अपना शहर चुनें

States

तेलंगानाः कोविड-19 वैक्सीन मिलने पर फेज-1 में 80 लाख लोगों को लगेगा टीका

अभी देश में कोविड-19 के लिए कोई भी मंजूरी प्राप्त टीका नहीं है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)
अभी देश में कोविड-19 के लिए कोई भी मंजूरी प्राप्त टीका नहीं है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

देश में अभी किसी भी कोरोना वायरस वैक्सीन (Coronavirus) को केंद्र सरकार ने आपातकालीन इस्तेमाल के लिए मंजूरी नहीं दी है. ब्रिटेन और अमेरिका में फाइजर वैक्सीन (Pfizer Vaccine) के टीके लोगों को लगाए जा रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 16, 2020, 8:10 PM IST
  • Share this:
हैदराबाद. तेलंगाना कोविड-19 का टीका राज्य के लिए उपलब्ध हो जाने पर शुरूआत में अग्रिम पंक्ति के कोरोना योद्धाओं सहित करीब 80 लाख लोगों का टीकाकरण करने के लिए आवश्यक बुनियादी ढांचा तैयार कर रहा है. आधिकारिक सूत्रों ने बुधवार को यह जानकारी दी. टीका लगाने वाले करीब 10,000 कर्मियों का प्रशिक्षण जारी है. टीके के भंडारण के लिए विभिन्न प्रमुख स्थानों पर व्यवस्था की जा रही है.

स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘यदि एक टीका कर्मी प्रतिदिन 100 लोगों को टीका लगाता है तो 10,000 टीका कर्मी आठ या दस दिनों में 80 लाख लोगों को टीका लगा सकते हैं.’’ अधिकारी ने कहा कि हालांकि अभी देश में कोविड-19 के लिए कोई भी मंजूरी प्राप्त टीका नहीं है, लेकिन उसे लगाने के लिए अभी से तैयारियां की जा रही हैं और टीकाकरण कार्य टीके के उपलब्ध हो जाने पर शुरू किया जाएगा.

दूसरी ओर बुधवार को स्वदेशी कोरोना वैक्सीन कोवाक्सिन के पहले फेज के क्लीनिकल ट्रायल के परिणामों की आधिकारिक घोषणा कर दी गई. भारत बायोटेक और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR) द्वारा विकसित की जा रही वैक्सीन ह्यूमन ट्रायल में एंटीबॉडी पैदा करने में कामयाब रही है. साथ ही मानव शरीर पर इसका कोई साइड इफेक्ट भी देखने को नहीं मिला है. इस वैक्सीन को 2 से 8 डिग्री तापमान पर ही रखना होता है और यही वजह है कि इस वैक्सीन का देश में बेसब्री के साथ इंतजार किया जा रहा है.



दूसरी ओर अमेरिकी कंपनी फाइजर या मॉडर्ना की वैक्सीन के लिए टेंपरेचर कंट्रोल की व्यवस्था करना भी एक चैलेंज है. जहां Pfizer को -70 डिग्री तो वहीं मॉडर्ना को -30 डिग्री तापमान पर स्टोर करके रखना है. भारत बायोटेक की इस वैक्सीन का पहले चरण का क्लीनिकल ट्रायल सितंबर महीने में ही समाप्त हो गया था, जिसके नतीजे अब सार्वजनिक किए गए हैं.

प्रधानमंत्री मोदी ने हाल ही में भारत बायोटेक का दौरा किया था. अपने दौरे के बाद प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया था, 'हैदराबाद में भारत बायोटेक कंपनी में कोविड-19 के स्वदेशी टीके के बारे में जानकारी मिली. वैज्ञानिकों को अभी तक किए गए परीक्षण में प्रगति के लिए बधाई. उनकी टीम आईसीएमआर के साथ निकटता से काम कर रही है.'
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज