कोरोना वैक्सीन के लिए स्वस्थ युवाओं को करना होगा 2022 तक इंतजार: WHO

विश्व स्वास्थ्य संगठन की चीफ साइंटिस्ट ने यह बात कही है. (फाइल फोटो)
विश्व स्वास्थ्य संगठन की चीफ साइंटिस्ट ने यह बात कही है. (फाइल फोटो)

एक सोशल मीडिया इवेंट के दौरान WHO की चीफ साइंटिस्ट सौम्या स्वामीनाथन (Dr Soumya Swaminathan) ने कहा है कि- वैक्सीन की शुरुआत हेल्थकेयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स से किए जाने को लेकर ज्यादातर लोग सहमत हैं. लेकिन इसमें भी हमें प्राथमिकताएं तय करनी होंगी कि किसे सबसे ज्यादा रिस्क है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 15, 2020, 9:49 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. स्वस्थ युवा लोगों को कोरोना वैक्सीन के लिए 2022 तक का इंतजार करना पड़ सकता है. ऐसा कहना है विश्व स्वास्थ्य संगठन की चीफ साइंटिस्ट (WHO chief scientist) सौम्या स्वामीनाथन (Dr Soumya Swaminathan) का. एक सोशल मीडिया इवेंट के दौरान उन्होंने कहा है- वैक्सीन की शुरुआत हेल्थकेयर और फ्रंटलाइन वर्कर्स से किए जाने को लेकर ज्यादातर लोग सहमत हैं. लेकिन इसमें भी हमें प्राथमिकताएं तय करनी होंगी कि किसे सबसे ज्यादा रिस्क है.

हमें तय करनी होंगी प्राथमिकताएं
उन्होंने कहा कि वैक्सीन को लेकर बहुत तरह के सुझाव सामने आ रहे हैं. लेकिन मेरा मानना है कि स्वस्थ और युवा लोगों को वैक्सीन के लिए 2022 तक का इंतजार करना पड़ेगा. सौम्या विश्वनाथन ने कहा कि ज्यादातर लोग सोच रहे हैं कि कब वैक्सीन आए और वो उसका डोज लेकर नॉर्मल लाइफ शुरू करें. लेकिन सच में ऐसा नहीं होने वाला. वैक्सीन आने के साथ ही प्राथमिकताएं तय की जाएंगी जिनमें हेल्थ केयर वर्कर्स, फ्रंट लाइन वर्कर्स और उम्रदराज लोग प्राथमिकता पर होंगे.

रूस और चीन भी प्राथमिकता के आधार पर कर रहे हैं टीकाकरण
गौरतलब है कि वैक्सीन बना लेने का दावा करने वाले चीन और रूस जैसे देशों में भी टीकाकरण के लिए प्राथमिकता तय की जा रही हैं. रिपोर्ट्स में बताया गया कि चीन ने अपनी सेना के अधिकारियों, हेल्थ स्टाफ को सबसे पहली प्राथमिकता पर रखा है. वहीं रूस ने फ्रंटलाइन वर्कर्स, उम्रदराज लोगों के अलावा पत्रकारों को भी कोरोना वैक्सीन की प्राथमिकता में रखा है.



भारत में अगले साल की शुरुआत में आ सकती है वैक्सीन
भारत में भी इसके लिए के लिए प्राथमिकताएं तय की जाएंगी. स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्द्धन ने पीएम मोदी के साथ हुई बैठक में वैक्सीन वितरण की प्रक्रिया को विस्तार में समझाया है. स्वास्थ्य मंत्री बता चुके हैं कि भारत में अगले साल की शुरुआत में कोरोना वैक्सीन उपलब्ध हो सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज