अपना शहर चुनें

States

पश्चिम बंगाल के सुंदरबन में कैमरों से होगी बाघों की गिनती, कर्नाटक में भी गणना शुरू

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर

ऑल इंडिया टाइगर एस्टिमेशन रिपोर्ट 2018 के अनुसार, भारत बाघों के मामले में दुनिया के सबसे बड़े और सुरक्षित निवास वाले देशों में से एक है. देश में 2006 में 1,411 बाघ थे जबकि 2019 में यह संख्या 2,967 है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 17, 2020, 6:55 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. पश्चिम बंगाल के सुंदरबन में बाघों की गिनती करने की कवायद शुरू हो गई है. इसके लिए कैमरे लगाने की प्रक्रिया का पूरी हो गई है. यहा कैमरे की मदद से बाघों की गणना की जाएगी. खास बात है कि पिछली गिनती के अनुसार यहां 96 बाघ हैं. सुंदरबन के 4,200 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में बाघ 3,700 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में रहते हैं.

एक अधिकारी ने बताया कि सुंदबन में पहले चरण में कैमरा लगाने की प्रक्रिया पूरी हो गई और इसकी मदद से एक महीने तक बाघ की गतिविधियों पर नजर रखी जाएगी. सुंदरबन बाघ अभयारण्य (Sunderban Tiger Reserve) के फील्ड निदेशक तापस दास ने कहा, ‘हम पहले ही कई कैमरे लगा चुके हैं. वन विभाग भी जनवरी में 272 कैमरे लगाएगा. इस बार 582 स्थानों पर कुल 1,164 कैमरे लगाए जाएंगे.’ उन्होंने बुधवार को बताया कि बाघों की गिनती की इस प्रक्रिया में 120 वन कर्मियों के साथ कुल 10 टीमें शामिल हैं. इससे पहले हुई गणना के मुताबिक सुंदरबन रिजर्व वन में बाघों की संख्या 96 थी जबकि उसके पहली की गणना में यह संख्या 88 थी.

यह भी पढ़ें: ब्लैक पैंथर की तलाश में 18 साल के ध्रुव ने एक सड़क पर गुजार दिए 9 हजार मिनट



ऐसे की जाती है गणना
वन अधिकारी ने बताया कि बाघों की गिनती वैसे तो पारंपरिक तौर पर उनके पैरों के निशान से की जाती है, लेकिन पिछली गणना कैमरा ट्रैपिंग (Camera Trapping) यानि वन क्षेत्र में कैमरा लगाने तकनीक के जरिए की गई थी. ऑल इंडिया टाइगर एस्टिमेशन रिपोर्ट 2018 के अनुसार, भारत बाघों के मामले में दुनिया के सबसे बड़े और सुरक्षित निवास वाले देशों में से एक है. देश में 2006 में 1,411 बाघ थे जबकि 2019 में यह संख्या 2,967 है.

कर्नाटक में भी रिजर्व बनाने की तैयारियां शुरू
कर्नाटक के मले महादेश्वरा वाइल्डलाइफ सेंचुरी (Male Madeshwara Wildlife Sanctuary) मे भी बाघों की गणना के लिए कैमरा ट्रैप तरीके का इस्तेमाल किया जा रहा है. सेंचुरी में यह प्रक्रिया शुरू हो चुकी है. उम्मीद की जा रही है कि इस सेंचुरी को जल्दी ही टाइगर रिजर्व में तब्दील कर दिया जाएगा. खास बात है कि फील्ड स्टाफ ने सेंचुरी के नए इलाकों में बाघों की गतिविधियों का पता लगाया है. स्टाफ की तरफ से मिली जानकारी के बाद अथॉरिटी ने बाघों की गणना शुरू कर दी है.

(भाषा इनपुट के साथ)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज