vidhan sabha election 2017

अदालत ने 16 वर्षीय दुष्कर्म पीड़िता को गर्भपात की इजाजत देने से किया इंकार

भाषा
Updated: October 13, 2017, 9:48 PM IST
अदालत ने 16 वर्षीय दुष्कर्म पीड़िता को गर्भपात की इजाजत देने से किया इंकार
बॉम्बे हाई कोर्ट
भाषा
Updated: October 13, 2017, 9:48 PM IST
बंबई उच्च न्यायालय ने आज 16 वर्षीय दुष्कर्म पीड़िता को गर्भपात कराने की इजाजत देने से इनकार कर दिया. लड़की को 27 हफ्ते का गर्भ है. अदालत ने लड़की का परीक्षण करने वाले डॉक्टरों के पैनल की रिपोर्ट के आधार पर यह फैसला किया.

न्यायमूर्ति रंजीत मोरे की अध्यक्षता वाली पीठ ने पीड़ित की तरफ से उसके पिता द्वारा दायर याचिका को खारिज कर दिया. याचिका में गर्भ गिराने की अनुमति देने को कहा गया था. केईएम अस्पताल और जीएस मेडिकल कॉलेज के डॉक्टरों के पैनल ने पीड़ित की जांच के बाद यह सलाह दी थी कि गर्भावस्था के इस अंतिम चरण में गर्भपात से उसकी सेहत को संभावित खतरे को देखते हुये यह कदम नहीं उठाना चाहिये. इसके बाद अदालत ने यह आदेश दिया. आठ डॉक्टरों के पैनल ने गुरुवार को लड़की का परीक्षण किया था. लड़की के पिता ने याचिका में दावा किया था कि गर्भ को बरकरार रखने से उसे गंभीर आघात पहुंचेगा.

ये भी पढ़ेंः
बॉम्बे हाईकोर्ट की चीफ जस्टिस के कार्यालय में बम की सूचना

पतंजलि को एक और झटका, दिल्ली HC ने भी लगाई साबुन वाले विज्ञापन पर रोक


पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर