लाइव टीवी

OPINION: मंदी पर मोदी सरकार का ब्रह्मास्त्र

Himanshu Praveen | News18Hindi
Updated: October 30, 2019, 12:10 PM IST
OPINION: मंदी पर मोदी सरकार का ब्रह्मास्त्र
तीन दशक का सबसे साहसी कदम उठाया मोदी सरकर ने

देश के उद्योगपतियों के साथ-साथ आम लोगों की नजर भी सरकार पर थी कि आखिर मंदी के इस दौर से बाहर निकलने के लिए सरकार क्या कदम उठाएगी और उसका क्या असर पड़ेगा?

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 30, 2019, 12:10 PM IST
  • Share this:
दुनिया भर में मंदी का दौर जारी है और इसका असर भारत पर भी पड़ रहा है, देश में लगातार मंदी के कारण कपनियों के बंद होने और रोजगार के अवसर कम होने की ख़बरें आ रहीं हैं. आर्थिक मंदी को लेकर विपक्ष भी सरकार पर हमलावर है. ऐसे में देश के उद्योगपतियों के साथ-साथ आम लोगों की नजर भी सरकार पर थी कि आखिर मंदी के इस दौर से बाहर निकलने के लिए सरकार क्या कदम उठाएगी और उसका क्या असर पड़ेगा.

मंदी सिर्फ भारत के आंतरिक कारणों के चलते नहीं बल्कि दुनिया भर में लगातार बदल रही आर्थिक स्थिति के कारण नज़र आ रही है. ऐसे में सरकार ने जो कदम उठाया उतने साहसिक कदम की उम्मीद शायद ही किसी को थी, केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतरमण ने जिस साहस के साथ उद्योंगो को टैक्स में भारी रियायत देने की घोषणा की उससे साफ है कि सरकार ने मंदी पर अपना ब्रह्मास्त्र चला दिया है.

तीन दशक का सबसे साहसी कदम
सरकार का ये कदम कितना साहसी है इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि वित्तमंत्री के कॉरपोरेट टैक्स कम करने के ऐलान से सरकार के खजाने पर 1.45 लाख करोड़ का असर पड़ेगा लेकिन दुनिया भर में मंदी के इस दौर से निपटने के लिए सरकार ने इतना बड़ा साहसिक फैसला लेने में कोई देरी नहीं की.

सरकार ने अर्थव्यवस्था के लिए ऐसे साहसी कदम करीब 28 साल पहले उठाए थे.


इससे पहले ऐसा कदम करीब 28 साल पहले उठाया गया था. आरबीआई गवर्नर शशिकांत दास समेत देश के जाने माने उद्योगपतियों ने सरकार के इस फसैले की तारीफ की है. सरकार के आज के फैसले को तीन दशक का सबसे साहसी फैसला भी माना जा रहा है.

सरकार के फैसले से बढ़ेंगे रोजगार के अवसरकॉरपोरेट टैक्स कम होने से साफ है कि कम मुनाफा बना रही कंपनियों पर टैक्स का बोझ कम होगा यानी इन कंपनियों का मुनाफा बढ़ेगा और पहले से मुनाफे वाली कपंनिया अपना विस्तार करेंगी. साथ ही सरकार ने मैन्युफैक्चरिंग कंपनी स्थापित करने में टैक्स की सीमा 25 फीसदी से घटाकर 15 फीसदी कर दी है जिससे साफ है देश में ज्यादा से ज्यादा मैन्युफैक्चरिंग यूनिट लगेंगी और विदेशी निवेश भी बढ़ेगा.

वित्त मंत्रालय के इन फैसलों से देश में रोज़गार के नए अवसर पैदा होंगे.


कॉरपोरेट टैक्स कम होने और मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों पर लगने वाले टैक्स कम होने का सीधा असर नए-नए उद्योग के स्थापित होने पर पड़ेगा. साफ है सरकार के आज के फैसले के बाद देश भर में नए उद्योगों के स्थापित होने की संभावना तेज हो गई है, जिससे देश भर के युवाओं के लिए रोजगार के अवसर बढेंगे.

घोषणा के साथ ही उद्योंगो और आम लोगों को मिला फायदा
वित्त मंत्री के फैसले से सिर्फ उद्योग जगत को ही फायदा नहीं हुआ बल्कि देश के आम आदमी को भी इसका सीधा फायदा आज ही मिल गया है. वित्त मंत्री के ऐलान के बाद शेयर बाजार में अब तक की सबसे बड़ी तेजी देखने को मिली. शेयर बाजार करीब 2000 अंक चढ़ा और इसका असर आम जनता को 5 लाख करोड़ रूपये के फायदे के रूप में मिला. साफ है सरकार के इस फैसले का फौरी लाभ तो जनता को मिल गया लेकिन मंदी से उबरने और कारगर प्रभाव देखने के लिए अभी कुछ दिन और इंतजार करना होगा.

ये भी पढ़ें: सरकार ने दिया कंपनियों को दिवाली गिफ्ट! घटा कॉरपोरेट टैक्स, MAT से मिली छुट्टी, हुए 6 बड़े ऐलान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 20, 2019, 3:45 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर