COVID-19: पंजाब में 18 से 44 वर्ष के लोगों का टीकाकरण शुरू, 1.12 करोड़ युवाओं को लगेगी वैक्सीन

1 मई से शुरू हुआ है टीकाकरण का तीसरा चरण. (Pic: AP)

1 मई से शुरू हुआ है टीकाकरण का तीसरा चरण. (Pic: AP)

Punjab Coronavirus Vaccination: पंजाब सरकार ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को 30 लाख खुराकों का ऑर्डर दिया है. इसके अंतर्गत मई 2021 में 18-44 वर्ष आयु वर्ग के लिए 4.29 लाख खुराकों का वितरण किया जाएगा.

  • Share this:

चंडीगढ़. पंजाब में 18 से 44 वर्ष के लोगों का सोमवार से टीकाकरण (Vaccination) शुरू हो चुका है. फिलहाल राज्य में सीरम इंस्टीट्यूट (Serum institute) से वैक्सीन की एक लाख डोज की खेप पंजाब पहुंची है. इस अभयान के तहत 1.12 करोड़ युवाओं को कोरोना रोधी टीके लगाए जाएंगे. वैक्सीन की कम संख्या के कारण वैक्सीनेशन ड्राइव में प्राथमिकता के आधार पर कंस्ट्रक्शन वर्कर्स (Construction workers) को ही यह डोज लगेगी.

युवाओं के लिए होगा 4.29 लाख खुराकों का वितरण

पंजाब सरकार (Punjab government) ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया को 30 लाख खुराकों का ऑर्डर दिया है. इसके अंतर्गत मई 2021 में 18-44 वर्ष आयु वर्ग के लिए 4.29 लाख खुराकों का वितरण किया जाएगा. स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू (Health Minister Balbir Singh Sidhu) ने कहा कि टीका विशेषज्ञों की समिति (Committee of vaccine experts) ने सिफारिश की है कि मई में उपलब्ध खुराकों के वितरण के लिए निजी क्षेत्र और अन्य स्रोतों की हिस्सेदारी के साथ खुराकों की मांग की पूर्ति की जाए. सह-रोगों से पीड़ित व्यक्तियों को गंभीर बीमारी का सबसे अधिक जोखिम होता है और इसलिए अगले चरण में 70 फीसदी खुराक इस समूह के लिए निर्धारित की गई हैं. स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि सह-रोगों की सूची पहले भारत सरकार द्वारा निर्धारित की गई है.

Youtube Video

OPINION : कोरोना काल में आपदा को ‘अवसर’ बनाने वाले बेशर्म गिद्धों को तत्काल रोकना जरूरी

जिलों में टीकों के वितरण के लिए बनाई रणनीति बारे बताते हुए उन्होंने कहा कि जिले को आबादी, मृत्यु दर और घनत्व के आधार पर 3 जोनों: ए, बी और सी में बांटा गया है जिनको 50 फीसदी, 30 फीसदी और 20 फीसदी अलॉटमेंट निर्धारित की गई है. समिति की सिफारिशों का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि कोविशील्ड और कोविड संबंधी अन्य टीके लगाने के लिए और इस संबंधी नई रणनीति बनाने के लिए राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय टीका विशेषज्ञों के साथ परामर्श किया जाएगा जिससे अंतरराष्ट्रीय तजुर्बे के साथ बड़ी आबादी को टीकों का लाभ दिया जा सके. राज्य सरकार प्राथमिक समूहों, सह-बीमारियों वाले व्यक्तियों और आम लोगों के लिए वैक्सीन प्रभावशीलता का मूल्यांकन करने के लिए पहले ही एक योजना तैयार कर रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज