COVID-19 वैक्सीन बनाने वाली कंपनियों के लिए DCGI की नई गाइडलाइन, 50% कारगर होना जरूरी

स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि देश में कोरोना की 30 वैक्सीन पर काम हो रहा है. इनमें से तीन वैक्सीन क्लीनिकल ट्रायल के विभिन्न चरणों में है. (AP)
स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि देश में कोरोना की 30 वैक्सीन पर काम हो रहा है. इनमें से तीन वैक्सीन क्लीनिकल ट्रायल के विभिन्न चरणों में है. (AP)

Covid-19 Vaccine Updates: ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने उन फार्मा दिग्गजों के लिए सुरक्षा, प्रतिरक्षा और प्रभावकारिता मापदंडों पर ध्यान केंद्रित करते हुए नए दिशानिर्देश जारी किए हैं, जो कोरोना वायरस (Coronavirus) की वैक्सीन बना रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 23, 2020, 8:26 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमितों की संख्या 56 लाख के पार हो गई है. अभी तक कोरोना वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) को लेकर कुछ भी कंफर्म जानकारी नहीं मिल पाई है. देश में तीन वैक्सीन क्लिनिकल ट्रायल के अलग-अलग स्टेज पर हैं. इस बीच ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने वैक्सीन बनाने में जुटी फार्मा दिग्गजों के लिए सुरक्षा, प्रतिरक्षा और प्रभावकारिता मापदंडों पर ध्यान केंद्रित करते हुए नई गाइडलाइंस जारी की है. DCGI ने कहा है कि एक COVID-19 वैक्सीन निर्माता उम्मीदवार के पास तीसरे फेज के ट्रायल के लिए कम से कम 50 प्रतिशत प्रभावकारिता होनी चाहिए, ताकि इसके लिए व्यापक रूप से तैनाती की जा सके.

नई गाइडलाइंस के मुताबिक, कोरोना की वैक्सीन विकसित करने वाली फार्मा कंपनियों को वैक्सीन से जुड़े संवर्धित श्वसन रोग (ईआरडी) के संभावित जोखिम को सूचित करने के लिए पर्याप्त डेटा मुहैया कराना होगा. DCGI ने नई गाइडलाइंस में इस बात पर भी प्रकाश डाला है कि गर्भावस्था में और प्रसव की क्षमता वाली महिलाओं में कोरोना वैक्सीन का इस्तेमाल टीकाकरण कार्यक्रमों के मुताबिक हो.

Coronavirus: 24 घंटे में मिले कोरोना के 83 हजार से ज्यादा नए मरीज, अब तक 90 हजार से अधिक मौत



ICMR चीफ ने कहा- कोई भी वैक्सीन 100 फीसदी कारगर नहीं
इससे पहले इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) के चीफ बलराम भार्गव ने इस बारे में कहा कि किसी भी वैक्सीन के लिए तीन चीजें महत्वपूर्ण होती हैं- सुरक्षा, प्रतिरक्षाजनकता और प्रभावकारिता. यहां तक ​​कि WHO का कहना है कि अगर हम किसी भी वैक्सीन में 50 प्रतिशत से अधिक प्रभावकारिता प्राप्त कर सकते हैं, तो वो एक स्वीकृत वैक्सीन है. सांस संबंधी वायरस में हमें कभी भी 100 प्रतिशत प्रभावकारिता नहीं मिलती है.' भार्गव ने कहा कि हालांकि हम 100 फीसदी प्रभावकारिता के लिए लक्ष्य बना रहे हैं, लेकिन 50 से 100 प्रतिशत के बीच पा सकते हैं.'

देश में 30 वैक्सीन पर चल रहा काम
स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि देश में कोरोना की 30 वैक्सीन पर काम हो रहा है. इनमें से तीन वैक्सीन क्लीनिकल ट्रायल के विभिन्न चरणों में है, जबकि चार वैक्सीन क्लीनिकल ट्रायल से पहले की अवस्था में हैं. हर्षवर्धन ने राज्यसभा में कहा था कि भारत भी अन्य देशों की तरह ही वैक्सीन बनाने के लिए पूरा प्रयास कर रहा है. हमें उम्मीद है कि अगले साल की शुरुआत में भारत में वैक्सीन उपलब्ध होगा.



ऑक्सफोर्ड वैक्सीन का तीसरा ह्यूमन ट्रायल जारी
ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और भारतीय सीरम संस्थान द्वारा तैयार की जा रही कोरोना वैक्सीन का मानव शरीर पर तीसरे चरण का ट्रायल इस सप्ताह से पुणे के ससून अस्पताल में शुरू हो चुका है. सरकार संचालित ससून अस्पताल के डीन डॉक्टर मुरलीधर तांबे ने बीते हफ्ते कहा था, 'ससून अस्पताल में कुछ स्वयंसेवक आगे आ चुके हैं. लगभग 150 से 200 लोगों को यह टीका लगाया जाएगा.'

COVID-19 Vaccine: ICMR डायरेक्टर के बयान ने बढ़ाई चिंता, कहा- सांस के रोगियों पर कोई वैक्सीन 100% कारगर नहीं

देश में अभी कोरोना के कितने केस?
भारत में कोरोना वायरस के संक्रमितों की संख्या बढ़कर अब 56 लाख 46 हजार 11 हो गई है. पिछले 24 घंटे में कोरोना के 83 हजार 347 नए मरीज मिले. मंगलवार को 1085 लोगों की जान भी गई है. इसके साथ ही मरने वालों की संख्या अब 90,020 हो गई है. बीते 24 घंटे में 87,007 लोग रिकवर हुए हैं. इसके साथ ही कोरोना से ठीक होने वाले मरीजों की संख्या अब 45 लाख 87 हजार 614 हो गई है. अभी देश में कोरोना के 9 लाख 68 हजार 377 एक्टिव केस हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज