अपना शहर चुनें

States

Corona Vaccine: कोरोना वैक्सीन के लिए भारत को प्राथमिकता देने का निर्देश, धैर्य रखें बाकी देश- अदार पूनावाला

सीरम इंस्टीट्यूट  के CEO अदार पूनावाला
सीरम इंस्टीट्यूट के CEO अदार पूनावाला

Covid-19 Vaccine: सीरम इंस्टीट्यूट के सीईओ अदार पूनावाला (Adar Poonawalla) ने कहा है कि उनकी कंपनी को पहले भारत में वैक्सीन की सप्लाई को लेकर प्राथमिकता देने का आदेश दिया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 21, 2021, 2:02 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना की वैक्सीन को लेकर दुनिया के कई देशों की निगाहें भारत पर टिकी हैं. खास कर ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी-एस्ट्राजैनेका की वैक्सीन कोविशील्ड (Covishield) की डिमांड पूरी दुनिया में है. खास बात ये है कि भारत में इसे तैयार करने वाली कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट का विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के साथ करार है. ऐसे में कई देशों को यहां तैयार होने वाली वैक्सीन की सप्लाई की जाती है. लेकिन फिलहाल कई देशों को वैक्सीन की खेप नहीं मिली है. ऐसे में सीरम इंस्टीट्यूट के CEO अदार पूनावाला (Adar Poonawalla) ने कहा है कि उनकी कंपनी को पहले भारत में वैक्सीन की सप्लाई को लेकर प्राथमिकता देने का आदेश दिया गया है. ऐसे में उन्होंने दुनिया के दूसरे देशों को धर्य रखने के लिए कहा है.

पूनावाला ने ट्वीट करते हुए लिखा, 'जो देश और सरकारें हमारे वैक्सीन कोविशील्ड की आपूर्ति का इंतजार कर रहे हैं, मैं विनम्रतापूर्वक आपसे अनुरोध करता हूं कि कृपया धैर्य रखें. दरअसल सीरम इंस्टीट्यूट भारत की बडे़ जरूरतों को प्राथमिकता देने के लिए कहा गया है. हम अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रहे हैं कि वैक्सीन कि सप्लाई को लेकर एक बैलेंस बना रहे.'

पूनावाला की अपील




अदार पूनावाला ने बताया कि कंपनी ने पहले से 4 से 5 करोड़ कोविशील्ड वैक्सीन की डोज तैयार कर रखी हैं. उन्होंने कहा कि ये केंद्र सरकार पर निर्भर करेगा कि उन्हें वैक्सीन की कितनी मात्रा और कितनी जल्दी चाहिए. एशिया के सबसे बड़े वैक्सीन निर्माता ने कहा कि जुलाई 2021 तक वैक्सीन की 30 करोड़ डोज तैयार करने का लक्ष्य है. भारत की वैक्सीन डिप्लोमेसी की पूरी दुनिया में तारीफ हो रही है. इंटरनेशनल मीडिया से लेकर अंतरराष्ट्रीय नेताओं ने भारत की खुले दिल से तारीफ की है.

बता दें कि COVAX ने एस्ट्राजैनेका और सीरम से एडवांस खरीदी समझौते पर साइन किए हैं. ये घोषणा भी की है कि वो साल के मध्य तक करीब 350 मिलियन डोज बांटेंगे. हालांकि, भारत में इस वैक्सीन को अनुमति मिल गई है. जबकि, विश्व स्तर पर इस्तेमाल किए जाने को लेकर इसे अभी COVAX से अनुमति लेना बाकी है. अप्रैल में WHO ने COVID-19 की वैक्सीन के निर्माण में तेजी लाने के उद्देश्य से एक COVAX सुविधा शुरू की थी, जिसे लेकर संगठन ने सभी देशों से इसमें शामिल होने की अपील की थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज