नीति आयोग ने बताया, नौ करोड़ बार डाउनलोड किया जा चुका है आरोग्य सेतु ऐप

नीति आयोग ने बताया, नौ करोड़ बार डाउनलोड किया जा चुका है आरोग्य सेतु ऐप
नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने यह जानकारी दी (फाइल फोटो)

केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के खिलाफ जारी अभियान को मजबूती देने को लेकर सरकारी और निजी क्षेत्र के कर्मचारियों के लिये आरोग्य सेतु मोबाइल (Aarogya Setu) एप्लिकेशन (mobile app) का उपयोग करना अनिवार्य कर दिया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोनो वायरस (Coronavirus) के संक्रमण (Infection) के प्रति लोगों को आगाह करने के लिये बनाये गये सरकारी ऐप (Government) आरोग्य सेतु (Aarogya Setu) को अब तक करीब नौ करोड़ बार डाउनलोड (Download) किया जा चुका है. इस ऐप में जल्दी ही टेलीफोन के माध्यम से चिकित्सक (Doctors) के परामर्श की सुविधा जोड़ी जाने वाली है.

नीति आयोग (Niti Aayog) के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अमिताभ कांत (CEO Amitabh Kant) ने सोमवार को इसकी जानकारी दी. केंद्र सरकार ने कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus Pandemic) के खिलाफ जारी अभियान को मजबूती देने को लेकर सरकारी और निजी क्षेत्र के कर्मचारियों के लिये आरोग्य सेतु मोबाइल एप्लिकेशन का उपयोग करना अनिवार्य कर दिया है. संगठनों के प्रमुखों को यह सुनिश्चित करने के लिये कहा गया है कि यह ऐप सभी कर्मचारियों के फोन में हो.

आरोग्य सेतु ऐप में ही जोड़ी जा रही टेलीमेडिसिन की सुविधा
कांत ने एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘आरोग्य सेतु ऐप (Aarogya Setu App) को अब तक करीब नौ करोड़ बार डाउनलोड किया जा चुका है. इसमें टेलीमेडिसिन (टेलीफोन के माध्यम से चिकित्सक के परामर्श) की सुविधा को जोड़ा जा रहा है." यह मोबाइल ऐप उपयोगकर्ताओं को यह जानने में मदद करता है कि उन्हें कोरोना वायरस से संक्रमण का खतरा है या नहीं. यह कोरोनो वायरस के संक्रमण से बचने के तरीकों सहित महत्वपूर्ण जानकारी भी लोगों को प्रदान करता है.
कांत कोरोना वायरस महामारी की रोकथाम के लिये गैर सरकारी संगठनों (NGO) और अंतरराष्ट्रीय संगठनों के साथ समन्वय के लिये बनाये गये ‘अधिकार प्राप्त समूह 6’ के प्रमुख भी हैं. उन्होंने कहा कि समूह-6 अब तक एनजीओ दर्पण (NGO Darpan) मंच से 92 हजार से अधिक एनजीओ तथा सामाजिक संगठनों (CSO) को जोड़ चुका है.



देश के 112 जिलों में कुल कोरोना वायरस मामलों के 2% से भी कम
कांत ने कहा का प्रमुख है, ‘‘समूह-6 ने एनजीओ और सीएसओ (NGO and CSO) से अपील की है कि वे राज्यों और जिलों को हॉटस्पॉट की पहचान करने, स्वयंसेवकों को जमीन पर उतारें और जरूरतमंद लोगों की मदद करें.’’ कांत ने यह भी बताया कि भारत के 112 पिछडे़ जिले कोरोना वायरस महामारी के खिलाफ देश की लड़ाई की अगुवाई कर रहे हैं. उन्होंने कहा, "अब तक इन 112 जिलों में लगभग 610 मामले हैं, जो दो प्रतिशत के संक्रमण के राष्ट्रीय औसत से काफी कम है."

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) के अनुसार, सोमवार तक कोरोना वायरस महामारी के कारण देश में मरने वालों की संख्या बढ़कर 1,389 और संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 42,836 हो गयी.

यह भी पढ़ें: कोरोना के खिलाफ केरल को बड़ी कामयाबी, 2 दिन में 0 केस, सिर्फ 34 एक्टिव मामले
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading