अपना शहर चुनें

States

Coronavirus Vaccine: 6 वैक्सीन अंडर प्रॉसेस, जानें क्या है अब तक का अपडेट

 (AP Photo/Hans Pennink, File)
(AP Photo/Hans Pennink, File)

कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी के मद्देनजर भारत में 6 वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) पर काम चल रहा है. आइए हम आपको बताते हैं कि भारत में बनने वाली वैक्सीन के बारे में...

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 3, 2020, 12:03 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus Vaccine In India) के नियंत्रण और प्रबंधन के लिए दुनिया के अलग-अलग देशों में कोशिशें जारी हैं. रूस, चीन और ब्रिटेन ने जहां वैक्सीन हासिल कर लिया है वहीं कई देशों में अभी भी शोध जारी है. बता दें चीन ने चार और रूस ने 2 वैक्सीन् के क्लिनिकल ट्रायल पूरे होने के बाद मंजूरी दे दी. इसके बाद ब्रिटेन ने फाइजर की वैक्सीन को इमरजेंसी में इस्तेमाल करने की अनुमति दे दी है. वहीं भारत में भी 6 कोरोना वैक्सीन पर काम चल रहा है. इनमें से 2 वैक्सीन के मार्च 2021 तक आने की संभावना है. हाल ही में प्रधानमंंत्री नरेंद्र मोदी ने तीन वैक्सीन कैंडिडेट्स के लैब का दौरा भी किया था और वैक्सीन से जुड़ी जानकारियां ली थीं.

आइए हम आपको बताते हैं कि भारत में बनने वाली वैक्सीन के बारे में...

1- कोवीशील्ड- इमरजेंसी अप्रूवल के लिए आवेदन करेगा सीरम



वैक्सीन बनाने वाली प्रमुख कंपनी सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया ने शनिवार को कहा कि वह भारत में एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड की कोविड-19 वैक्सीन के आपातकालीन उपयोग के लाइसेंस के लिए अगले दो सप्ताह में आवेदन करने की प्रक्रिया में है। SII के CEO अदार पूनावासा ने कहा है कि वैक्सीन के 40 लाख डोज तैयार हो चुके हैं. कहा गया है कि यह वैक्सीन सरकार को 225 रुपए और आम लोगों को 500 रुपए तक में मिलेगा. बीते महीने इन वैक्सीन के थर्ड फेज के क्लिनिकल ट्रायल के नतीजे आए. बताया गया कि जब संक्रमित को इसके डेढ़ डोज दिए गए तो इसका असर 90 फीसदी था. वहीं दो फुल डोज देने पर इसका असर 62 फीसदी ही रहा.
2- कोवैक्सीन- फरवरी या मार्च तक कर सकती है इमरजेंसी अप्रूवल के लिए अप्लाई

भारत बायोटेक, NIV और ICMR के साथ मिल कर बनी को वैक्सीन के अब तक दो फेज के ट्रायल हो चुके हैं . अभी तक किसी वैक्सीन वॉलंटियर पर इसका साइड इफेक्ट नहीं दिखा है. कंपनी ने नवंबर में ही 25 जगहों पर इसके फेज 3 के ट्रायल्स शुरू किए हैं. अभी तक कंपनी ने यह नहीं बताया है कि इस वैक्सीन की कीमत क्या होगी. लेकिन फरवरी या मार्च में इसके इमरजेंसी अप्रूवल के लिए अप्लाई किया जा सकता है.



3-  डॉ रेड्डीज, आरडीआईएफ ने भारत में शुरू किया स्पूतनिक-वी टीके का परीक्षण
डॉ रेड्डीज लैबोरेटरीज और रूसी डायरेक्ट इनवेस्टमेंट फंड (आरडीआईएफ) ने मंगलवार को कहा कि उन्होंने कोरोना वायरस के स्पूतनिक-वी टीके का भारत में दूसरे-तीसरे चरण का नैदानिक परीक्षण शुरू किया है. उन्होंने कहा कि कसौली स्थित केंद्रीय औषधि प्रयोगशाला से आवश्यक मंजूरी मिलने के बाद परीक्षण शुरू हो गया है.

संयुक्त बयान में बताया गया कि यह परीक्षण कई स्थानों पर हो रहा है. इसके लिये जेएसएस मेडिकल रिसर्च को नैदानिक अनुसंधान साझेदार बनाया गया है. डॉ रेड्डीज ने जैव प्रौद्योगिकी अनुसंधान सहायता परिषद के नैदानिक परीक्षण केंद्रों का इस्तेमाल करने लिये भी समझौता किया है. परिषद का जैव प्रौद्योगिकी विभाग परीक्षण में परामर्श प्रदान करा रहा है.

कंपनी ने कहा है कि इसकी कीमत 700 रुपए के करीब रहेगी. फेज 2 और 3 के ट्रायल्स में कम से कम 2 से 3 महीने का वक्त लगेगा. माना जा रहा है कि इसे भी मार्च के बाद अप्रूवल मिलेगा.

4- जायडस कैडिला फेज 3 की तैयारी में
दवा बनाने वाली कंपनी जायडस कैडिला ने कोरोना के संभावित टीके जायकोव-डी का विकास किया है. कंपनी ने हाल ही में अपने टीके के पहले चरण के नैदानिक परीक्षण की घोषणा की थी.


कंपनी ने अब तक यह स्पष्ट नहीं किया है कि उसकी वैक्सीन के दाम क्या रहेंगे. हालांकि यह बताया जा रहा है कि 2021 के सेकंड क्वार्टर में वैक्सीन बाजार में आ सकती है. इसके फेज 1 के रिजल्ट्स आ चुके हैं और फिलहाल फेज 2 के ट्रायल चल रहे हैं.

5-  हैदराबाद की बायोलॉजिकल E से वैक्सीन के लिए करार
अमेरिकी कंपनी डायनावैक्स टेक्नॉलॉजी कॉरपोरेशन और ह्यूस्टन के बेयलर कॉलेज ऑफ मेडिसिन ने मिलकर वैक्सीन बनाया है. इसके लिए कंपनी ने हैदराबाद की बायोलॉजिकल E ने वैक्सीन के लिए करार किया है. हाल ही में इन्हें फेज 1 और 2 के ट्रायल शुरु किए जाएंगे. इसके लिए DCGI से मंजूरी मिल गई है. इस वैक्सीन के जुलाई 2021 के बाद बाजार में आने की उम्मीद है. अभी तक इसकी कीमत के बारे में जानकारी नहीं दी गई.

6- पुणे के जेनेवा फार्मा और HDT बायोटेक की वैक्सीन
अमेरिकी की HDT बायोटेक कार्पोरेशन के साथ पुणे की कंपनी जेनोवा फार्मा ने mRNA वैक्सीन HGCO19 विकसित किया है. अभी तक कंपनी ने फेज 1/2 के लिए अप्लाई नहीं किया है. अभी तक इंसानी शरीर पर इसके ट्रायल नहीं शुरु हुए हैं लेकिन 2021 में जुलाई के बाद इसके भी बाजार में आने की उम्मीद है. अभी तक इसकी भी कीमतों पर कुछ जानकारी नहीं दी गई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज