Covid-19: प्रयागराज में 191 लोग कोरोना पॉजिटिव, 6 मरीजों की मौत, रिकवरी रेट में वृद्धि

प्रयागराज में फिलहाल एक्टिव मरीजों की संख्या 5 हज़ार के नीचे पहुंच गई है.(सांकेतिक फोटो)

प्रयागराज में फिलहाल एक्टिव मरीजों की संख्या 5 हज़ार के नीचे पहुंच गई है.(सांकेतिक फोटो)

डीएम प्रयागराज भानु चन्द्र गोस्वामी (DM Prayagraj Bhanu Chandra Goswami) के मुताबिक, शहर के अस्पतालों में अब ऑक्सीजन और आईसीयू बेड की मारामारी भी खत्म हो गयी है.

  • Share this:

प्रयागराज. संगम नगरी प्रयागराज (Prayagraj) में कोरोना के लागतार गिरते ग्राफ से यूपी सरकार (UP Government) और प्रशासन के साथ ही आम लोग भी बड़ी राहत महसूस कर रहे हैं. शहरी और ग्रामीण दोनों ही क्षेत्रों में कोरोना संक्रमितों की संख्या में भारी कमी आयी है. लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान कंटेनमेंट जोन में कोविड प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन कराये जाने के साथ ही ट्रेसिंग, टेस्टिंग और ट्रीटमेंट के फार्मूले के चलते ही अप्रैल माह में बेकाबू हुए कोरोना के संक्रमण की रफ्तार पर ब्रेक लगा है.

डीएम प्रयागराज भानु चन्द्र गोस्वामी के मुताबिक, शहर के अस्पतालों में अब ऑक्सीजन और आईसीयू बेड की मारामारी भी खत्म हो गयी है. कोरोना की सेकंड वेब आने के बाद संगम नगरी प्रयागराज में कोरोना संक्रमण का ग्राफ तेजी से बढ़ा था. छह अप्रैल के बाद कोरोना ने जब रफ्तार पकड़ी तो शहर के अस्पतालों में मरीजों के लिए बेड कम पड़ गए. लोग आक्सीजन के लिए अस्पतालों से लेकर आक्सीजन प्लाटों के बाहर जूझते दिखायी दिए. जिले में एक दिन कोरोना संक्रमितों की संख्या जहां ढ़ाई हजार तक पहुंच गई थी, वहीं अधिकतम कोरोना से एक दिन में 25 मौतों का भी रिकार्ड बन गया. लेकिन अगर बीते 24 घंटों की बात करें तो प्रयागराज में नये संक्रमितों का आंकड़ा दो सौ के नीचे पहुंच गया है.

संख्या 5 हज़ार के नीचे पहुंच गई है

शुक्रवार को जहां केवल 191 नए संक्रमित सामने आए, वहीं 6 लोगों की करोना से मौत हुई है. बड़ी बात ये है कि अब नए संक्रमितों की तुलना में रिकवर होने वालों की संख्या भी तेजी से बढ़ रही है. ज़िले में शुक्रवार को 535 लोग संक्रमण से मुक्त भी हुए हैं, जिनमे 484 लोगों ने होम आइसोलेशन पूरा किया है. जबकि 51 लोग अलग- अलग अस्पतालों से डिस्चार्ज हुए हैं. वहीं, प्रयागराज में फिलहाल एक्टिव मरीजों की संख्या 5 हज़ार के नीचे पहुंच गई है.
ट्रेसिंग और टेस्टिंग अभियान भी लगातार जारी है

सीएम योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर थर्ड वेब की आशंका के चलते अस्पताओं में अभी से तैयारी की जा रही है, जहां अस्पातालों में ऑक्सीजन बेड डबल किये जा रहे हैं, वहीं सभी सरकारी अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट भी लगाये जा रहे हैं. जबकि निजी अस्पतालों को भी आक्सीजन प्लांट स्थापित करने के लिए सरकार की ओर से सुविधायें दी जा रही हैं. डीएम के मुताबिक, जिले में कोरोना संक्रमितों के मामले कम जरुर हुए हैं, लेकिन प्रशासन की चुनौती अभी कम नहीं हुई है. इसलिए ग्रामीण और शहरी दोनों इलाकों में लॉकडाउन में जहां सख्ती बरती जा रही है, वहीं ट्रेसिंग और टेस्टिंग अभियान भी लगातार जारी है.

Youtube Video



व्यक्तियों को चिन्हित कर जांच करायी जा रही है

कोरोना के लक्षण वाले व्यक्तियों को चिन्हित कर जांच करायी जा रही है. कोरोना की जांच के लिए सभी पीएचसी पर कोरोना की जांच करायी जा रही और लोगों को दवायें भी वितरित की जा रही हैं. इसके साथ ही शहर में कोरोना की जांच के लिए तीस मोबाइल यूनिट और 12 स्टैटिक सेंटरों पर व्यवस्था की गई है. कोरोना का संक्रमण रोकने के लिए कंटेनमेंट में सख्ती बरती जा रही है और होम डिलिवरी ही सुनिश्चित करायी जा रही है. डीएम भानु चन्द्र गोस्वामी ने प्रयागराज में कोरोना संक्रमितों में कमी के लिए आमजन के सहयोग के लिए धन्यवाद दिया है. उन्होंने कहा है कि कोरोना की इस महामारी की चुनौती से सभी को मिलकर मुकाबला करना है, ताकि कोरोना से होने वाली जनहानि को रोका जा सके. उन्होंने कहा है कि कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए उठाये जा रहे कदमों को आगे भी सुनियोजित ढ़ंग से इसी तरह चलाया जायेगा.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज