• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • COVID-19 Vaccine: कैसे पूरा होगा 2021 में सभी वयस्कों को वैक्सीन देने का लक्ष्य? सामने हैं तीन बड़ी चुनौतियां

COVID-19 Vaccine: कैसे पूरा होगा 2021 में सभी वयस्कों को वैक्सीन देने का लक्ष्य? सामने हैं तीन बड़ी चुनौतियां

ग्रामीण इलाकों में आई टीकाकरण में तेजी ने सरकार को उत्साहित किया है कि दिसंबर के अंत तक लक्ष्य के बड़े हिस्से को पूरा किया जा सकता है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: AP)

ग्रामीण इलाकों में आई टीकाकरण में तेजी ने सरकार को उत्साहित किया है कि दिसंबर के अंत तक लक्ष्य के बड़े हिस्से को पूरा किया जा सकता है. (प्रतीकात्मक तस्वीर: AP)

Vaccination in India: अनुमान लगाया जा रहा था कि जुलाई का टीकाकरण स्तर जून के करीब 12 करोड़ डोज की तरह ही होगा. हालांकि, 21 जून से लागू हुई नई नीति (Vaccine Policy) के बाद भी सप्लाई एक बड़ा मुद्दा बना हुआ है और वैक्सीन को लेकर लोगों की झिझक भी बरकरार है.

  • Share this:

नई दिल्ली. जुलाई खत्म होने को है और इसी के साथ देश में शुरू हुए टीकाकरण (Covid-19 Vaccination) को साढ़े 6 महीनों का वक्त भी पूरा हो रहा है. अनुमान लगाया जा रहा है कि महीने के अंत तक करीब 46 करोड़ डोज दिए जा होंगे. इस लिहाज से साल के अंत तक पूरी वयस्क आबादी को टीका लगाने का लक्ष्य हासिल करने के लिए अगले 5 महीनों में 142 करोड़ डोज और देने की जरूरत होगी. न्यूज18 से बातचीत में वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया है कि इस लक्ष्य को हासिल करना तीन बातों पर निर्भर करता है.

पहला, भारत बायोटेक की उत्पादन क्षमता में इजाफा क्योंकि देश कोवैक्सीन के 48 करोड़ डोज पर निर्भर है. दूसरा, बायोटेक-ई वैक्सीन को आपातकालीन इस्तेमाल की अनुमति. क्योंकि सरकार 30 करोड़ डोज के लिए कंपनी पर निर्भर है. सरकार ने इस पर एडवांस के तौर पर 1500 करोड़ रुपये निवेश भी किए हैं. तीसरा, लोगों का वैक्सीन को लेकर झिझक छोड़नी होगी और दिसंबर तक दोनों डोज हासिल कर लेनी होंगी.

अनुमान लगाया जा रहा था कि जुलाई का टीकाकरण स्तर जून के करीब 12 करोड़ डोज की तरह ही होगा. हालांकि, 21 जून से लागू हुई नई नीति के बाद भी सप्लाई एक बड़ा मुद्दा बना हुआ है और वैक्सीन को लेकर लोगों की झिझक भी बरकरार है. अगर यही स्थिति रही, तो देश की ज्यादातर वयस्क आबादी को साल के अंत तक पहला डोज लग सकेगा. जबकि, दूसरे डोज को लेकर काम जारी रहेगा.

कोवैक्सीन: एक रहस्य
भारत की वैक्सीन स्टोरी में अब तक मुख्य भूमिका कोविशील्ड ही निभाती हुई नजर आ रही है. देश में दिए गए 44 करोड़ डोज में से करीब 39 करोड़ कोविशील्ड के हैं. जबकि, कोवैक्सीन के मामले में यह आंकड़ा 5 करोड़ डोज से थोड़ा ज्यादा है. भारत बायोटेक को जुलाई के अंत तक 8 करोड़ वैक्सीन सप्लाई करने के आदेश दिए गए थे, लेकिन कंपनी ने 16 जुलाई तक 5.45 करोड़ डोज की आपूर्ति की है. कंपनी ने सरकार को बताया था कि उनकी मौजूदा उत्पादन क्षमता केवल 2.5 करोड़ डोज प्रति माह की है. जिसे जल्द ही बढ़ाकर हर महीने 5.8 करोड़ डोज किया जाएगा.

अब सवाल है कि क्या यह काफी होगा? सरकार की तरफ से सुप्रीम कोर्ट को दी गई जानकारी के हिसाब से ऐसा नहीं लगता. सरकार ने कोर्ट को बताया था कि वे अगस्त से दिसंबर के बीच कोवैक्सीन के 40 करोड़ डोज का अनुमान लगा रहे हैं. इसका मतलब है कि भारत बायोटेक को हर महीने 8 करोड़ डोज का उत्पादन करने की जरूरत होगी. हालांकि, फिलहाल कंपनी जुलाई तक 8 करोड़ डोज का पुराना ऑर्डर ही पूरा कर रही है. इसके बाद 16 जुलाई को केंद्र ने भारत बायोटेक को 28.5 करोड़ वैक्सीन का ऑर्डर दिया है, जिसकी शुरुआत अगस्त से हो रही है. बची हुई करीब 11.5 करोड़ कोवैक्सीन निजी क्षेत्र को दी जानी है.

यह भी पढ़ें: कोरोना महामारी में अनाथ हुए बच्‍चों को मिले पीएम केयर फंड की योजना का लाभ: सुप्रीम कोर्ट

चौथी वैक्सीन
कोविशील्ड, कोवैक्सीन और स्पूतनिक V के बाद सरकार बहुत उत्सुकता से बायोलॉजिकल-ई की तरफ से मिलने वाली चौथी वैक्सीन का इंतजार कर रही है. हालांकि, कंपनी की तरफ से इमरजेंसी यूज ऑथोराइजेशन (EUA) के लिए आवेदन किया जाना बाकी है. सरकार को उम्मीद है कि आवेदन अगस्त में दे दिया जाएगा. इसके अलावा सरकार ने ‘जोखिम के साथ’ उत्पादन शुरू करने के लिए बीते महीने कंपनी को 1500 करोड़ रुपये का एडवांस भी दे दिया है. सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि वे बायोलॉजिकल-ई से इस साल 30 करोड़ डोज की उम्मीद कर रहे हैं. संभावना जताई जा रही है कि यह आंकड़ा सरकार के 94 करोड़ वयस्कों को टीका देने के लक्ष्य को पूरा करने में अहम भूमिका निभाएगा.

स्पूतनिक V का आयात भी देश में मामूली स्तर पर बना हुआ है और आयात के बाद देश में रूसी वैक्सीन के अब तक 4.23 लाख डोज ही दिए जा सके हैं. सरकार स्पूतनिक V के 10 करोड़ डोज की सप्लाई को लेकर स्थानीय उत्पादन पर भरोसा कर रही है, जो सितंबर से शुरू होकर दिसंबर तक चलेगा. इसके अलावा जायडस कैडिला ने ईयूए के लिए आवेदन कर दिया है और अगर अनुमति मिलती है, तो यह भी अक्टूबर तक मौजूदगी दर्ज करा सकती है. केंद्र कंपनी पर 5 करोड़ डोज के लिए निर्भर है.

सीरम इंस्टीट्यूट से भी 2021 में 90 करोड़ डोज की सप्लाई पूरी करने की उम्मीद की जा रही है. कंपनी ने अब तक 40 करोड़ डोज दे दिए हैं और अगले पांच महीनों में 50 करोड़ डोज का वादा कर रही है. कंपनी की उत्पादन क्षमता प्रतिमाह 11 करोड़ डोज की है.

यह भी पढ़ें: COVID-19 in India: कोरोना के नए मामलों में भारी उछाल, 24 घंटों में मिले 43654 नए केस, 640 मरीजों की मौत

वैक्सीन को लेकर हिचक
वरिष्ठ सरकारी अधिकारियों ने माना है कि दिसंबर के अंत तक 94 करोड़ वयस्कों को टीका लगाने का लक्ष्य है. ऐसे में यह भी मुमकिन है कि हिचक के चलते कई लोग वैक्सीन लेने ना पहुंचें. एक वरिष्ठ अधिकारी ने न्यूज18 को बताया कि सरकार का लक्ष्य सभी ‘इच्छुक’ वयस्कों का टीकाकरण करना हो सकता है. उन्होंने कहा, ‘कई महीनों तक पात्र रहने के बाद कई हेल्थ और फ्रंटलाइन वर्कर एक या दो डोज के लिए नहीं आए. यह दिखाता है कि भले ही आप सभी वयस्कों का 100 फीसदी टीकाकरण चाहते हैं, लेकिन यह काम पूरा नहीं हो सकता. वरिष्ठ नागरिकों में भी कई ऐसे हैं, जिन्होंने अभी तक पहला डोज ही नहीं लिया है. हालांकि, 18-44 आयुवर्ग में वैक्सीन की मांग ज्यादा है.’

अगर यही स्थिति रही, तो देश की ज्यादातर वयस्क आबादी को दिसंबर के अंत तक पहला डोज लग सकेगा. जबकि, दूसरे डोज को लेकर काम जारी रहेगा. हाल ही में ग्रामीण इलाकों में आई टीकाकरण में तेजी ने सरकार को उत्साहित किया है कि दिसंबर के अंत तक लक्ष्य के बड़े हिस्से को पूरा किया जा सकता है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज