COVID-19: देश के कई हिस्सों में लॉकडाउन, राज्य सरकारों ने उठाए अहम कदम

COVID-19: देश के कई हिस्सों में लॉकडाउन, राज्य सरकारों ने उठाए अहम कदम
जयपुर से 1200 लोगों को लेक आज दानापुर पहुंचेगी स्पेशल ट्रेन (सांकेतिक चित्र)

कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते मुंबई की जीवनरेखा कही जाने वाली लोकल ट्रेन की सेवाएं भी बंद हैं. 1974 के बाद पहली बार हुआ है जब उपनगरीय और लंबी दूरी वाली ट्रेनें बंद की गई हों.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (CoronaVirus) के प्रकोप के कारण कई राज्यों में लॉकडाउन है और इससे निपटने के लिए देश में कई तरह के प्रयास किए जा रहे हैं. अरुणाचल प्रदेश (Arunachal Pradesh) सरकार ने राज्य में सोमवार से 31 मार्च तक लॉकडाउन की घोषणा की है. अधिकारियों ने बताया कि मुख्य सचिव नरेश कुमार की ओर से रविवार रात जारी अधिसूचना में कहा गया है कि इस दौरान सभी आवश्यक सेवाएं पहले की तरह ही जारी रहेंगी. वहीं, 1974 के बाद पहली बार ऐसा हुआ है जब उपनगरीय ट्रेनें (Train) रद्द की गई हैं.

वहीं, मुंबई की जीवनरेखा कही जाने वाली लोकल ट्रेन की सेवाएं भी बंद हैं. मुंबई में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ी है जिसके मद्देनजर सभी स्थानीय और उपनगरीय सेवाओं को 31 मार्च तक के लिए रद्द कर दिया गया है. लोकल ट्रेनों से रोजाना 80 लाख लोग यात्रा करते हैं. कई दशकों में पहली बार ऐसा हुआ है जब उपनगरीय ट्रेनें रद्द की गई हैं.

ट्रेनों की रफ्तार पर लगाई रोक
इससे पहले 1974 में उपनगरीय और लंबी दूरी वाली ट्रेनें 20 दिन तक हड़ताल की वजह से बंद रही थीं. रविवार को रेलवे अधिकारियों ने लंबी दूरी की सभी यात्री ट्रेनों को निलंबित करने का निर्णय लिया था. मुंबई में पिछले 24 घंटे में 14 नए मामले सामने आए हैं जिससे कुल मरीजों की संख्या 38 हो गई है.



1 हजार वेंटिलेटर खरीदेगी कर्नाटक सरकार


कर्नाटक सरकार ने कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए सोमवार को निर्णय लिया है कि वह चिकित्सीय उपकरण बनाने वाली कंपनी स्केनरी टेक्नोलॉजीज से 1,000 वेंटिलेटर और पांच लाख व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण खरीदेगी. स्वास्थ्य मंत्री बी श्रीरामुलु ने इस वायरस से निपटने के मद्देनजर अधिकारियों के साथ एक बैठक बुलाई थी, इस बैठक में मैसुरू की कंपनी भी वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से मौजूद थी. मंत्री ने लोगों से कड़ाई से सामाजिक दूरी बनाए रखने की सलाह का पालन करने को कहा है.

चर्च का पादरी गिरफ्तार
केरल के एक चर्च में सामूहिक प्रार्थना कराने वाले एक पादरी को सार्वजनिक स्थलों पर जमावड़ा नहीं करने के सरकारी आदेश का उल्लंघन करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया. पादरी पॉली पदयाती को कोदापुझा के एक चर्च में सामूहिक प्रार्थना का आयोजन करने के मामले में गिरफ्तार किया. इस प्रार्थना में कम से कम 100 लोगों ने हिस्सा लिया था. बाद में पादरी को जमानत पर छोड़ दिया गया. उन पर भारतीय दंड संहिता की धारा और केरल पुलिस अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है.

ईमेल के जरिए मांग सकेंगे सहायता
इसी बीच, असम सरकार ने विदेश में फंसे राज्य के लोगों के लिए एक ईमेल आईडी जारी की है जिस पर ये लोग संदेश भेजकर आर्थिक सहायता मांग सकेंगे. अंतरराष्ट्रीय उड़ानें रद्द होने के बाद कई यात्री विदेशों में फंसे हैं. मुख्य सचिव कुमार संजय कृष्ण ने सोमवार को बताया कि जो लोग अंतरराष्ट्रीय विमानों के निलंबित किए जाने से 30 दिन पहले विदेश गए हैं और कोरोना वायरस के संक्रमण की वजह से वापस नहीं लौट पाए, उन्हें 2,000 अमेरिकी डॉलर की सहायता दी जाएगी. ये लोग covhelpline.assam@gmail.com और ट्विटर हैंडल @assamfindept पर संपर्क कर सकते हैं.

खाना मुफ्त देने की पेशकश
इसी बीच दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने सोमवार को गुरुद्वारा मजनू का टीला में ठहरने की व्यवस्था की पेशकश की है. समिति ने यहां पृथक वार्ड और कोरोना वायरस के मरीजों के इलाज के लिए पृथक व्यवस्था लगाने की पेशकश की है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को पत्र लिखकर डीएसजीएमसी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा कि सराय के 20 कमरे आधुनिक सुविधाओं से लैस हैं और इसका इस्तेमाल कोरोना वायरस से निपटने में किया जा सकता है. इस दौरान मरीजों को लंगर (मुफ्त में खाना) देने की पेशकश की गई है.

मास्क पहनकर पुलिसकर्मी तैनात
जम्मू क्षेत्र में कोरोना वायरस से निपटने के लिए पुलिस कर्मी मास्क पहन बड़ी संख्या में तैनात किए गए हैं ताकि लॉकडाउन का पालन हो सके. यह बंद रविवार रात आठ बजे से लेकर 31 मार्च तक प्रभावी है. शहर की कई सड़कें कंटीली तारों से बंद कर दी गई है.

पुलिसकर्मी वाहनों में साउंड सिस्टम लगाकर लोगों से घरों में रहने और प्रशासन के साथ सहयोग करने की अपील कर रहे हैं. केंद्रशासित क्षेत्र में कोरोना वायरस के चार मामलों की पुष्टि हो चुकी है जिनमें से तीन जम्मू और एक कश्मीर का है.

महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने सोमवार को कहा कि कोरोना वायरस के संदिग्धों को 14 दिन तक अलग रखा जाएगा. पहले जांच में जिन लोगों के परिणाम निगेटिव आते थे उन्हें सात दिन तक अलग रखा जाता था.

ये भी पढ़ें-

सीएम येडियुरप्पा बोले- कर्नाटक में लॉकडाउन पर आज शाम लिया जाएगा फैसला
First published: March 23, 2020, 4:34 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading