Coronavirus Vaccine Tracker : आक्सफोर्ड की वैक्सीन का ट्रायल आज से शुरू, रूस के Sputnik V पर बातचीत जारी

Coronavirus Vaccine Tracker : आक्सफोर्ड की वैक्सीन का ट्रायल आज से शुरू, रूस के Sputnik V पर बातचीत जारी
ऑक्सफोर्ड वैक्सीन का ह्ययून ट्रायल आज से शुरू हुआ.

Coronavirus vaccine tracker: भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus)के तीन टीकों पर ट्रायल्स जारी हैं. वहीं दूसरी ओर खबर है कि रूस ने ‘स्पूतनिक वी’ के विनिर्माण में भारत से सहयोग मांगा है. यहां पढ़ें भारत में वैक्सीन पर अब तक क्या-क्या हो चुका है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 26, 2020, 12:56 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत में कोरोना वायरस (Coronavirus In India) के मामले 33 लाख के करीब पहुंच गए हैं. बुधवार को 1 दिन में देश में 67,151 नए मामले आए और 1059 लोगों की मौत हो गई. अब तक देश में कोरोना के 32,34,474 मामले पुष्ट पाए गए जिसमें से 59,449 की मौत हो गई है और अभी भी 7,97,267 पेशेंट्स का इलाज चल रहा है. स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी किए गए आंकड़े के अनुसार मौत की दर 1.83 फीसदी हो गई है. देश में बढ़ते मामलों के बीच लोग वैक्सीन (Coronavirus Vaccine) का इंतजार कर रहे हैं. भारत में एक ओर जहां तीन वैक्सीन्स का ट्रायल चल रहा है वहीं रूस की स्पूतनिक V वैक्सीन पर भी बात चल रही है.

देश में जिस वैक्सीन पर काम हो रहा है उसमें से एक है आक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के रिसर्चर्स द्वारा विकसित संभावित कोरोना वायरस टीका. मंगलवार को इसकी खुराक ह्यूमन ट्रायल के सेकेंड फेज के लिए मंगलवार को महाराष्ट्र स्थित पुणे भारती विद्यापीठ के मेडिकल कालेज में पहुंची. बुधवार यानी आज से यह ह्यूमन ट्रायल शुरू हुआ. सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) भारत में कोरोना की वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल 17 अलग-अलग जगहों पर कर रहा है.

भारती विद्यापीठ के मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल एवं अनुसंधान केंद्र के चिकित्सा निदेशक डॉ. संजय लालवानी ने जानकारी दी, 'शुरुआत करने के लिए हमने पांच वालंटियर्स की पहचान की है, जिनकी कोविड-19 और एंटीबॉडी जांच की जाएगी और जिनकी रिपोर्ट नेगेटिव आएगी उन्हें बुधवार को टीकाकरण के लिए चुना जाएगा.' उन्होंने कहा कि अस्पताल को 300 से 350 वालंटियर्स की लिस्ट बनाने का लक्ष्य दिया गया है. टीके की एक खुराक प्राप्त करने के लिए चुने गए लोग 18 से 99 वर्ष की आयु के होंगे.



अस्पताल के उप चिकित्सा निदेशक डॉ. जीतेंद्र ओसवाल ने कहा कि टीके लगाए जाने के बाद वालंटियर्स की निगरानी मानक परीक्षण प्रोटोकॉल के अनुसार की जाएगी. जिन अन्य अस्पतालों में परीक्षण किया जाना है उनमें पुणे स्थित बीजे मेडिकल कॉलेज अस्पताल, एम्स दिल्ली, पटना में राजेंद्र मेमोरियल रिसर्च इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल साइंसेस, चंडीगढ़ में पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च, गोरखपुर में नेहरू अस्पताल और विशाखापट्टनम में आंध्र मेडिकल कॉलेज शामिल हैं.
Coronavirus Vaccine: Russia के Sputnik V पर बातचीत
इसके अलावा रूस ने भारत से कोविड-19 टीके ‘स्पूतनिक वी’ के विनिर्माण और यहां इसके तीसरे चरण के परीक्षण के लिए सहयोग मांगा है. सरकारी सूत्रों ने बताया कि कोविड-19 टीके से संबंधित राष्ट्रीय विशेषज्ञ समूह की 22 अगस्त को हुई पिछली बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा हुई.

‘स्पूतनिक वी’ का विकास ‘गमालेया रिसर्च इंस्टिट्यूट ऑफ एपिडेमोलॉजी एंड माइक्रोबायलॉजी’ तथा ‘रशियन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट फंड’ (आरडीआईएफ) ने मिलकर किया है. टीके का तीसरे चरण का व्यापक चिकित्सकीय परीक्षण नहीं हुआ है. इस टीके के बारे में सीमित डेटा को लेकर कई तबकों ने संदेह व्यक्त किया है.

Bharat Biotech और Zydus कैडिला का टीका
सरकार के एक सूत्र ने कहा, ‘रूस सरकार ने भारत सरकार से कोविड-19 के टीके ‘स्पूतनिक वी’ के विनिर्माण और यहां इसका तीसरे चरण का परीक्षण करने के लिए सहयोग मांगा है.’ सूत्र ने कहा, ‘जैव प्रौद्योगिकी विभाग और स्वास्थ्य अनुसंधान विभाग से मामले को देखने को कहा गया है. रूसी सरकार के अधिकारियों ने ‘स्पूतिनक वी’ के बारे में कुछ सूचना और डेटा साझा किया है, जबकि टीके के प्रभाव तथा सुरक्षा से संबंधित अन्य डेटा की प्रतीक्षा की जा रही है.’

इसके साथ ही भारत में कोविड-19 टीके के विकास के बारे में भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के महानिदेशक बलराम भार्गव ने मंगलवार को एक प्रेस ब्रीफिंग में कहा कि वर्तमान में देश में दो टीके पहले चरण का मानव परीक्षण पूरा कर चुके हैं और अब उनका दूसरे चरण का परीक्षण शुरू होगा. इनमें से एक टीका ICMR के सहयोग से भारत बायोटेक ने और दूसरा टीका जायडस कैडिला लिमिटेड ने विकसित किया है. (भाषा इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading