अपना शहर चुनें

States

ओवैसी के मंच से पाकिस्तान जिंदाबाद कहने वाली लड़की को नहीं मिली बेल, कोर्ट ने कहा- भाग सकती है

स्टूडेंट एक्टिविस्ट अमूल्या को एक रैली में पाकिस्तान समर्थक नारे लगाने के लिए गिरफ्तार किया गया था.
स्टूडेंट एक्टिविस्ट अमूल्या को एक रैली में पाकिस्तान समर्थक नारे लगाने के लिए गिरफ्तार किया गया था.

19 वर्षीय कॉलेज स्टूडेंट अमू्ल्या (Amulya Leona Noronha) को बेल न देने के पीछे कोर्ट का तर्क है कि वो भाग सकती हैं. अमूल्या पर राजद्रोह (Sedition) की धाराएं लगाई गई हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: June 11, 2020, 11:48 AM IST
  • Share this:
बेंगलुरु. हैदराबाद के सांसद और एमआईएम (AIMIM)  नेता असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) के मंच से पाकिस्तान जिंदाबाद का नारा लगाने वाली अमू्ल्या लियोना (Amulya Leona Noronha) को कोर्ट ने बेल देने से इनकार कर दिया है. 19 वर्षीय कॉलेज स्टूडेंट अमू्ल्या को बेल न देने के पीछे कोर्ट का तर्क है कि वो भाग सकती हैं. अमूल्या पर राजद्रोह की धाराएं लगाई गई हैं.

इसी साल 20 फरवरी को बेंगलुरु में आयोजित एक सीएए विरोधी प्रदर्शन के दौरान अमूल्या ने एक भाषण देने के पहले पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे लगाए थे. इस प्रदर्शन के लिए आयोजित रैली के मंच पर असदु्द्दीन ओवैसी भी मौजूद थे. हालांकि ओवैसी ने अमूल्या के पाकिस्तान जिंदाबाद कहते ही तुरंत माइक अपने हाथ में लेने की कोशिश की थी.

कोर्ट ने क्या कहा
अब कोर्ट का कहना है कि अगर अमूल्या को बेल दी गई तो वो इसी तरह की गतिविधियों में फिर से शामिल हो सकती हैं जो बड़े स्तर पर शांति के लिए खतरा है. गौरतलब है कि भाषणकला में माहिर अमूल्या को 20 फरवरी के पहले भी कई सीएए विरोधी प्रदर्शनों में बुलाया गया था. लेकिन 20 फरवरी की घटना के बाद बड़ा विवाद खड़ा हो गया था.
भाषण नहीं हुआ था पूरा


वीडियो क्लिप के मुताबिक पाकिस्तान जिंदाबाद कहने के तुरंत बाद ही उन्होंने हिंदुस्तान जिंदाबाद भी कहा था. उन्होंने कहा था कि आखिरकार सभी देश एक ही हैं. उन्हें भाषण पूरा नहीं करने दिया गया था क्योंकि आयोजक पाकिस्तान जिंदाबाद का नारा सुनकर तुरंत हरकत में आ गए थे.

लॉकडाउन की वजह से हुई देर
इससे पहले लॉकडाउन की वजह से अमूल्या की बेल बीते कुछ महीने में नहीं मिल पाई थी. भारत में 24 मार्च को सख्त लॉकडाउन की घोषणा कर दी गई थी जिसके बाद कोर्ट की कार्यवाही भी रुक गई थी. सरकारी वकील ने सुनवाई के दौरान तर्क दिया कि अमूल्या पाकिस्तान जिंदाबाद का नारा लगाकर लोगों को भड़काने की कोशिश कर रही थीं. इससे पहले भी अमूल्या ऐसा कर चुकी हैं जिससे दो धर्मों के बीच वैमनस्यता पैदा होने का खतरा है. एक रैली में “F##k Hindutva” का पोस्टर लेकर पहुंच गई थीं जिसके बाद काफी बवाल मच गया था.

यह भी पढ़ें:- 

होम आइसोलेशन-कैसा सरकारी इलाज, परिवार की कोरोना जांच के लिए खर्च किए 41 हज़ार

लॉकडाउन के दौरान 67 लाख मजदूर लौटे अपने घर वापस, टॉप पर बिहार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज