लाइव टीवी

Lock Down: खत्‍म हुई दंपति के बीच 7 साल से चली आ रही अनबन, पसंद नहीं था पत्‍नी के हाथ का बेस्‍वाद खाना

News18Hindi
Updated: April 8, 2020, 9:43 AM IST
Lock Down: खत्‍म हुई दंपति के बीच 7 साल से चली आ रही अनबन, पसंद नहीं था पत्‍नी के हाथ का बेस्‍वाद खाना
लॉक डाउन में करीब आए पति-पत्‍नी के बीच सात साल से चल रहा झगड़ा सात मिनट में सुलझ गया. (प्रतीकात्‍मक फोटो)

स्‍वाद (Taste) के चक्‍कर में पति ने अपना ट्रांसफर अहमदाबाद (Ahmadabad) से वडोदरा कर लिया. अब पति जब भी छुट्टियों में घर आता तो पत्‍नी के हाथ के बने खाने की जगह जोमेटो, स्‍वीगी या किसी होटल से आर्डर कर अपना खाना मंगवा लेता था.

  • Share this:
अहमदाबाद. कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण को रोकने के लिए देश में जारी 21 दिनों का लॉक डाउन (Lockdown) कई लोगों की जिंदगी में एक नया सुबह लेकर आ रहा है. आपको यह पढ़ कर छोड़ा अजीब जरूर लग रहा होगा, लेकिन यह सच हैं. लॉक डाउन की वजह से जिन लोगों की जिंदगी में नया सवेरा आया है, उसने गुजरात के अहमदाबाद का रहने वाला एक दंपति भी शामिल है. दरअसल, इस दंपति के बीच बीते सात सालों से अनबन चल रही थी. इस अनबन की वजह सिर्फ इतनी थी कि पति को अपनी पत्‍नी के हाथ का खाना पसंद नहीं था. लजीज खाने का शौकीन पति हमेशा खाने के स्‍वाद को लेकर अपनी पत्‍नी को जमकर कोसता और फिर दोनों के बीच एक बड़ा झगड़ा हो जाता था.

सात साल से नहीं खाया था पत्‍नी के हाथ का खाना
नौबत यहां तक आ गई कि बेस्‍वाद खाने से परेशान होकर पति ने अपनी पत्‍नी के हाथ का खाना ही बंद कर दिया. वह दिन में ऑफिस की कैंटीन में खाना खाता और रात में किसी होटल से खाना खाकर घर पहुंचता था. बात यहीं पर नहीं रुकी. स्‍वाद के चक्‍कर में पति ने अपना ट्रांसफर अहमदाबाद से वडोदरा कर लिया. अब पति जब भी छुट्टियों में घर आता तो पत्‍नी के हाथ के बने खाने की जगह जोमेटो, स्‍वीगी या किसी होटल से आर्डर कर अपना खाना मंगवा लेता था. यह सिलसिला एक दो साल नहीं, बल्कि लगातार सात साल तक चला. इस बीच, देश में 21 दिनों का लॉक डाउन घोषित हो गया और पति को मजबूरत वडोदरा से अहमदाबाद वापस आना पड़ा. अहमदाबाद वापस आने के बाद पति के सामने दो विकल्‍प थे, पहला वह अपनी पत्‍नी के हाथ का खाना खाए, जो उसे बेस्‍वाद लगता था या फिर भूखा रहे.

कोविड हेल्‍पलाइन तक पहुंचा पति-पत्‍नी के बीच का झगड़ा



अब तक पत्‍नी को अहसास हो चुका था कि उसके पति को उसके हाथ का खाना बिल्‍कुल पसंद नहीं था. पति के वडोदरा जाने के बाद पत्‍नी ने कुकिंग क्‍लासेस ज्‍वाइन कर ली. अपने पति को खुश करने के लिए पत्‍नी ने वह हर डिस बनाना सीखी, जो उसके पति को बहुत पसंद थी. वहीं, लॉक डाउन के चलते वडोदरा से अहमदाबाद आए पति ने कुछ दिनों तक अपनी पत्‍नी के हाथ से बना नाश्‍ता किया. कुछ दिनों बाद, उसने वह नाश्‍ता करना भी छोड़ दिया. इस बात से आहत पत्‍नी ने अपनी पति की शिकायत कोविड हेल्‍पलाइन से कर दी.  पति-पत्‍नी के झगड़े का निपटारा कराने की जिम्‍मेदारी एक काउंसलर को दी गई. कुछ ही समय बाद, काउंसलर्स की एक टीम इस दंपति के घर पहुंच गई और दोनों के बीच सात साल चली आ रही अनबन की कहानी को बेहद ध्‍यान से सुना.



सात साल की अनबन को खत्‍म होने में लगे सात मिनट
काउंसलिंग के दौरान, पत्‍नी ने बताया कि पति को खुश करने के लिए हर वह खाना बनाना सीखा है जो उन्‍हें पसंद है. इस पर काउंस‍लर ने पति से अनुरोध किया कि वह कम से कम एक बार अपनी पत्‍नी के हाथ का बना खाना खाकर तो देखे. लेकिन, पति तैयार नहीं हुआ. आखिर में काउंसलर ने पति को ऑफर दिया कि वह एक बार अपनी पत्‍नी के हाथ का बना खाना खाकर देखे. यद‍ि उसे खाना पसंद नहीं आता है तो प्रशासन उस तक रोजाना टिफिन पहुंचाने की जिम्‍मेदारी लेगा. पति को यह ऑफर पसंद आया और उसने काउंसलर की शर्त मान ली. काउंसलर की मौजूदगी में पति ने पत्‍नी के हाथ का बना हुआ खाना खाया. इस बार न केवल उसे अपनी पत्‍नी के हाथ का खाना बेहद लजीज लगा, बल्कि उसने उसकी खूब तारीफ भी की. इस तरह, लॉक डाउन ने पति-पत्‍नी के बीच सात साल से चले आ रहे झगड़े को खत्‍म करा दिया.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 8, 2020, 9:26 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading