कोरोना वायरस: हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवा पाते ही डोनाल्ड ट्रंप के बदले सुर, कहा- मोदी हैं शानदार नेता

भारत-चीन सीमा विवाद में मध्यस्थता नहीं करेंगे ट्रंप

भारत-चीन सीमा विवाद में मध्यस्थता नहीं करेंगे ट्रंप

अमेरिकी चैनल फॉक्स न्यूज़ से बात करते हुए डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि भारत ने अपनी जरूरत के लिए हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवाई के निर्यात पर रोक लगाई थी, लेकिन पीएम मोदी सही हैं, उन्होंने मदद की.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 8, 2020, 10:21 AM IST
  • Share this:
वॉशिंगटन. भारत, अमेरिका समेत दुनियाभर के देशों में इस समय कोरोना वायरस (Coronavirus) का कहर जारी है. अमेरिका में हालात बेकाबू होते जा रहे हैं. ऐसे में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने भारत से एक जरूरी दवा मांगी थी, जिसे नहीं देने पर उन्होंने जवाबी कार्रवाई की धमकी भी दी थी. हालांकि, भारत ने मानवीय हित में इस दवा के निर्यात की परमिशन दे दी है. भारत के इस कदम के बाद डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने अपने ताजा बयान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की तारीफ की है.



काफी पहले से ऐसी खबरें थी कि एंटी-मलेरिया ड्रग hydroxychloroquine या HCQ कोरोना वायरस के प्रकोप से बचाने में मदद कर सकता है. भारत इस दवा का सबसे बड़ा निर्यातक देश है. इसी के चलते कई देशों ने भारत को इस दवा का ऑर्डर दिया हुआ था. कुछ समय पहले ही भारत ने दवाओं के निर्यात पर रोक लगाई थी. हालांकि, अब भारत ने इस रोक को खारिज कर दिया है. इस पर ट्रंप ने कहा, 'मैंने पीएम मोदी से पूछा कि क्या वो दवाई देंगे? वो शानदार हैं. उन्होंने अमेरिका की मदद की.'



अमेरिकी चैनल फॉक्स न्यूज़ से बात करते हुए डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि भारत ने अपनी जरूरत के लिए हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन दवाई के निर्यात पर रोक लगाई थी, लेकिन पीएम मोदी सही है, उन्होंने मदद की.'





इससे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति ने एक बयान में कहा था कि अगर भारत हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन की सप्लाई नहीं करता है, तो वह उनपर जवाबी कार्रवाई कर सकते हैं. जिसके बाद भारत में इस बयान को लेकर काफी विवाद हुआ था. कांग्रेस समेत कई पार्टियों ने सरकार से अपील की थी कि इस दवा की सप्लाई अमेरिका को न किया जाए.
क्या है हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन?

Hydroxychloroquine एक एंटी-मलेरिया ड्रग है. डोनाल्ड ट्रंप ने इसे लेकर एक ट्वीट भी किया था कि azithromycin, एक एंटीबायोटिक के साथ मिलाने पर यह दवा, दवा के इतिहास में गेम-चेंजर साबित हो सकती है. इसके बाद कई देशों ने भारत को इस दवा का ऑर्डर दिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज