Coronavirus Vaccination Drive: करीब 46 लाख लोगों का वैक्सीनेशन, सिर्फ 34 लोगों को अस्पताल में कराना पड़ा भर्ती

देश में वैक्सीनेशन के बाद 8563 लोगों को दिक्कत हुई जिसमें से 34 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा.

देश में वैक्सीनेशन के बाद 8563 लोगों को दिक्कत हुई जिसमें से 34 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा.

भारत में 16 जनवरी को वैक्सीनेशन शुरू हुआ था. देश में वैक्सीनेशन के बाद 8563 लोगों को दिक्कत हुई जिसमें से 34 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 5, 2021, 11:44 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में कोरोना वैक्सीनेशन की प्रक्रिया (Coronavirus Vaccination Drive) 20 दिनों से जारी है. सरकारी आंकड़ों के अनुसार गुरुवार तक देश में 45,93,427 लोगों को टीके लगाए जा चुके थे. इसके साथ ही दूसरे चरण का टीकाकरण 13 फरवरी से शुरू होगा. नीति आयोग के सदस्य डॉक्टर वीके पॉल ने गुरुवार को कहा, 'यह स्थापित हो चुका है कि टीका सुरक्षित है. पैंतालीस लाख खुराक देने के बाद न्यूनतम दुष्प्रभाव देखने को मिले हैं. जैसे कि 1,150 में से एक व्यक्ति पर टीके का दुष्प्रभाव देखा गया. अभी तक किसी की मौत होने का मामला सामने नहीं आया है. इससे साबित होता है कि टीका सुरक्षित है.'

वहीं एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार वैक्सीन पाने वाले 97% से अधिक लोगों को वैक्सीनेशन से कोई दिक्कत नहीं हुई. बताया गया कि टीकाकरण कराने वाले व्यक्तियों में से सरकार  37 लाख लोगों तक पहुंची, जिसमें से 5,12, 128 लोगों ने जवाब दिया.

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार डेटा में बताया गया है कि 97.4% लोगों ने बताया कि बूथों पर सोशल डिस्टेंसिंग फॉलो की गई. वहीं 98.4% लोगों को प्रक्रिया के बारे में सूचित किया गया था. 97.1% को टीकाकरण के बाद 30 मिनट तक इंतजार करने के लिए कहा गया था और 97.4% अनुभव से संतुष्ट थे. अब तक AEFI को सूचित किया गया है 8563 लोगों को कुछ दिक्कत हुई जिसमें से 34 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा.


इससे पहले केंद्र सरकार ने उन आरोपों को 'पूर्ण रूप से आधारहीन' करार दिया कि सरकार ने यह कहने में जल्दबाजी दिखाई कि 19 स्वास्थ्य कर्मियों की मौत का कारण कोविड-19 का टीका नहीं है. सरकार ने कहा कि अभी तक ऐसा कोई साक्ष्य नहीं मिला है जिससे यह पता चल सके कि टीके के कारण उक्त स्वास्थ्य कर्मियों की मौत हुई. सरकार के अनुसार, विशेषज्ञों की राय जानने के बाद 19 स्वास्थ्य कर्मियों की मौत का विवरण सार्वजनिक किया जाएगा.

यहां 50 प्रतिशत या इससे अधिक स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण

स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने बताया था कि कि मध्यप्रदेश, राजस्थान, त्रिपुरा, मिजोरम, लक्षद्वीप, ओडिशा, केरल, हरियाणा, बिहार, अंडमान और निकोबार, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड एवं उत्तर प्रदेश वे राज्य एवं केंद्र शासित प्रदेश हैं जहां पर 50 प्रतिशत या इससे अधिक स्वास्थ्य कर्मियों का टीकाकरण हुआ है.



वहीं, सिक्किम, लद्दाख, तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर, चंडीगढ़, दादरा और नगर हवेली, असम, नगालैंड, मेघालय, मणिपुर और पुडुचेरी में 30 प्रतिशत या इससे कम स्वास्थ्यकर्मियों का टीकाकरण हुआ है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज