अपना शहर चुनें

States

Lockdown: केरल सरकार ने गाइडलाइन से बाहर जाकर दी छूट, गृह मंत्रालय ने जताई आपत्ति

केरल कोरोना से निपटने के मामले में भी देश में सबसे आगे है.
केरल कोरोना से निपटने के मामले में भी देश में सबसे आगे है.

देश में कोरोना के सबसे पहले मामले केरल में ही सामने आए थे. इस समय केरल कोरोना से निपटने के मामले में भी देश में सबसे आगे है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 20, 2020, 10:29 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश में कोरोना संक्रमितों (Coronavirus) का आंकड़ा 17 हजार पार कर गया है. वहीं, एक समय में सबसे ज्यादा प्रभावित राज्यों में शामिल केरल में हालात तेजी से नियंत्रण में आ रहे हैं. ऐसे में केरल ने केंद्रीय गृह मंत्रालय की गाइडलाइन की अनदेखी करते हुए लॉकडाउन (Lockdown) में रियायत को लेकर नया आदेश जारी किया है. वहीं, अपने गाइडलाइन में इस बदलाव पर गृह मंत्रालय ने आपत्ति जाहिर करते हुए केरल सरकार को चिट्ठी लिखी है.

गृह मंत्रालय ने आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के तहत जारी किए गए आदेशों का उल्लंघन करने पर केरल सरकार को चिट्ठी लिखी है. केंद्र सरकार ने केरल से पूछा है कि गाइडलाइन में रियायत का दायरा क्यों बढ़ाया गया है?

केंद्र सरकार की फटकार के बाद केरल के मंत्री कड़कम्पल्ली सुरेंद्रन ने इस मामले में सफाई दी है. उन्होंने कहा कि हमने केंद्र द्वारा जारी निर्देशों का पालन करते हुए यह छूट दी है. कुछ गलतफहमी के कारण केंद्र ने स्पष्टीकरण मांगा है. एक बार जब हम स्पष्टीकरण दे देते हैं, मुझे उम्मीद है कि समस्या हल हो जाएगी



दरअसल, कोरोना वायरस की वजह से देश भर में जारी लॉकडाउन में सोमवार 20 अप्रैल से कुछ छूट दी जा रही है, ताकि आर्थिक कामकाज को शुरू किया जा सके. हालांकि, केरल सरकार ने इससे इतर आदेश संख्या 78/2020 / GAD तारीख 17.04.2020 को रद्द कर दिया है और लॉकडाउन में रियायत के लिए संशोधित गाइडलाइन जारी किया है.



केरल सरकार ने दी ये छूट
इस गाइडलाइन में केरल सरकार ने उन गतिविधियों को खोलने की इजाजत दी है, जो 15 अप्रैल को जारी किए गए गृह मंत्रालय के गाइडलाइन में प्रतिबंधित है. राज्य सरकार के मुताबिक, 14 जिलों में से कम से कम 7 जिलों में हालात सामान्य होने के कारण अलग से कुछ रियायतें दी जा रही हैं. इसके तहत यहां के 7 जिलों में आज से रेस्तरां को खोला जाएगा. स्थानीय वर्कशॉप में काम शुरू होंगे, बुक स्टोर, नगरपालिका सीमा में छोटे और मध्यम उद्योग, छोटी दूरी के लिए शहरों या कस्बों में बस यात्रा की सुविधा मिलेगी. साथ ही ऑड-ईवन फॉर्मूले पर कुछ प्राइवेट गाड़ियों को भी चलने की अनुमति दी जाएगी.

गृह मंत्रालय ने प्रतिबंधित की हैं ये चीजें
देश में लागू लॉकडाउन के दूसरे फेज में सोमवार से कुछ चिन्हित छूट देने का ऐलान किया गया है, लेकिन अभी भी कई ऐसे क्षेत्र और सर्विस हैं जो पूरी तरह से बंद रहेंगे. इन चीजों में नहीं है छूट:-

>>सभी घरेलू और अंतरराष्ट्रीय यात्री वायुयान सेवाएं
>> यात्री ट्रेन की सभी सेवाएं, सुरक्षा व्यवस्था के लिए किए गए परिचालन को छोड़कर
>> सार्वजनिक परिवहन के लिए बसें
>> मेट्रो रेल सेवाएं
>> मेडिकल वजहों (जिनकी निर्देशों में अनुमति हो) को छोड़कर जिलों और राज्यों के बीच में लोगों का आवागमन
>> सभी शिक्षण, प्रशिक्षण और कोचिंग संस्थान बंद रहेंगे
>> निर्देशों में जिनके लिए अनुमति हो उन्हें छोड़कर सभी औद्योगिक और वाणिज्यिक गतिविधियां
>> निर्देशों में दी गई छूट के अलावा सभी होटल
>> टैक्सी, ऑटो रिक्शा और साइकिल रिक्शा और सभी तरह की कैब
>> सभी सिनेमा हॉल, मॉल, शॉपिंग कॉम्प्लेक्स, जिम, स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स, स्विमिंग पूल, इंटरटेनमेंट पार्क, थिएटर, बार और ऑडिटोरियम व एसेंबली हॉल और ऐसी सभी जगहें
>> एक सामाजिक, राजनीतिक, खेलों से संबंधित, मनोरंजन, एकेडमिक, सांस्कृतिक, धार्मिक उत्सव और दूसरी सभाएं.
>> सभी धार्मिक स्थल, पूजा के स्थान जनता के लिए बंद रहेंगे. धार्मिक सभाएं पूरी तरह से प्रतिबंधित
>> शवयात्रा में भी 20 से अधिक लोगों के समूह को अनुमति नहीं दी जाएगी

केरल में तेजी से काबू में आए हैं हालात
बता दें कि बीते 7 दिनों के दौरान केरल में कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले सिंगल डिजिट में सिमटकर रह गए हैं. साथ ही केरल में कोरोना के संक्रमण से ठीक होने वाले लोगों की संख्या में भी तेजी आई है. केरल में अबतक कोरोना के कुल 396 मामले सामने आए हैं जिनमें से 255 लोग संक्रमण से मुक्त होने के बाद डिस्चार्ज हो चुके हैं.

गौरतलब है कि देश में कोरोना के सबसे पहले मामले केरल में ही सामने आए थे. इस समय केरल कोरोना से निपटने के मामले में भी देश में सबसे आगे है.

ये भी पढ़ें: लॉकडाउन पाबंदियों में ढील के बाद इन चीजों में मिलेगी छूट और ये रहेंगी प्रतिबंधित, देखें लिस्ट

ALERT! महाराष्ट्र और गुजरात में सामने आए डराने वाले आंकड़े, कोरोना के मामलों में बेहद तेज़ उछाल
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज