कोवैक्सीन और कोविशील्ड की कीमतों का ऐलान, 1 मई से कोरोना टीकाकरण का तीसरा चरण, जानें सबकुछ

कोविशील्ड और कोवैक्सीन का इस्तेमाल टीकाकरण कार्यक्रम के लिए हो रहा है. फाइल फोटो

कोविशील्ड और कोवैक्सीन का इस्तेमाल टीकाकरण कार्यक्रम के लिए हो रहा है. फाइल फोटो

India Readies To Vaccinate All Adults: रिपोर्ट्स की मानें तो देश के 17 राज्यों ने अपने लोगों के लिए मुफ्त टीकाकरण का ऐलान किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 25, 2021, 4:54 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत बायोटेक (Bharat Biotech) ने अपनी वैक्सीन कोवैक्सीन (Covaxin) की कीमतों का ऐलान कर दिया है. 1 मई से देश में कोरोना वायरस टीकाकरण के तीसरे चरण में वैक्सीन की ये कीमतें लागू होंगी. अगले महीने से देश में 18 साल से ऊपर के लोगों का टीकाकरण शुरू हो जाएगा. कोवैक्सीन के अलावा देश में ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की कोविड वैक्सीन कोविशील्ड का इस्तेमाल किया जा रहा है. केंद्र सरकार ने इस दोनों वैक्सीन को आपात इस्तेमाल की मंजूरी दी है. आइए आपको बताते हैं दोनों वैक्सीन की कीमतों के बारे में सबकुछ -

कोवैक्सीन की कीमत क्या है?

भारत बायोटेक ने कोवैक्सीन की कीमत राज्य सरकारों के लिए प्रति डोज 600 रुपये रखा है, वहीं प्राइवेट अस्पतालों के लिए प्रति डोज कीमत 1200 रुपये रखी गई है. कंपनी के चेयरमैन कृष्णा एम. एल्ला ने एक बयान में कहा कि भारत बायोटेक केंद्र सरकार को 150 रुपये की कीमत में वैक्सीन दे रही है. निर्यात के लिए कंपनी ने वैक्सीन की कीमत 15 से 20 डॉलर के बीच रखा है.

कीमतें ज्यादा क्यों हैं?
भारत बायोटेक ने इस बारे में कहा है कि कोवैक्सीन एक इनएक्टिवेटेड और हायली प्यूरिफाइड वैक्सीन है. कंपनी ने कीमतों का बचाव करते हुए कहा कि वैक्सीन के विकास में काफी खर्च आया है.

45 से ऊपर के लोगों के लिए मुफ्त है वैक्सीन?

वैक्सीन की ये कीमतें 18 से 45 साल से ऊपर के लोगों के लिए लागू होंगी. 1 तारीख से इस आयु वर्ग के लोगों के लिए टीकाकरण शुरू होगा. केंद्र सरकार ने कहा है कि सरकारी अस्पतालों में 45 साल से ऊपर के लोगों के लिए टीकाकरण फ्री होगा. 19 अप्रैल को केंद्र सरकार ने एक बयान में कहा कि टीकाकरण पहले की तरह चलता रहेगा. आवश्यक और प्राथमिक आयु वर्ग के लिए मुफ्त टीकाकरण होगा. जैसा कि पहले स्वास्थ्य कर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स और 45 साल से ऊपर के लोगों के लिए हुआ है.



टीकाकरण के फेज-3 के लिए नीति

टीकाकरण के लिए फेज-3 में वैक्सीन निर्माता कंपनियां अपने उत्पादन का 50 प्रतिशत सीधे बाजार में बेच सकती हैं. बाकी बची वैक्सीन केंद्र सरकार और अन्य प्रायोजित अभियान के लिए दी जाएंगी. भारत बायोटेक ने अपने एक बयान में कहा कि वैक्सीन उत्पादन का 50 प्रतिशत केंद्र सरकार के लिए आरक्षित रहेगा.

कोविशील्ड की कीमत क्या है?

इस सप्ताह की शुरुआत में सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने कहा कि उसके द्वारा निर्मित ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन कोविशील्ड की कीमत राज्य सरकारों के लिए प्रति डोज 400 रुपये रखी है, जबकि प्राइवेट अस्पतालों के 600 रुपया प्रति डोज रखी गई है. केंद्र सरकार के लिए सीरम ने वैक्सीन की कीमत 150 रुपया प्रति डोज रखा है.

अभी क्या हैं वैक्सीन की कीमतें

केंद्र सरकार के टीकाकरण केंद्रों पर स्वास्थ्य कर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स और 45 साल से ऊपर के लोगों के लिए टीका लगवाना मुफ्त है. प्राइवेट अस्पतालों में एक डोज की कीमत 250 रुपये है. चाहे कोई भी वैक्सीन लगवाइए. हालांकि 1 मई से शुरू हो रहे टीकाकरण के लिए प्राइवेट अस्पतालों को वैक्सीन अपने खर्च से खरीदनी होगी. ऐसे में प्राइवेट अस्पतालों में टीकाकरण महंगा हो जाएगा.

अब तक कहां पहुंचा भारत का टीकाकरण अभियान

भारत में 16 जुलाई 2021 को टीकाकरण अभियान की शुरुआत हुई थी. 1 मई से टीकाकरण का तीसरा चरण शुरू होगा. इससे पहले स्वास्थ्य कर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स और 60 साल से ऊपर के लोगों के लिए टीकाकरण अभियान चला है. 45 साल से ऊपर के लोगों के लिए भी जिन्हें गंभीर बीमारी थी, उनके लिए भी टीकाकरण अभियान खुला था. भारत अब उन कुछ देशों में शामिल हो गया है, जहां सभी बालिगों के लिए टीकाकरण अभियान खोल दिया गया है.



किन राज्यों ने किया फ्री टीकाकरण का ऐलान

हालिया रिपोर्ट्स की मानें तो देश के 17 राज्यों ने अपने लोगों के लिए मुफ्त टीकाकरण का ऐलान किया है. इन राज्यों में मध्य प्रदेश, जम्मू एंड कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, गोवा, केरल, छत्तीसगढ़, बिहार, झारखंड, उत्तर प्रदेश, असम, सिक्किम, पश्चिम बंगाल, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और हरियाणा शामिल हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज