बदतर हो रही है. पिछले कुछ सप्ताहों में, खासकर कुछ राज्यों में, यह एक बड़ी चिंता का विषय है. किसी भी राज्य, देश के किसी भी हिस्से या जिले को लापरवाही नहीं बरतनी चाहिए.’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम काफी अधिक गंभीर स्थिति का सामना कर रहे हैं, निश्चित तौर पर कुछ जिलों में. लेकिन पूरा देश जोखिम में है, इसलिए रोकने (संक्रमण के प्रसार को) और जीवन बचाने के सभी प्रयास किए जाने चाहिए.’’

पॉल ने कहा, ‘‘अस्पताल और आईसीयू संबंधी तैयारियां तैयार रहनी चाहिए. यदि मामले तेजी से बढ़े तो स्वास्थ्य देखरेख प्रणाली चरमरा जाएगी.’’ केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने बताया कि देश में कुल सक्रिय मामलों की संख्या बढ़कर 5,40,720 हुई है जो कि 4% से ज्यादा है. उन्होंने कहा, "देश में कोरोना से मृत्यु की संख्या 1,62,000 है, जबकि कोरोना से ठीक होने की दर 94% है."
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज