• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • कोरोना वैक्सीन फर्जीवाड़ाः इन 5 तरीकों से खुद को सुरक्षित कर सकते हैं आप

कोरोना वैक्सीन फर्जीवाड़ाः इन 5 तरीकों से खुद को सुरक्षित कर सकते हैं आप

को-विन को कोविड टीकाकरण की रणनीति, कार्यान्वयन, निगरानी और मूल्यांकन के लिए विकसित किया गया है.

को-विन को कोविड टीकाकरण की रणनीति, कार्यान्वयन, निगरानी और मूल्यांकन के लिए विकसित किया गया है.

Coronavirus Vaccination: देश में टीकाकरण कार्यक्रम शुरू होने के बाद से वैक्सीन फर्जीवाड़ा और फर्जी कोविन पोर्टल कुकुरमुत्तों की तरह उग आए हैं. ऐसे में इनके बारे में सतर्क रहना बेहद जरूरी है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी की शुरुआत और लॉकडाउन (Lockdown) की घोषणा के बाद से फर्जीवाड़ा करने वाले एक्टिव हैं. पहले जहां मास्क और सैनिटाइजर को लेकर फर्जीवाड़ा चल रहा था, वहीं अब फर्जी वैक्सीन और टीकाकरण के लिए बुकिंग में फर्जीवाड़ा देखने को मिल रहा है. केंद्र सरकार द्वारा कोविन पोर्टल (Co-WIN) और ऐप लॉन्च किए जाने के बाद फर्जीवाड़े के मामलों में तेजी से इजाफा हुआ है. आइए आपको बताते हैं कि किन चीजों से रहना है सावधान-

    फर्जी वेबसाइट्सः महामारी के कोलाहल में सबको टीका लगवाना है. सरकार ने टीकाकरण के लिए कोविन पोर्टल लॉन्च किया है, जिसके जरिए देश भर में कहीं भी वैक्सीन के लिए बुकिंग की जा सकती है. इसका फायदा उठाते हुए जालसाजों ने फेक कोविन वेबसाइट्स बना ली हैं. इस तरह की वेबसाइट की पहचान इनके यूआरएल से की जा सकती है. फर्जी वेबसाइट्स के यूआरएल में ज्यादातर 'Co-Vin' रहता है, इससे साफ हो जाता है कि वेबसाइट फर्जी है.

    अनाधिकारिक ऐपः वेबसाइट के अलावा लोगों के साथ फर्जीवाड़ा करने के लिए फेक मोबाइल एप्लीकेशन भी आ गए हैं. इन ऐप्स की पहचान इनके 'आइडेंटिफिकेशन नेम' के साथ की जा सकती है, जिसका अंत '.apk' से होता है. टीकाकरण लगवाने लोगों को सलाह है कि सिर्फ आधिकारिक Co-WIN ऐप ही डाउनलोड करें.

    3. फर्जी नोटिफिकेशनः जालसाज लोगों को धोखा देने के लिए किसी भी तरह की गुंजाइश नहीं छोड़ रहे हैं. इन जालसाजों ने पुराने तरीके के मैसेज और एसएमएस को भी फर्जीवाड़ा करने का जरिया बना रखा है. भोपाल पुलिस ऐसे ही वैक्सीन से जुड़े एक मामले की जांच कर रही हैं, जिसमें जालसाजों ने खुद को सरकारी एजेंट बताते हुए लोगों से वैक्सीन के बदले पैसा ऐंठने की कोशिश की. इन लोगों ने आधिकारिक मैसेज भी दिखाएं और बैंक अकाउंट में पैसा डालने के लिए लोगों के साथ ओटीपी भी शेयर की.

    4. जागरूक रहें, सतर्क रहेंः वेबसाइट्स और ऐप के अलावा भी तमाम तरह के पोर्टल और प्लेटफॉर्म हैं, जिनको लेकर सतर्क रहने की जरूरत है. सरकारी अधिकारियों ने इन वेबसाइट्स को लेकर सतर्क किया है. इन सबके अलावा जालसाज फोन कॉल और सोशल मीडिया के जरिए भी लोगों को ठगी का शिकार बना सकते हैं.

    5. टीकाकरण के बारे में जानें सबकुछ
    किसी भी तरीके के फर्जीवाड़े से बचने के लिए आधिकारिक कोविन पोर्टल पर ही बुकिंग करें या मोबाइल ऐप का इस्तेमाल करें. रजिस्ट्रेशन के बाद ही आप वैक्सीनेशन के लिए स्लॉट बुक कर सकते हैं. रजिस्ट्रेशन से पहले आपको अपना मोबाइल नंबर दर्ज करना होगा और इसके बाद आपको ओटीपी प्राप्त होगा. फिर आप स्लॉट बुक कर सकेंगे. बुकिंग के बाद एक कन्फर्मेशन मैसेज आएगा. वैक्सीनेशन होने के बाद आपको अगली खुराक के बारे में मैसेज प्राप्त होगा और यह भी पुष्टि होगी कि आपको पहली खुराक लग चुकी है. टीकाकरण के लिए Co-WIN पोर्टल और ऐप ही सबसे भरोसेमंद हैं.

    इसके अलावा आप पेटीएम के जरिए भी वैक्सीन के लिए बुकिंग कर सकते हैं. इसके लिए आपको वैक्सीन फाइंडर टूल का इस्तेमाल करना होगा, जोकि फीचर्ड सेक्शन के तहत मौजूद है. इसके जरिए आप वैक्सीनेशन सेंटर की पहचान कर सकते हैं. आपको अपना पिन कोड और जिले का नाम दर्ज करना होगा. साथ ही उम्र वर्ग भी बताना होगा. बुक नाऊ बटन पर क्लिक करते कि कोविन पोर्टल खुलेगा, जहां आपका वेरिफिकेशन होगा और फिर आप बुकिंग कर सकेंगे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज