केरल: कोवैक्सीन की कमी ने बढ़ाई चिंता, केंद्रों पर दूसरे डोज के लिए उमड़ी भीड़

ऑनलाइन नजर आ रहे सीमित वैक्सीन स्लॉट उपलब्ध होने के तुरंत बाद बुक हो जाते हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर-PTI)

ऑनलाइन नजर आ रहे सीमित वैक्सीन स्लॉट उपलब्ध होने के तुरंत बाद बुक हो जाते हैं. (प्रतीकात्मक तस्वीर-PTI)

Kerala Vaccination: स्टडीज इस बात का संकेत देती हैं कि वैक्सीन का सिंगल डोज (Vaccine Single Dose) कोरोना वायरस के वैरिएंट B.1.617.1 के खिलाफ बहुत कम सुरक्षा देता है. खास बात है कि राज्य में इसी वैरिएंट का प्रसार सबसे ज्यादा है.

  • Share this:

तिरुवनंतपुरम. केरल में कोवैक्सीन (Covaxin) सप्लाई में कमी के चलते वैक्सीन प्रोग्राम काफी ज्यादा प्रभावित हुआ है. इसके चलते दूसरा डोज प्राप्त करने का इंतजार कर रहे 45 साल से ज्यादा उम्र के लोगों में बेचैनी बढ़ गई है. अब वैक्सीन केंद्रों पर लोगों की भारी भीड़ पहुंचने लगी है, जिसके चलते राज्य सरकार को स्पॉट रजिस्ट्रेशन बंद करने का फैसला लेना पड़ा. वहीं, ऑनलाइन नजर आ रहे सीमित वैक्सीन स्लॉट उपलब्ध होने के तुरंत बाद बुक हो जाते हैं.

राज्य सरकार की पहले वैक्सीन प्रोग्राम को आगे बढ़ाने की योजना थी, लेकिन केंद्र की तरफ से सप्लाई में परेशानी आने के चलते कार्यक्रम पटरी से उतर गया. द हिंदू की एक रिपोर्ट के मुताबिक, केंद्र ने घोषणा की थी कि वह राज्यों को 18-44 आयुवर्ग के लिए वैक्सीन उपलब्ध नहीं कराएगा. राज्य सरकारों को अपने आप ही इनकी व्यवस्था करनी होगी. इसके बाद केरल ने 1 मई के बाद से निजी अस्पतालों वैक्सीन की सप्लाई रोक दी है और अब टीकाकरण अभियान कुछ गिने-चुने सरकारी अस्पतालों में ही चल रहा है.

यह भी पढ़ें: कहां गए कोवैक्सीन के 4 करोड़ डोज? मेल नहीं खाते उत्पादन और टीकाकरण के आंकड़े- रिपोर्ट

स्टडीज इस बात का संकेत देती हैं कि वैक्सीन का सिंगल डोज कोरोना वायरस के वैरिएंट B.1.617.1 के खिलाफ बहुत कम सुरक्षा देता है. खास बात है कि राज्य में इसी वैरिएंट का प्रसार सबसे ज्यादा है. ऐसे में 45 साल से ज्यादा उम्र के लोगों में वैक्सीन को लेकर चिंता बढ़ गई है. द न्यूज मिनट की रिपोर्ट बताती है कि 26 मई को पूरे केरल के 562 टीका केंद्रों में से 508 पर कोविशील्ड लगाई गई और 54 केंद्रों पर कोवैक्सीन दी गई.


केरल सरकार के 26 मई के बुलेटिन के अनुसार, राज्य के पास कोवैक्सीन के 47 हजार 750 डोज और कोविशील्ड के 1.62 लाख डोज मौजूद हैं. ये डोज केंद्र सरकार की तरफ से 45 साल से ज्यादा उम्र के लोगों, स्वास्थ्य कर्मियों और फ्रंटलाइन कर्मियों के लिए मुफ्त दिए गए थे. आधिकारिक डेटा बताता है कि गुरुवार की सुबह तक देश में कोवैक्सीन के करीब 2.1 करोड़ वैक्सीन डोज लगाए जा चुके हैं. जबकि, टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, देश में अभी भी 6 करोड़ से ज्यादा डोज मौजूद हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज