तमिलनाडु में कोरोना का कहर, एक दिन में रिकॉर्ड 3949 केस और 62 लोगों की मौत

तमिलनाडु में कोरोना का कहर, एक दिन में रिकॉर्ड 3949 केस और 62 लोगों की मौत
तमिलनाडु में कोरोना वायरस के 3,940 नए केस और 62 लोगों की मौत (फाइल फोटो)

तमिलनाडु (Tamil Nadu) में कोरोना संक्रमण के 86,224 मामले हैं, वहीं 1,443 मरीजों को उपचार के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई, जिससे स्वस्थ हो चुके लोगों की संख्या 47,749 हो गई है.

  • Share this:
चेन्नई. तमिलनाडु (Tamil Nadu) में सोमवार को कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण के एक दिन में रिकॉर्ड 3949 नए मामले सामने आए. जिसके बाद राज्य में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 86,224 हो गई, जबकि संक्रमण से 62 लोगों की मौत हुई है. स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, संक्रमण से 62 लोगों की मौत होने से मृतकों की संख्या बढ़कर 1141 हो गई है. स्वास्थ्य विभाग के बुलेटिन में कहा गया कि राज्य में 1,443 मरीजों को उपचार के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई, जिससे स्वस्थ हो चुके लोगों की संख्या 47,749  हो गई है.

राज्य में अब 37,331 मरीजों का उपचार चल रहा है. मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी ने कहा कि उनकी सरकार महामारी को रोकने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है. पलानीस्वामी ने द्रमुक प्रमुख एम के स्टालिन के उस बयान की आलोचना कि सरकार उनके सुझावों पर विचार नहीं कर रही है. उन्होंने कहा कि विपक्षी नेता केवल राजनीतिक बयान दे रहे हैं. सरकार ने जांच बढ़ायी है, रविवार को 32,948 नमूनों की जांच की गई, जबकि अब तक कुल 11.10 लाख जांच हो चुकी हैं.





'तमिलनाडु में लॉकडाउन के विस्तार की सिफारिश नहीं'

कोरोना महामारी से निपटने के संबंध में तमिलनाडु सरकार को सुझाव देने के लिए गठित विशेषज्ञ समिति कुछ खास क्षेत्रों में स्थिति के अनुसार लॉकडाउन लागू रखने के पक्ष में है, लेकिन उसने मंगलवार तक लागू लॉकडाउन को राज्य में और विस्तार दिए जाने की सिफारिश नहीं की है. समिति के एक सदस्य ने यह जानकारी दी. मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी की अध्यक्षता में यहां हुई बैठक में हिस्सा लेने के बाद आईसीएमआर के राष्ट्रीय महामारी विज्ञान संस्थान की डॉ प्रभदीप कौर ने कहा कि समिति ने शहर में चलाए जा रहे बुखार शिविरों (फीवर कैंप) की 'कामयाब पहल' को राज्य के अन्य भागों में विस्तार देने की भी सिफारिश की है.



बैठक में विश्व स्वास्थ्य संगठन की प्रमुख वैज्ञानिक सौम्या स्वामीनाथन समेत अन्य विशेषज्ञों ने भी वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए हिस्सा लिया. उन्होंने कहा कि शिविर कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों का जल्द पता लगाने और मामले दोगुना होने के समय को बढ़ाने में भी सहायक साबित हो रहे हैं. कौर ने कहा, 'हमारी समिति ने लॉकडाउन की सिफारिश नहीं की. यह एक सीधा तरीका है। हालांकि, सर्वोत्तम उपाय नहीं है, कभी-कभी इसकी आवश्यकता होती है. चेन्नई में, लॉकडाउन मामले दोगुना होने के समय में इजाफा करने में सहायक साबित हुआ और संक्रमण में भी कमी लाने में मददगार रहा. लेकिन अकेले लॉकडाउन ही कोविड-19 का समाधान नहीं है और हम सदा के लिए लॉकडाउन लागू नहीं रख सकते.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading