Coronavirus Update: क्या डेल्टा प्लस वेरिएंट पर असरदार होंगी वैक्सीन? ICMR-NIV करेंगी स्टडी

देशभर में डेल्टा प्लस वेरिएंट के 40 मामले सामने आ चुके हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर: AP)

Delta Plus Variant in India: डेल्टा प्लस की जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir), तमिलनाडु और कर्नाटक में भी दस्तक हो गई है. कोरोना के इस वेरिएंट का जम्मू-कश्मीर में एक, कर्नाटक में दो और तमिलानाडु में पहला मरीज मिला है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. भारत (India) में कोरोना वायरस (Coronavirus) के डेल्टा प्लस वेरिएंट (AY.1) को लेकर चिंता जारी है. मध्य प्रदेश, केरल और महाराष्ट्र (Maharashtra) में अधिकारी अलर्ट मोड पर हैं. फिलहाल इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (NIV) ने कोरोना के इस रूप से खिलाफ वैक्सीन पर स्टडी करने का फैसला किया है. इस हफ्ते सोमवार से तुलना की जाए, तो कोरोना के नए मामलों में बीते मंगलवार और बुधवार को बढ़त देखी गई है.

    देशभर में डेल्टा प्लस वेरिएंट के 40 मामले सामने आ चुके हैं. इस बात की जानकारी सरकार ने बुधवार को दी है. फिलहाल, महाराष्ट्र, केरल और मध्य प्रदेश में इस वेरिएंट की सक्रियता ज्यादा देखी जा रही है. इस वेरिएंट की तेज संक्रामकता के चलते केरल में तीन गांवों को सील कर दिया गया है. वहीं, मध्य प्रदेश के उज्जैन जिले में डेल्टा प्ल्स का शिकार हुए दो मरीज मिले हैं. स्थानीय प्रशासन के मुताबिक, बुधवार शाम इनमें से एक महिला की मौत हो गई.

    यह भी पढ़ें: डेल्टा प्लस के खतरे के बीच डॉ गुलेरिया ने लॉकडाउन, वैक्‍सीन और कोविड प्रोटोकॉल को बताया मजबूत हथियार

    इन तीनों राज्यों के अलावा डेल्टा प्लस की जम्मू-कश्मीर, तमिलनाडु और कर्नाटक में भी दस्तक हो गई है. कोरोना के इस वेरिएंट का जम्मू-कश्मीर में एक, कर्नाटक में दो और तमिलानाडु में पहला मरीज मिला है. फिलहाल इस वेरिएंट की पुष्टि 11 देशों में हो चुकी है और भारत सरकार की तरफ से इसे 'वेरिएंट ऑफ कंसर्न' घोषित कर दिया गया है.

    केंद्र सरकार ने राज्यों से प्रभावित जिलों में कंटेनमेंट उपाय और तेज करने के लिए कहा है. स्टडी के दौरान ICMR के एक्सपर्ट्स यह जानकारी हासिल करेंगे कि देश में मौजूद वैक्सीन डेल्टा प्लस वेरिएंट पर कितनी असरदार हैं. टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक, ICMR के वैज्ञानिक समिरन पंडा ने बताया कि जांच के नतीजे कुछ हफ्तों में सामने आ सकते हैं.

    महाराष्ट्र में चिंता ज्यादा
    बीते हफ्ते महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने एक बैठक की थी. इस बैठक में कोरोना की तीसरी लहर को लेकर चर्चा की गई थी और अधिकारियों और डॉक्टर्स को तैयारियां तेज करने के आदेश दिए गए थे. हाल ही में हुए एक मीटिंग में राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने आशंका जताई थी कि यह वेरिएंट महाराष्ट्र में तीसरी लहर का कारण बन सकता है. राज्य सरकार ने चेतावनी दी थी कि एक्टिव केस की संख्या आठ लाख तक पहुंच सकती है, जिनमें 10 फीसदी बच्चे होंगे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.