कोविड-19: बेंगलुरु में सुधरी स्थिति, 78% सामान्य बेड खाली लेकिन ICU बेड फुल

बेंगलुरु में अब कोरोना के नए मामलों में कमी आ रही है. (प्रतिकात्मक तस्वीर)

बेंगलुरु में अब कोरोना के नए मामलों में कमी आ रही है. (प्रतिकात्मक तस्वीर)

बीबीएमपी (BBMP) के आंकड़ों के मुताबिक शहर में मौजूद कुल सामान्य कोविड बेड 7195 हैं. इनमें से 5624 बेड इस वक्त खाली हैं. वहीं कुल ऑक्सीजन बेड 4945 हैं जिनमें 2098 अभी खाली हैं. यानी करीब 42 फीसदी ऑक्सीजन बेड खाली हैं. वहीं 589 वेंटिलेटर्स में सिर्फ 20 खाली हैं और 637 आईसीयू बेड्स में से सिर्फ 10.

  • Share this:

बेंगलुरु. कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु (Bengaluru) में अब कोरोना के नए मामलों (Covid New Cases) में लगातार कमी आती दिख रही है. इसका असर कोविड अस्पतालों के बेड (Covid Beds) के आंकड़ों में भी दिखाई दे रहा है. शहर की महानगर पालिका बीबीएमपी के आंकड़ों के मुताबिक कोविड अस्पतालों में सामान्य बेड 78 फीसदी तक खाली हैं. हालांकि आईसीयू और वेंटिलेटर बेड अभी पूरी तरह भरे हुए हैं. कहा जा रहा है कि जिस तरह नए मरीजों की संख्या में कमी हो रही है उससे जल्द ही वेंटिलेटर और आईसीयू बेड की भी स्थिति सामान्य होगी.

बीबीएमपी के आंकड़ों के मुताबिक शहर में मौजूद कुल सामान्य कोविड बेड 7195 हैं. इनमें से 5624 बेड इस वक्त खाली हैं. वहीं कुल ऑक्सीजन बेड 4945 हैं जिनमें 2098 अभी खाली हैं. यानी करीब 42 फीसदी ऑक्सीजन बेड खाली हैं. वहीं 589 वेंटिलेटर्स में सिर्फ 20 खाली हैं और 637 आईसीयू बेड्स में से सिर्फ 10 प्रतिशत ही खाली हैं.

Youtube Video

राज्य में सात जून तक के लिए बढ़ा दिया गया है लॉकडाउन
इससे पहले रविवार को राज्य में लॉकडाउन एक सप्ताह तक और बढ़ाने का फैसला किया गया है. राज्य के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने कहा कि अगर लोग सहयोग करें और कोरोना के मामलों में कमी आए तो लॉकडाउन को विस्तारित करने का सवाल ही नहीं उठता. कर्नाटक सरकार ने सात जून तक लॉकडाउन जारी रखने का फैसला किया है.

वैक्सीनेशन की रफ्तार तेज करने के हो रहे हैं प्रयास

बता दें देश को कोरोना की तीसरी लहर से बचाने के लिए केंद्र सरकार अब हर रोज एक करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाने की योजना बना रही है. सूत्रों के मुताबिक जुलाई के दूसरे या तीसरे हफ्ते से ये संभव है. फिलहाल इस योजना को अमल में लाने के लिए सरकार हर महीने 30 से 32 करोड़ वैक्सीन के प्रोडक्शन पर ध्यान दे रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज