लाइव टीवी

कोर्ट का पुलिस को आदेश, मुकुल रॉय पर 23 अप्रैल तक न करे दंडात्मक कार्रवाई

News18Hindi
Updated: February 12, 2020, 6:29 PM IST
कोर्ट का पुलिस को आदेश, मुकुल रॉय पर 23 अप्रैल तक न करे दंडात्मक कार्रवाई
कोर्ट का आदेश, मुकुल रॉय पर 23 अप्रैल तक न करे दंडात्मक कार्रवाई

जांचकर्ताओं को इस बात की अनुमति दी गई है कि वे महत्वपूर्ण परिस्थितियों में मामले में पूछताछ के लिए सात दिन का नोटिस देकर भाजपा नेता को तलब कर सकते हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 12, 2020, 6:29 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. कलकत्ता उच्च न्यायालय ने बुधवार को पुलिस को निर्देश दिया है कि वह किसी अज्ञात व्यक्ति द्वारा कथित तौर पर रंगदारी मांगने के लिए फोन किए जाने के मामले में अपनी जांच के तहत भाजपा नेता मुकुल रॉय के खिलाफ 23 अप्रैल तक कोई दंडात्मक कार्रवाई न करें.

रॉय को 23 अप्रैल तक संरक्षण प्रदान करते हुए न्यायमूर्ति तीर्थकर घोष ने जांचकर्ताओं को इस बात की अनुमति दी कि वे महत्वपूर्ण परिस्थितियों में मामले में पूछताछ के लिए सात दिन का नोटिस देकर भाजपा नेता को तलब कर सकते हैं. अदालत ने यह आदेश रॉय की अग्रिम जमानत याचिका पर दिया. रॉय के खिलाफ उनके पूर्व सहयोगी सुजीत श्याम ने मामला दर्ज कराया है. मामले पर अगली सुनवाई 23 अप्रैल को होगी.

रॉय के वकील विकास भट्टाचार्य ने अदालत से कहा कि शिकायत में ऐसा कुछ नहीं है, जिससे पता चलता हो कि याचिकाकर्ता ने कोई अपराध किया है. शिकायत राजनीतिक निमित्त से दायर की गई है. पुलिस की ओर से पेश लोक अभियोजक ने अदालत के समक्ष एक रिपोर्ट दाखिल की जिसमें कहा गया कि फोन करने वाले उस व्यक्ति की अभी तक पहचान नहीं हो पाई है जिसकी फोन कॉल के आधार पर कालीघाट थाने में शिकायत दर्ज की गई थी.

इसे भी पढ़ें :- पश्चिम बंगाल: CAA के समर्थन में रैली निकालने पर हिरासत में लिए गए कैलाश विजयवर्गीय

दो बार जांचकर्ताओं के सामने पेश हो चुके हैं मुकुल रॉय
रॉय जांच के सिलसिले में जांचकर्ताओं के समक्ष दो बार पेश हो चुके हैं. भाजपा नेता के जमानत आवेदन पर सुनवाई के दौरान न्यायमूर्ति घोष ने उल्लेख किया कि जांचकर्ताओं ने वह मोबाइल फोन जब्त नहीं किया है, जिस पर कॉल कथित रूप से की गई थीं. लोक अभियोजक ने अदालत से कहा कि पुलिस ने फोन के कॉल रिकॉर्ड प्राप्त कर लिए हैं.

इसे भी पढ़ें :- नारद टेप कांड: मुकुल रॉय और IPS मिर्जा से आमने-सामने हुई पूछताछसीडी देने के लिए 1.5 करोड़ रुपये मांगे गए थे
सुजीत श्याम ने कालीघाट थाने में दर्ज प्राथमिकी में दावा किया था कि उन्हें एक मोबाइल नंबर से कॉल आईं और फोन करनेवाले ने कहा कि उसे सीडी के रूप में कुछ दस्तावेज मिले हैं जो तृणमूल कांग्रेस के लिए घातक हो सकते हैं. उसने इसके बदले 1.5 करोड़ रुपये मांगे. श्याम ने यह दावा भी किया कि मामले में मुख्य आरोपी, अज्ञात फोनकर्ता ने उनसे कहा था कि मुकुल रॉय ने पूर्व में ऊंची कीमत पर सीडी खरीदने में रुचि दिखाई थी, लेकिन बाद में वह इससे पीछे हट गए.

इसे भी पढ़ें :- 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 12, 2020, 6:29 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर