सरकार ने गंभीर कोविड-19 रोगियों के इलाज के लिए सस्ती दवा Dexamethasone को मंजूरी दी

सरकार ने कोरोना के गंभीर और मध्यम रोगियों के इलाज के लिए डेक्सामेथासोन दवा को मंजूरी दे दी है (फाइल फोटो, AP)
सरकार ने कोरोना के गंभीर और मध्यम रोगियों के इलाज के लिए डेक्सामेथासोन दवा को मंजूरी दे दी है (फाइल फोटो, AP)

ब्रिटिश क्लीनिकल ट्रायल (British clinical trials) में बहुत अधिक बीमारी रोगियों के प्रति इसकी जीवन-रक्षक क्षमताओं (life-saving potential) का पता चलने के बाद इसे कोरोना वायरस के इलाज के प्रोटोकॉल (Protocol) में शामिल किया गया था.

  • Share this:
नई दिल्ली. डेक्सामेथासोन (Dexamethasone), एक सस्ती और अधिकतर स्टेरॉयड (steroid) के तौर पर इस्तेमाल होने वाली दवा है. जिसे शनिवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Union health ministry) ने कोविड-19 रोगियों (Covid-19 patients) के इलाज के अन्य तरीकों में इलाज प्रोटोकॉल के तहत मध्यम और अत्यधिक संक्रमित रोगियों पर उपयोग के लिए मंजूरी दे दी है. डब्ल्यूएचओ (WHO) के मुताबिक, कोर्टिकोस्टेरॉयड डेक्सामेथासोन (corticosteroid dexamethasone) का प्रयोग ब्रिटेन में नेशनल क्लीनिकल ट्रायल 'रिकवरी' (United Kingdom's national clinical trial 'RECOVERY') के दौरान हॉस्पिटल में भर्ती कोविड-19 रोगियों पर किया गया था और पाया गया कि यह बहुत अधिक गंभीर रोगियों के लिए फायदेमंद है.

डब्लूएचओ (WHO) के साथ साझा किए गए प्रारंभिक निष्कर्षों के अनुसार, वेंटिलेटर (ventilators) पर जो रोगी हैं, उनके उपचार में मृत्यु दर (Mortality Rate) को इस दवा ने लगभग एक-तिहाई कम करने के लिए दिखाया था. और जिन रोगियों को केवल ऑक्सीजन (Oxygen) की आवश्यकता थी, इसने उनमें मृत्यु दर का लगभग 1/5वां हिस्सा कम कर दिया था.

मध्यम से गंभीर कोविड-19 के रोगियों के इलाज के लिए मंजूरी
अपडेट किए गए प्रोटोकॉल में COVID-19 के मध्यम से गंभीर मामलों से निपटने के लिए मिथाइल प्रेडनिसोलोन के विकल्प के रूप में डेक्सामेथासोन का उपयोग किये जा सकने की सलाह दी गई है. मंत्रालय ने कहा कि नवीनतम उपलब्ध साक्ष्य और विशेषज्ञ परामर्श पर विचार करने के बाद यह बदलाव किया गया है.
COVID-19 के लिए संशोधित 'क्लिनिकल मैनेजमेंट प्रोटोकॉल' के अनुसार, डेक्सामेथासोन जो पहले से ही फेफड़ों में संक्रमण के इलाज के लिए उपयोग की जाती है, इसके अलावा इसके जलनरोधी और इम्युनोसप्रेसेरेंट प्रभाव के चलते इसे मिथाइल प्रेडनिसोलोन के विकल्प के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है, जो उपचार दिशानिर्देशों में पहले से ही मौजूद रही है.



यह भी पढ़ें: कर्नाटक- 10वीं के छात्र में कोरोना की पुष्टि, 25 जून से शुरू हुई है परीक्षा

इससे पहले भी कोरोना के इलाज के लिए कई तरीकों-दवाओं को मिली मंजूरी
13 जून को स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी नियंत्रित आपातकालीन उपयोग के लिए एंटीवायरल ड्रग रेमडेसिवीर और टोकिलिज़ुमाब के ऑफ-लेबल प्रयोग के लिए के उपयोग की अनुमति दी थी, जो प्रतिरक्षा प्रणाली या इसके काम के मजबूत करने वाली एक दवा है. और COVID-19 के मध्यम संक्रमण वाले रोगियों के इलाज के लिए प्लाज्मा पद्धति के प्रयोग की अनुमति भी दे दी थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज