लाइव टीवी

अगस्त तक भारत में कहर बरपाएगा कोरोना वायरस, 25 लाख लोग हो सकते हैं संक्रमित- रिपोर्ट

News18Hindi
Updated: March 27, 2020, 12:21 PM IST
अगस्त तक भारत में कहर बरपाएगा कोरोना वायरस, 25 लाख लोग हो सकते हैं संक्रमित- रिपोर्ट
रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत में जांच भी धीमे हो रही है.

जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी (john hopkins university) की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत के सभी अस्पतालों को तीन महीने तक खूब मेहनत करनी होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 27, 2020, 12:21 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते देश भर में लॉकडाउन (Lockdown In India) है. अस्पतालों को मुस्तैद कर दिया गया और लोगों से सरकार की अपील है वे घरों के बाहर ना निकलें. भारत में कोरोना वायरस के फैलाव पर एक यूनिवर्सिटी ने रिपोर्ट दी है जिसमें कहा गया है कि भारत के लिए खतरा अभी टला नहीं है. रिपोर्ट में दावा किया गया है कि यह वायरस भारत को अभी कम से कम चार महीने तक परेशान करेगा. इस रिपोर्ट में कोरोना को मात देने के तरीके भी बताए गए हैं.

भारत की आधिकारिक वेबसाइट्स द्वारा जारी किये गये आकंड़ों का इस्तेमाल कर यह रिपोर्ट जॉन हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी (john hopkins university) और द सेंटर फॉर डिजीज डायनेमिक्स, इकॉनमिक्स एंड पॉलिसी (CDDEP) ने तैयार की है.

रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत में कोरोना इस साल जुलाई या अगस्त तक कोरोना खत्म होगा. इसमें पांच राज्यों के ग्राफ भी बनाकर दिखाये गये हैं. दावा किया गया है कि पूरे देश में लोग अप्रैल के दूसरे हफ्ते से मई के दूसरे हफ्ते तक कोरोना से संक्रमित होने के चलते अस्पताल में भर्ती होंगे. फिर जुलाई के दूसरे हफ्ते तक यह संख्या कम होने लगेगी और फिर अगस्त तक इसके पूरी तरह से खत्म होने की उम्मीद है. ग्राफ के अनुसार करीब 25 लाख लोग संक्रमित होंगे.

युनिवर्सिटी की रिपोर्ट में कहा गया है कि यह पता नहीं चल पा रहा है कि भारत में कितने लोग प्रभावित हैं. कई लोग ऐसे हैं जिनमें कोई लक्षण नहीं हैं यानी कोरोना वायरस से संक्रमित लोग ज्यादा हैं. उनमें कोरोना के लक्षण भी होंगे लेकिन उनका स्तर बहुत हल्का होगा. जब यह तेज होगा तब पता चलेगा.



10 लाख वेंटिलेटर्स की जरूरत होगी
रिपोर्ट में बताया गया है कि वृद्ध जन सोशल डिस्टेंसिंग का खयाल रखें. जितना ज्यादा लॉकडाउन होगा उतने ही लोग बचे रहेंगे. सोशल डिस्टेंसिंग को छोड़कर और कोई रास्ता नहीं है. कहा गया है कि भारत में कम से कम 10 लाख वेंटिलेटर्स की जरूरत होगी और अभी यहां सिर्फ 30-35 हजार वेंटिलेटर ही हैं. अमेरिका में 1.60 लाख वेंटिलेटर हैं लेकिन वह कम पड़ रहे हैं.

युनिवर्सिटी की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत के सभी अस्पतालों को तीन महीने तक खूब मेहनत करनी होगी. भारत को भी चीन औऱ बाकी देशों की तरह अस्थायी अस्पताल बनाने होंगे. इतना ही नहीं यह ध्यान भी रखना होगा कि अस्पतालों से संक्रमण ना फैले. कहा गया है कि भारत में चल रही जांच की प्रक्रिया भी धीमी है. ऐसे में अभी आंकड़े सामने नहीं आ पाये हैं.

यह भी पढ़ें:- 

Corona: क्यों इन 6 शहरों के लिए सात दिन में खरीदे जा रहे हैं 5 लाख बॉडी सूट
पिता की मौत, अंत्येष्टि के लिए बेटे को मिला पास, मुंबई से जाएगा कोलकाता
कोरोना पर किसानों के लिए बड़ा ऐलान, खेतों में आवाजाही पर कोई रोक नहीं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 27, 2020, 11:46 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर