अपना शहर चुनें

States

कोरोना पर नई गाइडलाइंस जारी; नाइट कर्फ्यू लगा सकते हैं राज्‍य, लॉकडाउन के लिए लेनी होगी केंद्र से अनुमति

कोरोना वायरस को लेकर सरकार ने जारी की नई गाइडलाइंस (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)
कोरोना वायरस को लेकर सरकार ने जारी की नई गाइडलाइंस (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

MHA issues fresh guidelines containment zone: सरकार की गाइडलाइंस के अनुसार, कंटेनमेंट जोन में केवल आवश्यक गतिविधियों की ही अनुमति दी जाएगी. यह सुनिश्चित करने के लिए स्थानीय जिला, पुलिस और नगरपालिका के अधिकारी जिम्मेदार होंगे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 25, 2020, 11:50 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. गृह मंत्रालय (Ministry of Home Affairs) ने बुधवार को कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus) को लेकर कंटेनमेंट जोन (Containment), सर्विलांस (Surveillance) और सावधानी (Caution) को लेकर नई गाइडलाइंस जारी की हैं. जिसमें कहा गया है कि जिन इलाकों में पाबंदी लगाई गई है वहां पर सख्ती से नियमों का पालन किया जाए. कोरोना के मामलों में जो गिरावट आई है उसे बरकरार रखा जाए. गृह मंत्रालय ने राज्‍यों और केंद्र शासित प्रदेशों को भीड़-भाड़ वाली जगहों पर सावधानी बरतने और भीड़ को नियंत्रित करने के लिए भी निर्देशित किया है. गृह मंत्रालय के नए दिशानिर्देश 1 दिसंबर से 31 दिसंबर तक प्रभावी रहेंगे.

नाइट कर्फ्यू लगा सकते हैं राज्‍य: गृह मंत्रालय
सरकार ने कहा कि कोविड-19 की स्थिति के अपने आकलन के आधार पर राज्य, केंद्रशासित प्रदेश केवल निषिद्ध क्षेत्रों में रात्रिकालीन कर्फ्यू जैसी स्थानीय पाबंदियां लगा सकते हैं. निषिद्ध क्षेत्रों के बाहर किसी भी प्रकार का स्थानीय लॉकडाउन लागू करने के पहले राज्यों, केंद्रशासित प्रदेश की सरकारों को केंद्र से अनुमति लेनी होगी.


सरकार की गाइडलाइंस के अनुसार, कंटेनमेंट जोन में केवल आवश्यक गतिविधियों की ही अनुमति दी जाएगी. यह सुनिश्चित करने के लिए स्थानीय जिला, पुलिस और नगरपालिका के अधिकारी जिम्मेदार होंगे. साथ ही उन्‍हें कंटेनमेंट जोन के नियमों का कड़ाई से पालन भी कराना होगा. जबकि राज्‍य और केंद्र शासित प्रदेश संबंधित अधिकारियों की जवाबदेही तय करेंगे. सरकार ने कहा कि राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को भी कार्यालयों में सोशल डिस्‍टेंशिंग के नियम का पालन करने की आवश्यकता है. जिन शहरों में साप्ताहिक सकारात्मकता दर 10% से अधिक है, संबंधित राज्य/ केंद्रशासित प्रदेश सोशल डिस्‍टेंशिंग और अन्‍य नियमों का सख्‍ती से पालन करें.



ये भी पढ़ें: सत्येंद्र जैन ने कहा- दिल्ली में बढ़ गए हैं इतने ICU बेड, आ रही है Corona मामलों में गिरावट

ये भी पढ़ें: शादी समारोह के दौरान 350 मेहमानों की जुटी भीड़, दर्ज हुई मेरठ की पहली FIR

कोरोना मामलों की संख्या 92 लाख के पार
देश में कोरोना वायरस के मरीजों का आंकड़ा 92 लाख के पार हो गया है. अब तक 92 लाख 22 हजार 217 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए जा चुके हैं. बीते 24 घंटे में कोरोना के 44 हजार 376 केस मिले और 481 लोगों की मौत हुई. देश में अभी तक कोरोना से 1 लाख 34 हजार 699 लोगों की मौत हो चुकी है. 86 लाख 42 हजार 771 लोग अब तक ठीक हो चुके हैं, जबकि 4 लाख 44 हजार 746 एक्टिव केस हैं, यानी इन मरीजों का अभी इलाज चल रहा है. वहीं, दिल्ली में कोरोना से हालात बदतर होते जा रहे हैं. मंगलवार को 109 लोगों ने जान गंवाई. ये लगातार 5वां दिन था जब 100 से ज्यादा लोगों की मौत हुई है. इस दौरान 6224 नए मरीज मिले और 4943 लोग रिकवर हुए. 1172 एक्टिव केस में इजाफा दर्ज किया गया.

एक्टिव केस के मामले में भारत अब 7वें नंबर पर
देश के कई राज्यों में कोरोना की रफ्तार तेज हो रही है, लेकिन एक अच्छी खबर भी है. एक्टिव केस के मामले में भारत 6वें अब 7वें नंबर पर पहुंच गया है. एक्टिव केस का मतलब ऐसे मरीजों की संख्या जिनका इलाज चल रहा है. बीते 53 दिन में तीन बार ही एक्टिव केस बढ़े हैं, बाकी दिनों में इनमें गिरावट आई है. देश के ओवरऑल एक्टिव केस (ऐसे मरीजों की संख्या जिनका इलाज चल रहा है) में मंगलवार को 4 हजार से ज्यादा की बढ़ोतरी हुई. पिछले 7 दिनों के अंदर ये चौथी बार था जब एक्टिव केस बढ़ा है. इसके पहले लगातार 41 दिन इसमें कमी दर्ज की गई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज