Corona Helpline Numbers: मेडिकल सिस्टम ने तोड़ा दम तो सोशल मीडिया पर बढ़े हाथ, इन नंबर्स पर पा सकते हैं हर मदद

दिल्‍ली सरकार ने बेड की गलत जानकारी देने पर दो निजी अस्‍पतालों पर कड़ी कार्रवाई की है. (सांकेतिक तस्वीर-PTI)

दिल्‍ली सरकार ने बेड की गलत जानकारी देने पर दो निजी अस्‍पतालों पर कड़ी कार्रवाई की है. (सांकेतिक तस्वीर-PTI)

India Coronavirus Update: भारत में कोविड-19 के एक दिन में रिकॉर्ड 2,73,810 नए मामले सामने आए और देश के कई राज्यों से ऑक्सीजन तथा दवाइयों की कमी की शिकायतें लगातार सामने आ रही हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 19, 2021, 2:36 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में कोरोना वायरस की दूसरी लहर काफी तेजी से फैली है. सभी राज्यों में कोरोना मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. मरीजों की संख्या में बेतहाशा बढ़ोतरी होने से अस्पतालों पर बोझ काफी बढ़ गया है. मरीजों को कहीं बेड नहीं मिल पा रहा है, तो कहीं ऑक्सीजन की किल्लत है. मेडिकल सुविधाओं के अभाव में भी कोरोना मरीजों के मरने की खबरें आ रही हैं. भारत में कोविड-19 के एक दिन में रिकॉर्ड 2,73,810 नए मामले सामने आए और देश के कई राज्यों से ऑक्सीजन तथा दवाइयों की कमी की शिकायतें लगातार सामने आ रही हैं.

ऐसे में सोशल मीडिया पर कई लोगों ने मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाए हैं. ये मुसीबत में फंसे लोगों के लिए मसीहा बनकर आए हैं. कोई भोजन-पानी से मदद पहुंचा रहा है, तो कोई किसी मरीज के परिजनों को ऑक्सीजन मुहैया करा रहा है. इतना ही नहीं, कोरोना मरीजों के लिए प्लाज्मा और रेमडेसिविर दवाइयों के इंतजाम भी लोग कर रहे हैं.

दिल्ली-एनसीआर में यहां है टिफिन का इंतजाम

कोरोना मरीजों के लिए यहां फोन पर से ही मिलेगी डॉक्टरों से सलाहजम्मू-कश्मीर के कोरोना मरीजों के लिए यहां मिलेगी मददलखनऊ में जिन्हें मदद की दरकार है, वे यहां संपर्क कर सकते हैंदिल्ली में मेडिकल सहायता
दूसरी ओर, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कोरोना वायरस के तेजी से बढ़ते मामलों और उनके कारण स्वास्थ्य प्रणाली पर पड़ रहे भार के मद्देनजर सोमवार रात को दस बजे से लेकर अगले सोमवार को तड़के पांच बजे तक छह दिन के लॉकडाउन की घोषणा की है. ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में बीते कुछ दिन से कोविड-19 के दैनिक मामलों की संख्या 25,500 के लगभग बनी हुई है तथा स्वास्थ्य प्रणाली पर भार बहुत बढ़ गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज