Coronavirus Third Wave: 18 साल उम्र के बच्‍चों को बड़ा खतरा, जानिए कैसे हो सुरक्षा

कोरोना की तीसरी लहर 18 साल के कम उम्र के बच्‍चों के लिए होगी खतरनाक.  (File pic)

कोरोना की तीसरी लहर 18 साल के कम उम्र के बच्‍चों के लिए होगी खतरनाक. (File pic)

बता दें कि कोरोना की इस जंग में वैक्‍सीन (Vaccine) को बड़ा हथियार माना जा रहा है. हालांकि अभी तक बच्‍चों को लेकर कोई वैक्‍सीन नहीं आई है. ऐसे में तीसरी लहर (Third Wave) अगर खतरनाक साबित होती है तो उस समय देश के पास बच्‍चों के लिए किसी भी तरह का टीका उपलब्‍ध नहीं होगा.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. देश में कोरोना वायरस (Coronavirus) की दूसरी लहर अभी थमने का नाम भी नहीं ले रही है कि उससे पहले ही तीसरी लहर (Third Wave) को लेकर अलर्ट जारी कर दिया गया है. ऐसा माना जा रहा है कि कोरोना (Corona) की पहली लहर बुजुर्गों, दूसरी लहर युवाओं जबकि तीसरी लहर बच्‍चों के लिए खतरनाक साबित हो सकती है. पहली और दूसरी लहर में देश में जिस तरह के हालात देखे गए हैं उसके बाद तीसरी लहर को लेकर अभी से तैयारी तेज करने की जरूतर है.

बता दें कि कोरोना की इस जंग में वैक्‍सीन को बड़ा हथियार माना जा रहा है. हालांकि अभी तक बच्‍चों को लेकर कोई वैक्‍सीन नहीं आई है. ऐसे में तीसरी लहर अगर खतरनाक साबित होती है तो उस समय देश के पास बच्‍चों के लिए किसी भी तरह का टीका उपलब्‍ध नहीं होगा. बाल चिकित्सक डॉक्टर कमल किशोर धुले का कहना है कि, कोरोना की तीसरी लहर अब बस चंद महीने दूर है. ऐसे में बच्‍चों को किसी भी संक्रमण से बचाना किसी चुनौती से कम नहीं है.


इसे भी पढ़ें :- कोरोना की तीसरी लहर के लिए तैयारी कर रहा महिला एवं बाल विकास मंत्रालय
डॉक्टर कमल किशोर के मुताबिक बच्‍चे बाहर खेलते हैं इसलिए उनमें संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है. बच्चों में अभी खतरनाक संक्रमण का असर कम ही देखा जा रहा है लेकिन वायरस से संक्रमित होने के बाद उनके अंदर ब्लैक फंगस का खतरा बढ़ सकता है. अगर बच्चा कुपोषित है या कुछ अन्य बीमारी से परेशान हो जो उसमें ब्‍लैक फंगस का खतरा बढ़ जाता है. ऐसे समय में अगर बच्‍चे को सही इलाज नहीं मिल सका तो संक्रमण का लेवल बढ़ जाएगा. डॉक्‍टरों का कहना है कि बच्चों की इम्यूनिटी मजबूत होती है लेकिन वायरस जिस तरह से अपना रूप बदल रहा है उसे देखते हुए बड़ों को सभी तरह के कोविड प्रोटोकॉल का पालन करना चाहिए.

इसे भी पढ़ें :- COVID-19 3rd Wave: कोरोना की तीसरी लहर बच्‍चों के लिए होगी जानलेवा! विशेषज्ञों ने जताई खतरनाक आशंका

तीसरी लहर से किस तरह से बचा जा सकता है



पहली और दूसरी लहर को देखते हुए डॉक्‍टर तीसरी लहर के आने की संभावना जता चुके हैं. जयपुर गोल्डन अस्पताल में सीनियर कंसल्टेंट डॉक्टर राघवेंद्र पराशर ने कहा कि अगर कोरोना से तीसरी लहर से बच्‍चों को बचाना है तो कोविड-19 के उचित व्यवहार का सख्ती से पालन करना जरूरी है, जिससे संक्रमण के फैलाव को रोका जा सके. ऐसे में जरूरी है कि बच्‍चों के माता-पिता तीसरी लहर से पहले वैक्‍सीन लगवा लें, जिससे उनसे बच्‍चों में किसी भी तरह का खतरा कम किया जा सके.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज