अपना शहर चुनें

States

Coronavirus Vaccination Drive: कोरोना वॉरियर्स को याद कर पीएम मोदी हुए भावुक, बोले- हमारे सैंकड़ों साथी लौटकर नहीं आ पाए

संबोधन के दौरान भावुक हुए प्रधानमंत्री
संबोधन के दौरान भावुक हुए प्रधानमंत्री

भारत में शनिवार को कोरोना के खिलाफ वैक्सीनेशन (Coronavirus Vaccination Drive) अभियान की शुरुआत हो गई. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने संबोधन के दौरान उन स्वास्थ्यकर्मियों को याद करके भावुक हो गए, जो कोविड-19 संक्रमण की चपेट में आकर कभी घर नहीं लौट पाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 16, 2021, 1:35 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत में शनिवार को कोरोना वायरस के खिलाफ वैक्सीनेशन (Coronavirus Vaccination Drive) अभियान की शुरुआत हो गई. देश में टीकाकरण की शुरुआत से पहले प्रधानमंत्री ने देशवासियों को संबोधित किया. उन्होंने कहा कि वैक्सीन लगाए जाने के बाद भी किसी भी किस्म की लापरवाही नहीं बरतनी है. पीएम मोदी ने लोगों से अपील की है कि सभी लोग वैक्सीनेशन के दौरान कोविड प्रोटोकॉल का पालन करें. उन्होंने कहा, 'भारत चौबीसों घंटे सतर्क रहा. हमने सही समय पर सही फैसले किए.'

कोरोना टीकाकरण अभियान की शुरुआत करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने संबोधन के दौरान उन स्वास्थ्यकर्मियों को याद करके भावुक हो गए, जो कोविड संक्रमण की चपेट में आकर कभी घर नहीं लौट पाए. प्रधानमंत्री ने दिवंगत स्वास्थ्यकर्मियों को याद करते संबोधन में कहा, 'हमारे सैंकड़ों साथी ऐसे भी हैं, जो लौट कर घर नहीं आ पाए.'

प्रधानमंत्री ने कहा, 'हमारे डॉक्टर, पुलिस के साथी, दूसरे फ्रंटलाइन वर्कर्स ने मानवता के प्रति अपने दायित्व को प्राथमिकता दी. इनमें से अधिकार अपने बच्चों और परिवार से दूर रहे. कई कई दिन तक घर नहीं गए. सैंकड़ों साथी ऐसे भी हैं, जो कभी घर वापस लौट कर नहीं आ पाए. उन्होंने एक-एक जीवन को बचाने के लिए अपना जीवन आहूत कर दिया.'




पीएम मोदी ने कहा, 'इसलिए आज कोरोना का पहला टीका, स्वास्थ्य सेवा से जुड़े लोगों को लगाकर एक तरह से समाज, अपना ऋण चुका रहा है. यह टीका उन सभी साथियों के प्रति कृतज्ञ राष्ट्र की आदरांजलि भी है.'

इससे पहले प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत ने इस महामारी से जिस प्रकार से मुकाबला किया उसका लोहा आज पूरी दुनिया मान रही है. केंद्र और राज्य सरकारें, स्थानीय निकाय, हर सरकारी संस्थान, सामाजिक संस्थाएं, कैसे एकजुट होकर बेहतर काम कर सकते हैं, ये उदाहरण भी भारत ने दुनिया के सामने रखा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज