Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    देश में कोरोना के एक्टिव केस 85 दिन में पहली बार 6 लाख से कम, रिकवरी रेट 91% के पार

    कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या 85 दिन में पहली बार छह लाख से कम (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)
    कोविड-19 के उपचाराधीन मरीजों की संख्या 85 दिन में पहली बार छह लाख से कम (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

    केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Union Ministry of Health) द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, देश में 5,94,386 लोगों का कोविड-19 (COVID-19) का इलाज चल रहा है, जो कुल मामलों का 7.35 प्रतिशत है. देश में कुल 73,73,375 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैं और मरीजों के ठीक होने की दर 91.15 प्रतिशत है. वहीं कोरोना वायरस (Coronavirus) से मृत्यु दर 1.50 प्रतिशत है.

    • News18Hindi
    • Last Updated: October 30, 2020, 4:26 PM IST
    • Share this:
    नई दिल्ली. देश में करीब तीन माह बाद कोविड-19 (COVID-19) के उपचाराधीन मरीजों की संख्या छह लाख के नीचे आई है और यह कुल मामलों का 7.35 प्रतिशत है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को यह जानकारी दी. साथ ही कहा कि भारत ने कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ लड़ाई में एक अहम उपलब्धि हासिल की है. आज की तारीख में देश में कुल 5,94,386 मरीज उपचाराधीन हैं. वहीं, छह अगस्त को यह संख्या 5.95 लाख थी. मंत्रालय ने कहा, 'वर्तमान में उपचाराधीन मरीजों की संख्या संक्रमण के कुल मामलों का केवल 7.35 प्रतिशत है. यह संख्या 5,94,386 है. इस प्रकार से मामले लगातार घट रहे हैं.'

    विभिन्न राज्यों और केंद्र शासित क्षेत्रों में उपचाराधीन रोगियों की संख्या अलग-अलग है जो महामारी से लड़ने के उनके प्रयासों और इसमें मिल रही प्रगति की ओर इशारा करती है. मंत्रालय ने कहा, 'भारत अभी भी शीर्ष देश है, जहां संक्रमण से ठीक होने वाले लोगों की संख्या सर्वाधिक है. उपचाराधीन रोगियों की संख्या और ठीक हो चुके मरीजों के बीच का अंतर लगातार बढ़ रहा है और आज की तारीख में यह संख्या 6,778,989 है.' मंत्रालय ने कहा कि संक्रमण मुक्त होने के नए मामलों में से 80 प्रतिशत 10 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से हैं. केरल में एक दिन में ठीक होने वाले लोगों की संख्या 8,000 से अधिक रही, जबकि महाराष्ट्र और कर्नाटक में यह संख्या 7,000 से अधिक रही.

    कोविड-19 के एक दिन में 48,648 नए मामले, कुल संक्रमितों की संख्या 80,88,851 हुई
    भारत में कोविड-19 के एक दिन में 48,648 नए मामले सामने आने के बाद देश में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर शुक्रवार को 80,88,851 हो गई. वहीं, उपचाराधीन मरीजों के छह लाख से कम होने के साथ ही संक्रमण से ठीक होने की दर देश में 91 प्रतिशत के पार पहुंच गई है. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से सुबह आठ बजे जारी अद्यतन आंकड़ों के अनुसार वायरस से 563 और लोगों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 1,21,090 हो गई है. मंत्रालय ने बताया कि देश में कुल 73,73,375 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैं और मरीजों के ठीक होने की दर 91.15 प्रतिशत है. वहीं कोविड-19 से मृत्यु दर 1.50 प्रतिशत है.
    मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, देश में 5,94,386 लोगों का कोविड-19 का इलाज चल रहा है, जो कुल मामलों का 7.35 प्रतिशत है. भारत में सात अगस्त को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितंबर को संक्रमितों की संख्या 40 लाख के पार चली गई थी. वहीं, कुल मामले 16 सितंबर को 50 लाख के पार, 28 सितंबर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख और 29 अक्टूबर को 80 लाख के पार चले गए थे. भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार 29 अक्टूबर तक कुल 10,77,28,088 नमूनों की कोविड-19 की जांच की गई, जिनमें से 11,64,648 नमूनों का परीक्षण गुरुवार को ही किया गया.



    ये भी पढ़ें: रिपोर्ट: लॉकडाउन ने दी UP की अर्थव्यवस्था को बड़ी चोट, उद्योगों का बुरा हाल, कृषि सेक्टर ने संभाला

    ये भी पढ़ें: प्रदूषण और कोरोना ने बिगाड़ा दिल्ली का हाल, तेजी से बढ़ रही संक्रमितों की संख्या

    इस राज्‍य में कोरोना से हो रही सबसे ज्‍यादा मौत
    आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटे में जिन 563 लोगों की मौत हुई, उनमें से 156 लोग महाराष्ट्र के थे. इनके अलावा पश्चिम बंगाल के 61, छत्तीसगढ़ के 53, कर्नाटक के 45, तमिलनाडु के 35, दिल्ली के 27 और केरल के 26 लोग थे. मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, देश में वायरस से अभी तक कुल 1,21,090 लोगों की मौत हुई है. इनमें से सबसे अधिक 43,710 लोग महाराष्ट्र के थे, उसके बाद कर्नाटक के 11,091, तमिलनाडु के 11,053, उत्तर प्रदेश के 6,983, पश्चिम बंगाल के 6,725, आंध्र प्रदेश के 6,659, दिल्ली के 6,423, पंजाब के 4,168 और गुजरात के 3,705 लोग थे.

    स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि 70 प्रतिशत से ज्यादा मामलों में मरीजों को अन्य बीमारियां भी थीं. मंत्रालय ने अपनी वेबसाइट पर बताया कि उसके आंकड़ों का आईसीएमआर के आंकड़ों के साथ मिलान किया जा रहा है.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज